लंदन ओलंपिक 2012 के शुरू होने में अब महज कुछ ही दिन शेष हैं। भारतीय एथलीटों का दल हर बार की तरह इस बार भी पूरे धूम-धड़ाके से लंदन रवाना होने को तैयार है लेकिन हर बार की तरह क्या इस बार भी इक्का-दुक्का उपलब्धियां ही हमारे नाम होंगी या इस बार लगेगी पदकों की झड़ी? किस खिलाड़ी से हैं इस बार सबसे ज्यादा उम्मीद और किस खेल में भारतीय एथलीटों का मजबूत है गोल्ड मेडल पर दावा? ये और ऐसे कई सवाल आप सीधे पूछ सकते हैं आईबीएन7 के खेल संपादक अभिषेक दुबे से शुक्रवार की शाम पांच बजे से। अपने सवाल भेजें।

शुक्रवार शाम पांच बजे से Jul 05, 2012

ओलंपिक में हमारे कितने चांस?

लंदन ओलंपिक 2012 के शुरू होने में अब महज कुछ ही दिन शेष हैं। भारतीय एथलीटों का दल हर बार की तरह इस बार भी पूरे धूम-धड़ाके से लंदन रवाना होने को तैयार है लेकिन हर बार की तरह क्या इस बार भी इक्का-दुक्का उपलब्धियां ही हमारे नाम होंगी या इस बार लगेगी पदकों की झड़ी? किस खिलाड़ी से हैं इस बार सबसे ज्यादा उम्मीद और किस खेल में भारतीय एथलीटों का मजबूत है गोल्ड मेडल पर दावा? ये और ऐसे कई सवाल आप सीधे पूछ सकते हैं आईबीएन7 के खेल संपादक अभिषेक दुबे से शुक्रवार की शाम पांच बजे से। अपने सवाल भेजें।
14 questions answered | No question pending
  • what is expactation of hockey team.? Asked by: des raj
  • अभिषेक दूबे हॉकी टीम से मैं बीते महीनो में लगातार जुड़ा रहा हूं, बात इसबार अलग है...कोच नाब्स ने भारत को अपनी ताकत पर खेलने का भरोसा दिया है और कप्तान भरत, सरदारा, संदीप टीम को एक सांचे में पीरो रहे हैं...लेकिन हमें सब्र रखना चाहिए, अगर टे टीम टॉप 6 में आ जाए तो हमें संतुष्ट होना चाहिए और इस टीम को आगे बढ़ने का हौसला देना चाहिए
  • क्या लिएंडर पेस के साथ टेनिस संघ ने ज्यादती की? Asked by: कोयल देव
  • अभिषेक दूबे मैं इस सवाल का जवाब दे चुका हूं
  • क्या दिलीप छेत्री ने बाईचुंग भूटिया का भारतीय फुटबॉल पर एकाधिकार तोड़ दिया है? Asked by: खुशबू मिश्रा
  • अभिषेक दूबे छेत्री ने जो किया वो भारतीय फुटबॉल में एतिहासिक है, लेकिन भूटिया की बुनियाद पर ही छेत्री ईमारत को आगे ले जाने में कामयाब रहे है...कल कोई छेत्री से आगे बेटन ले जाएगा, तो क्या हम छेत्री को भुला देंगे...
  • क्या लिएंडर पेस को सर्वकालिक महान भारतीय एथलीटों में शुमार नहीं किया जाना चाहिए लेकिन उनसे तो साथी खिलाड़ी नफरत करते नजर आ रहे हैं। Asked by: विश्वनाथ शर्मा
  • अभिषेक दूबे लिएंडर पेस लाजवाब खिलाड़ी हैं, लेकिन मौजूदा वक्त में जो कुछ हुआ है उसका असली गुनेहगार टेनिस संघ है...बाकी संघों की तरह इस संघ ने भी खिलाड़ियों के हितों का खयाल नहीं रखा और ऐसी नौबत आने दी जिसके बाद खिलाड़ी एक दूसरे से टकरा गए...खेल संघों में ऐसे लोग आएं जिन्हें खेल से प्यार हो, जुनून हो
  • क्या आपको लगता है कि अभिनव बिंद्रा, राज्यवर्धन राठौर या पेस और लिएंडर जैसे पदकविजेताओं को हमने उतना सम्मान दिया जिसके वे हकदार थे? खासकर जब क्रिकेटरों से तुलना की जाए तो? Asked by: कपिल कुलकर्णी
  • अभिषेक दूबे ये हमारे हीरो है, लेकिन ये सच है कि इनको क्रिकेटरों की तरह सम्मान नहीं मिला...दरअसल बदलाव की आंधी चल चुकी है, हमें क्रिकेटरों को इस वजह निशाने पर नहीं लाना चाहिए, बाकी खेलों को क्रिकेट के बराबर ला खड़ा करना चाहिए...
  • भारतीय पहलवानों की इस बार ओलंपिक के लिए कितनी तैयारी है? Asked by: अभिनव गुप्ता
  • अभिषेक दूबे भारतीय पहलवानों में योज्ञेश्वर दत्त और सुशील मेडल दे सकते हैं, लेकिन हर किसी की नजर अमित सिंह पर है...इस युवा पहलवान में काफी दमखम है...
  • क्या ओलंपिक में आप किसी करिश्मे की उम्मीद कर रहे हैं। खासकर भारतीय एथलीटों से? Asked by: निवेंद्रम भानु
  • अभिषेक दूबे मैं इस सवाल का जवाब दे चुका हूं...भरोसा रखें, लंदन ओलंपिक्स में बीजिंग ओलंपिक्स से कारवां आगे बढ़ेगा
  • इस बार कितने पदकों की उम्मीद की जा सकती है? Asked by: शादाब खान
  • अभिषेक दूबे 5-7 पदकों की उम्मीद है...अगर खिलाड़ी क्षमता के मुताबिक खेले और ड्रॉ ने साथ दिया तो ये तालिका आगे बढ़ सकता है
  • kin kin khelon main hamein padak mil sakta hai Asked by: ramesh
  • अभिषेक दूबे बॉक्सिंग, कुस्ती, शूटिंग और तीरंदाजी से पदक की उम्मीद है...बैडमिंटन में सायना कमाल कर सकती है और हॉकी टीम हमें अपने बेहतर प्रदर्शन से चकित कर सकता है...5-7 मेडल मुमकिन है
  • क्या टेनिस विवाद के बाद हम इसमें कोई पदक की उम्मीद कर सकते हैं Asked by: karishna
  • अभिषेक दूबे मैं पहले इस सवाल का जवाब दे चुका हूं
  • हमने आर्थिक तरक्की तो कर ली लेकिन खेलों में तरक्की कब करेंगे Asked by: anisa
  • अभिषेक दूबे पहले तो मैं ये नहीं मानता कि हमने उम्मीद के हिसाब से आर्थिक तरक्की की है...जिस देश में अब भी 70 फीसदी लोग दबे हुए है, उस राष्ट्र को तरक्की पाने वाला राष्ट्र नहीं का जा सकता...जहां तक स्पोर्ट्स में तरक्की की बात है, शुरुआत हो चुकी है, लेकिन स्पोर्टिंग नेशन बनने के लिए सोच में बदलाव जरूरी है...टैलेंट हमारे पास भरमार है...
  • मुक्केबाजी में इस बार पदक की कितनी उम्मीद हैं। क्या महिला बॉक्सिंग में रचेगा इतिहास? Asked by: आशीष अवस्थी
  • अभिषेक दूबे मुक्केबाजी में दो तगड़े दावेदार हैं...विजेंदर दोबारा बेहतर फॉर्म में लौटते जा रहे हैं और विजय से पदक की उम्मीद है...महिला बॉक्सिंग में हलांकि मेरीकॉम अपना बेहतर फॉर्म पीछे छोड़ चुकी है, लेकिन अगर किस्मत ने साथ दिया तो वो मेडल जरूर लाएंगी...
  • किस निशानेबाज से आपको सबसे ज्यादा उम्मीद हैं। गगन नारंग, रंजन सोढ़ी या मानवजीत संधू? Asked by: विभांशु जोशी
  • अभिषेक दूबे अगर मौजूदा फोर्म कों देखें तो रंजन सोढ़ी सबसे जबर्दस्त फॉर्म में हैं। दूसरी ओर ओलंपिक मेडल को छोड़ गगन नारंग हर बड़ा टूर्नामेंट जीत चुके हैं। अभिनव बिंद्रा ने बीजिंग में गोल्ड जीता था और उन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा शगुन भी हैं। कोई आश्चर्य नहीं होगा अगर हमारे शूटर हमें ओलंपिक में 3-4 मेडल दिला दें।
  • क्या टेनिस में इस बार पदक की उम्मीद है? Asked by: हेमंत बनर्जी
  • अभिषेक दूबे अगर हम टेनिस की बात करें तो पदक की बहुत ही कम उम्मीद है। ऐसा नहीं है कि हमारे पास प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की कमी है, पेस एक बार ओलंपिक में मेडल ला चुके हैं। सानिया, भूपति और बोपन्ना ये तीनों बड़े नाम हैं लेकिन टेनिस फेडरेशन की जो नीति रही है उस वजह से बड़े खिलाड़ी एक दूसरे से टकरा रहे हैं और टीम में एकजुटता की कमी है।

Hosted by

अभिषेक दूबे
स्पोर्ट्स एडिटर