दारैन शाहिदी
Thursday , August 16, 2012

लंदन के भारतीय सितारे


0 IBNKhabar

लंदन में ओलंपिक्स खत्म हुए और भारत ने इतिहास में अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन इसके अलावा भी बहुत कुछ ऐतिहासिक हुआ और बहुत कुछ ऐसा हुआ जिससे भारतीय खेल प्रेमियों की आंखें खुल गईं। एक तो ये कि मीडिया कवरेज पहली बार ओलंपिक को लेकर इतना ज्यादा हुआ और पदक जीतने वालों का इस तरह से सम्मान हुआ जिसके वो सचमुच हकदार थे। क्रिकेट के लिए पागल इस देश में अब जाकर बाकी खेलों को थोड़ी बहुत पहचान मिल रही है। लेकिन अभी भी ऐसा लगता है कि बाकी खेलों के बारे में पत्रकार, जनता और खेल प्रेमी अनभिज्ञ हैं। बाकी खेलों को लेकर उदासीनता तब और ज्यादा समझ में आई जब मुक्केबाज या पहलवान रिंग में उतरे और उसके नियम को समझने में पत्रकार और आम जनता भी बगलें झांकते नजर आए। मुकाबला कब शुरू हुआ, कैसे शुरू हुआ, कब खत्म हुआ, कौन जीता....

Friday , February 18, 2011

कैसे रुकेगी वर्ल्ड कप में मैच फिक्सिंग?


0 IBNKhabar

भारतीयों के लिए बेशक विश्वकप किसी उत्सव से कम नहीं लेकिन ग्लैमर और रोमांच के बीच इस बड़े आयोजन का एक पहलू ऐसा भी है जिसने आईसीसी के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं। बात मैच फिक्सिंग की हो रही है। विश्वकप के भव्य आगाज के बीच ये चिंता दब जरूर गई है लेकिन खत्म नहीं हुई है। आईसीसी डरी हुई है कि कहीं फिक्सिंग का वायरस विश्वकप में न आ जाए। इसीलिए आईसीसी ने न सिर्फ अपनी गाइडलाइंस सख्त की हैं बल्कि ट्विटर जैसी साइटों को खिलाड़ियों की पहुंच से दूर रखने के लिए उन पर बैन लगा दिया है। अब खिलाड़ी वर्ल्डकप मैचों के दौरान ट्विटर का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। फिक्सिंग रोकने के लिए सुना है। आईसीसी ने एक फूल प्रूफ प्लान भी तैयार किया है। जिसके मुताबिक कई टीमों के खिलाड़ियों पर आईसीसी ने निगरानी बिठा दी है। रडार में तो सब हैं। ऑस्ट्रेलियन....

Tuesday , January 18, 2011

श्रीशांत को व्यवहार की वजह से निकालना गलत


0 IBNKhabar

सबसे पहले ये देखना होगा कि जो चयन हुआ है वो जितने विकल्प थे उनके हिसाब से हुआ है। पहले 30 संभावित खिलाड़ियों की लिस्ट बनी। उस लिस्ट में से ही 15 खिलाड़ियों को चुना गया। जो विकल्प थे उसमें कुछ ऐसे नाम थे जिन्हें आप नजरंदाज नहीं कर सकते जैसे कि सचिन, सहवाग, गंभीर, हरभजन और युवराज। उसके बाद जो विकल्प बचे वो सीमित थे। उसमें ये थे कि पार्थिव को लें या रोहित शर्मा को लें। तीन स्पिनर को रखें या नहीं। उसमें पीयूष का और आर. अश्विन का नाम था। हालांकि कई लोग कह रहे थे कि पीयूष को न रख कर किसी और को मौका दिया जा सकता था। मेरा मानना है कि टीम के चुनाव में कप्तान की भूमिका काफी अहम होती है। उनकी राय ली जाती है। धोनी ने पहले भी कहा था कि हम जिस ग्रुप में हैं उसमें इंग्लैंड जैसी मजबूत....

Monday , January 25, 2010

कसाब का बकरा


5 IBNKhabar

दिल्ली के जामा मस्जिद पर बकरे बिक रहे थे। एक से एक मोटे ताज़े। सबकी अलग-अलग कीमत थी। किसी का नाम शाहरुख़ खान किसी का नाम सलमान खान। खूबसूरत और हट्टे कट्टे। पैरों में घुंघरू और दाढ़ी में रंग लगे बकरों की कीमत कसाब यानी कसाई लोग चीख-चीख कर बता रहे थे। कई जगह एक से ज्यादा खरीदार होते तो बोली लगती कुछ कुछ आईपीएल की तरह। कई जगह लोग एक से ज्यादा बकरे भी खरीद रहे थे कि दो-दो बकरों की लड़ाई करवायेंगे। मज़ा आयेगा और कुछ पैसे भी बन जायेंगे। 10 हज़ार एक, दस हज़ार दो, और दस हज़ार तीन। ये लो साहब चर्बीदार 80 किलो का शाहरुख़ खान आपका हुआ। अमीर मालिक के हाथों खरीदे जाने पर बकरा भी खुश होता कि मालिक अमीर है जब तक लड़वायेगा तर माल भी खिलायेगा। रामपुर और मुल्तानपुर के बकरों की कीमत सबसे ज्यादा थी। रामपुर वाले बिक....

IBN7IBN7
IBN7IBN7

दारैन शाहिदी के बारे में कुछ और

IBN7IBN7

IBN7IBN7

पिछली पोस्ट

    आर्काइव्स

    IBN7IBN7