रवि प्रताप दुबे
Thursday , September 11, 2014

बंदगी के रास्ते गंदगी


0 IBNKhabar

उत्तर प्रदेश में मिर्जापुर के विंध्याचल में मां दुर्गा के धाम की बड़ी महत्ता है। इस क्षेत्र के और यहां से जुड़े लाखों श्रद्धालु, प्रतिवर्ष यहां आकर मां शक्ति के दर्शन करते हैं। मंदिर से कुछ ही दूर अविरल बहती गंगा है जिसके घाट पर नहाकर लोग मुख्य पीठ पूजा करने आते हैं। न केवल पूजा पाठ बल्कि यहां पर हिंदू धर्म से जुड़े तमाम संस्कार मसलन मुंडन, क्षेदन, जनेऊ भी होते हैं। बेहद सुंदर, मनोरम और आस्था विश्वास से भरा देवी स्थल है विंध्याचल धाम। बचपन से लेकर आज तक पिछले 25 साल से मैं यहां जा रहा हूं और परिवार तो पीढ़ियों से यहां जा रहा है। पिछले नवरात्र में हम फिर से यहां दर्शन करने गए। पर मन में एक टीस उठी जिसका जिक्र ज़रूरी है। और ये बात केवल एक विंध्याचल धाम की नहीं, तमाम हिंदू धार्मिक स्थलों की है। मां विंध्यवासिनी मंदिर के आसपास....

Monday , September 08, 2014

पड़ोस में आग


0 IBNKhabar

पुरानी कहावत है कि अगर आपके पड़ोस में आग लगी है तो लपटें आप तक भी आएँगी ही। हमसाया मुल्क पाकिस्तान आजकल सियासी आग में जबरदस्त तरीके से जल रहा है। सिर्फ 11 महीने पहले जबर्दस्त बहुमत के साथ सत्ता में आने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने शायद ही कभी सोचा होगा कि एक साल के अन्दर ही उनकी पार्टी को इस कदर झटके लगेंगे कि जमी जमाई सरकार ही खतरे में आ जाएगी। पकिस्तान में हो रहे इस हंगामे की आंच भारत में भी दिखने लगी है। कई जानकार पिछले कुछ दिनों सीमा पर हुई गोलीबारी के पीछे पाकिस्तान की अंदरूनी अशांति ही देख रहे है। दरअसल पकिस्तान में आये इस सियासी तूफ़ान के पीछे तीन बड़े किरदार है। पहले किरदार है पाकिस्तान में मुख्य विपक्षी पार्टी तहरीक-ए-इन्साफ के नेता और पूर्व क्रिकेटर इमरान खान जिन्होंने हजारो की भीड़ के सामने एलान किया कि सबसे पहले वो सपनो....

Tuesday , March 04, 2014

यूक्रेन, युद्ध, और दुनिया की बदहाली


0 IBNKhabar

युद्ध भले ही दुनिया के किसी भी कोने में हो, लेकिन उसका व्यापक असर सभी मुल्कों और उनकी अर्थव्यवस्था पर पड़ता है। आज के ग्लोबल कनेक्टीविटी वाले युग में विश्व में घटने वाली हर घटना का सीधा असर हमारी जेब पर जरूर पड़ता है। ऐसा ही मामला यूक्रेन में देखने को मिला है, यहां युद्ध के बादल क्या घिरे, दूर भारत में इसका असर साफ दिखाई दिया। युद्ध के खतरे के डर से मुंबई का सेंसेक्स औंधे मुंह गिरा। यूक्रेन में उपजे इस संकट से पूरी ग्लोबल इकोनॉमी को खतरा है, क्योंकि इस बार दुनिया की दो सबसे बड़ी शक्ति रूस और अमेरिका आमने-सामने हैं। यूक्रेन के आर्थिक हालात तो पहले से ही खस्ता हैं, लेकिन अब रूस के शेयर बाजार में 12 फीसदी की गिरावट देखी गई है। सबसे बड़ा खतरा ये है कि अगर युद्ध छिड़ा तो दुनिया फिर से दो ध्रुवों में बंट जाएगी। अमेरिका और रूस....

Wednesday, September 25, 2013

अफ्रीका में पैर पसारता आतंकवाद


0 IBNKhabar

अब तक प्राप्त जानकारी के मुताबिक नैरोबी के शॉपिंग मॉल पर हमले में 72 लोगों की मौत हो चुकी है। इस हमले के पीछे सोमालियाई जेहादी गुट अल-शबाब का हाथ देखा जा रहा है और माना जा रहा है कि सोमालिया में केन्याई सेनाओं की दखलंदाजी के चलते उसने इस नर संहार को अंजाम दिया। अल-शबाब बहुत पहले से सोमालिया में संयुक्त राष्ट्र के समर्थन वाली कमजोर सरकार को हटाने की लड़ाई लड़ रहा है। पर केन्या में शॉपिंग मॉल में हुआ हमला तो अफ्रीका में पैर पसार रहे आतंकवाद की सिर्फ एक कड़ी है। इससे पहले नैरोबी और तंजानिया की राजधानी दारस्सलाम में ही अमेरिकी दूतावास पर हमला हुआ था जिसमें 200 लोगों की जान गई थी। दिसम्बर 2007 में संयुक्त राष्ट्र संघ के अल्जीरियाई मुख्यालय पर हुए हमले में संयुक्त राष्ट्रसंघ के 17 प्रतिनिधियों समेत 37 लोग मारे गए थे। नाइजीरिया और युगांडा में खूनी संघर्ष अपने चरम....

Wednesday, September 04, 2013

सीरिया पर घमासान


0 IBNKhabar

कुछ ही महीने पहले उत्तरी कोरिया के चलते एक अनचाहे युद्ध के बादल पूरी दुनिया पर मंडरा रहे थे और आज यही हाल सीरिया की वजह से है। दक्षिण पश्चिम एशिया में हो रही घटनाएं पूरी दुनिया पर असर डाल रही हैं और भारत भी इससे अछूता नहीं है। एक अफवाह उड़ी कि अमेरिका ने सीरिया पर मिसाइल छोड़ दी और मुंबई में दलाल स्ट्रीट का चेहरा उतर गया। पहले से ही खस्ता हाल सेंसेक्स औंधे मुंह गिर पड़ा। पर ये तो एक बानगी है, अगर समय रहते सीरिया के हालात नहीं सुधरे तो आने वाला वक़्त हमारे आपके लिए और मुश्किल हो सकता है। दरअसल गृहयुद्ध में लम्बे वक़्त से फंसे सीरिया के आज के हालात में दो सबसे बड़े टर्निंग पॉइंट हैं। पहला राष्ट्रपति असद का घरेलू संघर्ष में अपने ही लोगों के खिलाफ रासायनिक हथियारों का तथाकथित रूप से प्रयोग करना और दूसरा इन कैमिकल हथियारों....

Thursday , May 09, 2013

पाकिस्तान चुनाव-बदलाव की बयार


0 IBNKhabar

मई का महीना पाकिस्तान के लिए कुछ ज्यादा ही गर्म है। पूरे पाकिस्तान में चुनाव प्रचार अपने शबाब पर है। पाकिस्तान के लिए ये चुनाव बहुत अहम हैं क्योंकि इस चुनाव को पाकिस्तान के भविष्य के लिए एक 'गेम चेंजर' के तौर पर देखा जा रहा है और माना जा रहा है कि लोकतांत्रिक बदलाव के लिए ये चुनाव मील का पत्थर साबित होंगे। पाकिस्तान के 66 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई सरकार ने पांच साल के अपने कार्यकाल को पूरा किया। ऐसे में इन चुनावों की महत्वत्ता अपने आप में बढ़ जाती है। 11 मई को होने जा रहे इन चुनावों में अवाम नेशनल और प्रांतीय एसेंबली दोनों के लिए अपने नुमाइंदे चुनेगी। यूं तो किताबी परिभाषा में किसी भी चुनाव में सबसे महत्वपूर्ण होता है चुनावी मुद्दे, राजनीतिक दल और उन दलों का नेतृत्व करते नेता। लेकिन जमीनी....

Monday , August 20, 2012

अलविदा लक्ष्मण


0 IBNKhabar

कलाई के जादूगर वीवीएस लक्ष्मण का एक स्ट्रोक मैं कभी नहीं भूल सकता। जेसन गिलस्पी की एक गेंद जो 'ऑफ स्टंप' पर लगभग वाइड थी उसे उन्होंने 'लेग स्टंप' पर 4 रनों के लिए भेज दिया - बिना किसी मुश्किल के- बेहद आराम से। एक कलाकार के लिए दो गुण होना सबसे ज्यादा ज़रूरी हैं। पहली नैसर्गिक कला और दूसरी उस पर मेहनत, पर लाज़मी तौर पर सबके पास सब कुछ नहीं होता। कुछ उसे ऊपर से लेकर आते हैं, कुछ उसे और निखारते हैं। जब मेहनती राहुल द्रविड़ ने अपने ग्लव्स टांगे तो मशहूर फैब 4 में से दूसरा विकट गिरा पर अफसोस कि हर बार की तरह इस बार नैसर्गिक कला के माहिर लक्ष्मण बचाने नहीं आए बल्कि उन्होंने भी पवेलियन का रुख कर लिया। वीवीएस की बैटिंग कुछ अलग थी। वो सहवाग कि तरह 'कसाई' नहीं हैं, वो द्रविड़ की तरह पसीना बहाते नहीं दीखते और न....

IBN7IBN7
IBN7IBN7

रवि प्रताप दुबे के बारे में कुछ और

पिछले 7 साल से पत्रकारिता से जुड़े रवि प्रताप दुबे ने अपनी शुरुवात स्टार न्यूज़ से की और करीब 5 साल वहां काम करने के बाद वर्तमान में वे IBN7 में प्रोड्यूसर पद पर कार्यरत हैं। मूलतः लखनऊ के रहने वाले रवि ने लखनऊ विश्वविद्यालय से फिलॉसफी में एमए किया और उसके बाद भारतीय विद्या भवन दिल्ली से पत्रकारिता में डिप्लोमा किया।
IBN7IBN7

IBN7IBN7

पिछली पोस्ट

    आर्काइव्स

    IBN7IBN7