भो, ज, जा, जी, जे, जो, जै, जं, ख, खी, खू, खो, ग, गा,गी । इनके शरीर से से नीचे का भाग अर्थात कमर से पैर तक का भाग कृश होता है। किन्तु ऐसे व्यक्ति में सत्व (शारीरिक, मानसिक व आत्मिक शक्ति) काफी होती है। ऐसे व्यक्ति दुसरों की बात मानते हैं किन्तु स्वभाव से आलसी होते हैं। ऐसे लोग भाग्यवान होते हैं।

मकर- भवन वाहन और संसाधनों पर जोर बना रह सकता है। बड़ों से निकटता बढ़ेगी। अपनों को अधिकाधिक सम्मान और स्नेह दें। कार्यक्षेत्र में शुभता रहेगी।