IBN7IBN7

धर्म-कर्म होम

स्कंद षष्टी पर कैसे रखें व्रत-कैसे करें पूजा

Published on Nov 27, 2014 at 17:20 | Updated Nov 27, 2014 at 17:54
0 IBNKhabar Google Buzz

नई दिल्ली। स्कंद षष्ठी का व्रत कार्तिक महीने में कृष्ण पक्ष की षष्ठी को किया जाता है। यह व्रत 'संतान षष्ठी' नाम से भी जाना जाता है। स्कंद षष्ठी के अवसर पर शिव-पार्वती को पूजा जाता है। स्कंदपुराण के नारद-नारायण संवाद में संतान प्राप्ति और संतान की पीड़ाओं का शमन करने वाले इस व्रत का विधान बताया गया है। एक दिन पूर्व से उपवास करके षष्ठी को कार्तिकेय की पूजा करनी चाहिए। कहते हैं कि स्कंद षष्ठी की उपासना से च्यवन ऋषि को आंखों की ज्योति प्राप्त हुई। ब्रह्मवैवर्त पुराण में बताया गया है कि स्कंद षष्ठी की कृपा से प्रियव्रत का मृत शिशु जीवित हो गया था। स्कंद षष्ठी पूजा की पौराणिक परंपरा है।

भगवान शिव के तेज से उत्पन्न बालक स्कंद की छह कृतिकाओं ने स्तनपान करा कर रक्षा की थी। तमिल प्रदेश में स्कंद षष्ठी महत्त्वपूर्ण है और इसका संपादन मंदिरों या किन्हीं भवनों से होता है। प्राचीनता एवं प्रमाणिकता इस व्रत की प्राचीनता एवं प्रामाणिकता स्वयं परिलक्षित होती है। इस कारण यह व्रत श्रद्धाभाव से मनाया जाने वाले पर्व का रूप धारण करता है। स्कंद षष्ठी के संबंध में मान्यता है कि राजा शर्याति और भार्गव ऋषि च्यवन का भी ऐतिहासिक कथानक इससे जुड़ा है। कहते हैं कि स्कंद षष्ठी की उपासना से च्यवन ऋषि को आंखों की ज्योति प्राप्त हुई। ब्रह्मवैवर्त पुराण में बताया गया है कि स्कंद षष्ठी की कृपा से प्रियव्रत का मृत शिशु जीवित हो जाता है। स्कंद षष्ठी पूजा की पौरांणिक परंपरा है। भगवान शिव के तेज से उत्पन्न बालक स्कंद की छह कृतिकाओं ने स्तनपान करा कर रक्षा की थी। इनके छह मुख हैं और उन्हें 'कार्तिकेय' नाम से पुकारा जाने लगा। पुराण व उपनिषद में इनकी महिमा का उल्लेख मिलता है।

27 नवंबर राशिफल: धनु- रहन सहन संवरेगा

  • ibnkhabar.com
Published on Nov 27, 2014 at 07:37
0 IBNKhabar Google Buzz

ज्योतिषी पंडित अरुणेश कुमार शर्मा

मेष- पद प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। कामकाज संवार पर रहेगा। सभी का सहयोग मिलेगा। जिम्मेदारियों को सहजता से निभाएंगे। सुख सुविधाएं बढ़त पर रहेंगी। दिन श्रेष्ठ।

आज ही के दिन हुआ था राम-सीता का विवाह

Published on Nov 26, 2014 at 14:01 | Updated Nov 26, 2014 at 17:04
0 IBNKhabar Google Buzz

नई दिल्ली। आज विवाह पंचमी है श्री राम और माता सीता के विवाह का दिन। मार्गशीर्ष पंचमी को श्री पंचमी और विवाह पंचमी भी कहा जाता है। मान्यता है कि लगभग 9 लाख साल पहले त्रेता युग में मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी को राम-जानकी विवाह संपन्न हुआ था। उस दिन सोमवार और श्रवण नक्षत्र था। सौभाग्य से इस साल भी राम-जानकी विवाह का दिन सोमवार है और नक्षत्र भी श्रवण है।

भगवान श्रीराम और माता जानकी का विवाह ब्राह्म विवाह कहलाता है। ऐसा कहा जाता है कि जानकी जी श्रीराम से 9 साल छोटी थीं। उन्होंने हमेशा राम जी का अनुसरण किया और उनसे कदम से कदम मिला कर चलीं। हमारी मर्यादा और शास्त्रों में श्रीराम और जानकी की जोड़ी को आदर्श माना गया है। लोग वर-वधू को आशीर्वाद देते समय यही कहते हैं कि सीता-राम के समान एक रहो।

26 नवंबर राशिफल: धनु- अपने खुशी बढ़ाएंगे

  • ibnkhabar.com
Published on Nov 26, 2014 at 08:03 | Updated Nov 26, 2014 at 08:07
0 IBNKhabar Google Buzz

ज्योतिषी पंडित अरुणेश कुमार शर्मा

देखें: वरद विनायक चतुर्थी पर कैसे करें पूजा

Published on Nov 25, 2014 at 16:07
0 IBNKhabar Google Buzz

नई दिल्ली। हिंदू पूजा-पाठों में विनायक चतुर्थी का सबसे ज्यादा महत्व है। हिंदू धर्मशास्त्रों और ज्योतिष विज्ञान के अनुसार चतुर्थी तिथि के स्वामी भगवान श्री गणेश हैं। इसलिए हिंदू पंचांग के हर महीने शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को वरद विनायक चतुर्थी का व्रत किया जाता है। यह चतुर्थी व्रत विनायकी चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। इस व्रत के नाम से ही इस व्रत का फल भी स्पष्ट हो जाता है।

(वीडियो देखें)

25 नवंबर राशिफल: कर्क- खर्च पर अंकुश रखें

  • ibnkhabar.com
Published on Nov 25, 2014 at 07:53 | Updated Nov 25, 2014 at 08:04
0 IBNKhabar Google Buzz

ज्योतिषी पंडित अरुणेश कुमार शर्मा

मेष- भाग्य की मेहरबानियां बनी रहेंगी। कार्यक्षेत्र में शुभ संकेत बने रहेंगे। आस्था और आत्मविश्वास से महत्वपूर्ण कामों को आगे बढ़ाएंगे। दिन श्रेष्ठ फलकारक। सक्रियता बनाए रखें।

24 नवंबर राशिफल: सिंह- प्रेम में सफलता

  • ibnkhabar.com
Published on Nov 24, 2014 at 07:58
0 IBNKhabar Google Buzz

ज्योतिषी पंडित अरुणेश कुमार शर्मा

मेष- सहजता से आगे बढ़ें। अनुकूलनता और उत्तरोत्तर बढ़ती सकारात्मकता का लाभ उठाएं। आगामी कुछ दिन करियर कारोबार के लिए हितकारक।

23 नवंबर राशिफल: मिथुन- खर्च पर अंकुश रखें

  • ibnkhabar.com
Published on Nov 23, 2014 at 09:27 | Updated Nov 23, 2014 at 09:44
0 IBNKhabar Google Buzz

ज्योतिषी पंडित अरुणेश कुमार शर्मा

मेष- जल्दबाजी में कोई कार्य न करें। आत्मविश्वास की कमी बनी रह सकती है। कम बोलें ज्यादा करें की नीति पर चलें। गरिमा-गोपनीयता का ध्यान रखें। दिन सामान्य फलकारक।

देखें: कैसे करें शनिदेव को खुश, कैसे करें पूजा

Published on Nov 22, 2014 at 16:26 | Updated Nov 22, 2014 at 16:37
0 IBNKhabar Google Buzz

नई दिल्ली। आज शनिवार है और आज का दिन है 22 नवंबर 2014 आज एक विशेष संयोग बन रहा है। आज के दिन विशाखा नक्षत्र दोपहर तक रहेगा, जिसका स्वामी देवगुरु बृहस्पति है और दोपहर बाद अनुराधा नक्षत्र रहेगा, जिसका स्वामी शनि खुद है। यानी गुरु, धर्म के साथ पुण्य प्रदान करेगा और शनि न्याय के साथ सिद्धि देगा।

शनि अमावस्या के दिन शनिदेव की पूजा-अर्चना करने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। कालसर्प योग, ढैय्या और साढ़े साती सहित शनि संबंधी अनेक बाधाओं से मुक्ति पाने का यह दुर्लभ समय है। जब, शनिवार के दिन अमावस्या का समय हा तो इसे शनि अमावस्या कहा जाता है। इस दिन शनि देव की पूजा सभी मनोकामनाएं पूरी करता है।

22 नवंबर राशिफल: वृश्चिक- संकल्पशक्ति बढ़ेगी

  • ibnkhabar.com
Published on Nov 22, 2014 at 08:04
0 IBNKhabar Google Buzz

ज्योतिषी पंडित अरुणेश कुमार शर्मा

मेष- आवश्यक कार्यों को शीघ्रता से पूरा करने की कोशिश करें। घर परिवार में सुख सौख्य बना रहेगा। मेहनत के अनुरूप प्रतिफल मिलेगा। दिन सामान्य से शुभकारक।

IBN7IBN7