अफसर अहमद
Thursday , January 30, 2014

राहुल, तुम्हें शर्म आनी चाहिए…!


0 IBNKhabar

फिर दंगे की बात उभर आई। इस बार आवाज 2002 दंगों की नहीं है। इस बार आवाज सन 1984 के दंगों की है। एक टीवी चैनल पर इंटरव्यू में पहली बार गांधी खानदान के चश्मो चिराग ने माना कि हां, कुछ कांग्रेसी भी इसमें शामिल रहे हो सकते हैं। बात शुरू हुई तो दूर तक जाएगी। सबने सवाल उठाए कि जब मानते हो तो कोई ठोस कार्रवाई क्यों नहीं की। इसका कांग्रेसी बड़ा मरा हुआ सा तर्क देते फिर रहे हैं कि ये गुजरात की तरह प्रायोजित दंगा नहीं था। इसमें सुप्रीम कोर्ट ने कोई एसआईटी नहीं बनाई। इसमें कई लोगों को सजा हुई है। कई कांग्रेसी जिन पर इनमें शामिल होने का शक था उनका करियर इससे प्रभावित हुआ है और ब्ला ब्ला ब्ला........ अजीब हालत है। मुझे बशीर साहब का एक शेर याद आता है। लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में तुम तरस नहीं....

Tuesday , January 14, 2014

मेरी मर्जी


0 IBNKhabar

व्यंग्य दोस्तो, दिनभर इतना कुछ घटता है कि रात में भी वही कुछ सपने में आता रहता है। एक दिन नारद जी मेरे सपने में आए। देखता हूं कि मैं एक न्यूजरूम में हूं और मैं उनका नहीं वो मेरा साक्षात्कार ले रहे थे। उनका पहला सवाल उन्हीं के शब्दों में- ये बताओ निखट्टू अफसर तुम आप पर स्टोरी क्यों कर रहे हो, टिकट चाहिए या आप का दामन थामना चाहते हो, फिर भवें टेढ़ी करते हुए- लोग तो कह रहे हैं कि तुमने माल खा लिया है, तुम्हीं बताओ कि तुम पत्रकार हो या पार्टियों के दलाल हो, अरे तुम हो कौन? नारद के सवालों के साथ-साथ मुझे जोर-जोर से हंसी आने लगी, नारद जी बहुत नाराज हो गए बोले- तुम कुछ हो न हो पर बदसूरत और बदमिजाज जरूर हो। मैं बोला- नारद जी सवाल का जवाब तो ले लो क्यों कुछ लोगों की तरह....

Monday , January 13, 2014

AAP का विजयरथ अटका सकते हैं मुस्लिम


0 IBNKhabar

दिल्ली फतह के बाद आम आदमी पार्टी लोकप्रियता के तूफान पर सवार है। देश के हर कोने में उसी की कामयाबी की चर्चा है। बीजेपी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी के स्वर मंद पड़े हैं। कांग्रेस, बीजेपी चिंतन गृह में पहुंच गई हैं और क्षेत्रीय पार्टियां अनिर्णय की स्थिति में हैं कि ये हो क्या रहा है। दिल्ली से जो सैलाब उठा है वो कहीं उनके दरवाजे तक न पहुंच जाए। चुनावी रणनीति का तुरुप का पत्ता अब AAP के पास है। इस पत्ते की काट कैसे हो इस पर हर तरफ विचार हो रहा है। लेकिन एक सवाल है जो AAP के विजय रथ में फच्चर लगा सकता है। वो है मुस्लिम फैक्टर। जी हां, मुस्लिम समाज का रुख AAP को मुश्किल में डाल सकता है। बिहार, यूपी और दिल्ली से मिल रही लोगों की राय आम आदमी पार्टी के लिए चिंता का कारण हो सकती है। मुस्लिम....

Thursday , January 09, 2014

आशुतोष, ‘आप’ और मीडिया


0 IBNKhabar

आज टीवी मीडिया के दिग्गज पत्रकार आशुतोष का इस्तीफा सोशल मीडिया और टीवी पर छाया रहा। कई लोगों ने उनके इस्तीफे और आप से जुड़ने की अटकलों पर सवाल उठाए। अन्य का ये कहना था कि ये सैद्धांतिक रूप से एक सही फैसला था जो सही समय पर लिया गया। पर क्या इससे आप को दी गई मीडिया कवरेज पर सवाल उठाना वाजिब है? 8 दिसंबर के बाद से आम आदमी पार्टी मीडिया में छाई हुई है। हर तरफ आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल की चर्चा हो रही है। चर्चा हो रही तो आलोचना भी होगी। तो जितने भी बड़ी पार्टियों के नेता हैं वो कह रहे हैं कि मीडिया बौरा गया है। देखो, कैसे आप पार्टी वालों की चापलूसी में लगा है। सुबह से लेकर शाम तक सिर्फ आप पर चर्चा करता रहता है। हां, बात तो सही है। ऐसा हो भी रहा है पर क्यों हो रहा....

Friday , December 27, 2013

अखिलेश जी! सैफई में करोड़ों का महोत्सव और गालिब के लिए कुछ भी नहीं?


0 IBNKhabar

बात करीब 14 साल पुरानी है। पत्रकारिता में नया-नया आया था। आगरा की पुरानी चीजों पर काम करते-करते मुझे मिर्जा गालिब को लेकर स्टोरी करने का मौका मिला। मैं खोजता बीनता गालिब की हवेली तक पहुंचा। रावतपाड़े के करीब मौजूद इस जगह पर गालिब साहब का जन्म हुआ था। इसे कभी सूरजभान की हवेली कहा जाता था। पहले ही बता दिया गया था कि इसे लेकर विवाद है। इसलिए संभल के जाना। मुझे खबर हर हालत में करनी थी। मैंने अपने साथी कैमरामेन को पहले ही सारी बात बता दी थी। मौका ताड़कर हम अंदर घुसे। कैमरामेन ने आव देखा न ताव दनादन कैमरे से शूट करना शुरू कर दिया। अभी मुश्किल से एक मिनट ही हुआ होगा। एक तेज आवाज आई की कि कैमरा बंद करो। मैंने कहा कि ये तो गालिब साहब की जन्मस्थली है। क्यों रोकें कैमरा। वो शख्स दनदनाता हुआ हमारे करीब आया और बोला- बंद....

Monday , December 09, 2013

दे झाड़ू....


0 IBNKhabar

बड़े दिनों बाद मैंने देश के राजनीतिक पटल पर ऐसा कुछ देखा है जो चौंका देने वाला है। देखता हूं कि कल दिन की शुरुआत तक बीजेपी, कांग्रेस और दूसरी क्षेत्रीय पार्टियों के बोलबाले के बीच एक नई राजनीतिक पार्टी का उभार हो गया। उसने जन्म ले लिया जिसकी चर्चा हम कुछ महीनों से कर रहे थे। जन्म होते ही उसकी किलकारी ने कई राजनीतिक दिग्गजों के चेहरे फक कर दिए। दोस्तो, मैं आप पार्टी के बारे में बात कर रहा हूं। करीब तीन साल पहले मैंने एक India@2050 लिखा था कि देश की मौजूदा दो बड़ी राजनीतिक पार्टियां कांग्रेस और बीजेपी आने वाले कुछ दशकों में या तो खत्म हो जाएंगी या फिर इनमें आमूल चूल परिवर्तन आ जाएगा। आप के राजनीतिक उदय के बाद आज मैं ये कह सकता हूं कि इनकी समाप्ति की उल्टी गिनती अब शुरू हो चुकी है। या तो ये अपने अंदर क्रांतिकारी....

Thursday , December 05, 2013

क्योंकि मोदी अल्पसंख्यक नहीं हैं…?


0 IBNKhabar

मैं जब कभी मुस्लिम समुदाय के लोगों से मिलता हूं। अधिकतर वो मुझे धार्मिक भेदभाव और दंगों पर बात करते हुए नजर आता हैं। मुझे अक्सर ये लगता है कि आखिर इनकी समस्या क्या है। ये शिक्षा पर बात क्यों नहीं करते, ये बिजनस पर बात क्यों नहीं करते, ये समाज में फैली कई बुराइयों पर बात क्यों नहीं करते सिर्फ ये ही बातें क्यों करते हैं। ये सिलसिला लंबा है। ये लोग अमूमन मुझे चौंकाते रहे हैं। मैं ऐसे लोगों से विगत में जमकर बहस करता रहा हूं पर क्या उनकी ये चिंता आधारहीन है? कोई भी आदमी जीवन में जिस बात से सबसे ज्यादा खौफजदा या परेशान होता है वो सबसे ज्यादा उसी पर बात करता है। हमें वो अजीब लगता है क्योंकि वो सबकी समस्या नहीं है। चलो एक सेकंड के लिए माइनोरिटी की ये बात छोड़ दीजिए जब महिलाएं हर वक्त अपने लिए सुरक्षा और बराबर....

Wednesday, November 20, 2013

मोदी जी, उस लड़की की जासूसी आपने क्यों करवाई?


0 IBNKhabar

मैं कई सालों से बीजेपी प्रवक्ताओं को देख रहा हूं। उनकी एक बात के लिए मैं तारीफ करूंगा कि बात कोई भी हो उनके आत्मविश्वास में मैंने कभी कमीं नहीं देखी। वो शानदार बोलते हैं और सामने वाले को कभी दबाव बनाने नहीं देते। तब भी नहीं जब मोदी पर आडवाणी की असहमति सामने आई थी। पर पहली बार ये क्रम टूटा है। गुजरात में महिला की जासूसी के मुद्दे पर मैंने पहली बार बीजेपी के प्रवक्ताओं को मजबूरी का डिफेंस करते हुए देखा। ऐसे वक्ता जो टीवी पर आसानी से आ जाते थे वो अब या तो बड़ी मुश्किल से आ रहे हैं या फिर 'गायब' हो जा रहे हैं। मेजेदार नजारा हो चुका है। कई न्यूज चैनल इस मुद्दे पर बीजेपी नेताओं को 'तलाश' रहे हैं। दो दिन पहले मैं टीवी पर देख रहा था बीजेपी की प्रवक्ता एक टीवी पर बहस के दौरान बार बार झुंझला रहीं....

Thursday , November 14, 2013

Thank you Sachin...!


0 IBNKhabar

सचिन अपना आखिरी टेस्ट खेलने के लिए वानखेड़े में पैवेलियन से मैदान की और बढ़ रहे हैं...लाखों नजरें उन्हीं की तरफ हैं...हर तरफ एक ही आवाज आ रही है सचिन .....सचिन....सचिन...! सचिन के सम्मान में पूरा स्टेडियम खड़ा हो गया है...सचिन जैसे ही मैदान में पहुंचते हैं...अभूतपूर्व रूप से वेस्टइंडीज की टीम उनके सम्मान में पंक्तिबद्ध होकर खड़ी हो जाती है....तब लगता है कि सचमुच ये सदी का महान खिलाड़ी है....! सोच के देखिए, सचिन इतना प्रभावित क्यों करते हैं। इसलिए कि वो एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं या फिर इसलिए कि वो एक अच्छे इंसान हैं। या फिर इसलिए कि वो देश की ओर से खेलकर हमें कई खुशियां दे चुके हैं। सचिन ने हमें कई बार मुस्कुराने का मौका दिया है। मुझे लगता है कि सचिन एक सोच है जिसमें खेल, सौम्यता, खुशी, राष्ट्रीय गर्व और ईमानदारी जैसे कई रंग शामिल हैं। सचमुच इन्हीं सबने मिलकर सचिन को महान....

Tuesday , November 12, 2013

आप करे तो करैक्टर ढीला, कांग्रेस-बीजेपी करे तो रासलीला...!


0 IBNKhabar

जून में एक दिन दोपहर के वक्त सूचना आयोग की तरफ से पार्टियों के चंदे को लेकर एक लाइन आई। शुरू में लगा कि होगा यूं ही पर जैसे-जैसे फैसले की डीटेल आई तो समझ आया कि ये तो बड़ा मामला है। पहली बार देश की कांग्रेस, बीजेपी समेत देश के कुछ बड़ी पार्टियों को आरटीआई के दायरे में लाने की बात कही गई। एक हैरत भरी खुशी हुई कि पूरे देश को रोज बातों की पट्टी पढ़ाने वाली पार्टियों का हिसाब किताब हम देख सकेंगे। उन्हें इस फैसले में अगले 6 हफ्ते के अंदर अपने यहां एक जनसूचना अधिकारी नियुक्त करने को कहा गया। इस फैसले के बाद एक बड़ी रोचक बात देखने को मिली। एक दूसरे को नेस्तनाबूद करने पर अमादा दिखने वाली कांग्रेस और बीजेपी यकायक एक स्वर में बोलने लगीं कि ये गलत है हम तो नियमों का पालन करते हैं। और फौरन ही संसद....

IBN7IBN7
IBN7IBN7

अफसर अहमद के बारे में कुछ और

एडिटर, आईबीएनखबर डॉट कॉम
IBN7IBN7

IBN7IBN7
IBN7IBN7