17 सितम्बर 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


फिल्म समीक्षा: बेतुकी है, पर हंसाएगी ‘खिलाड़ी 786’

Updated Dec 08, 2012 at 10:47 am IST |

 

07 दिसम्बर 2012

in.com

Swati Deogire

फिल्म: खिलाड़ी 786

कलाकार: अक्षय कुमार, असिन, मनोज जोशी

निर्देशक: आशीष मोहन


‘खिलाड़ी’ के नाम से अपनी पहचान बनाने वाले अक्षय कुमार इस बार वापस पर्दे पर अपना जलवा दिखाएंगे। अगर फिल्म में टायलेट ह्यूमर, चटक रंग के कपड़े और तेज़ आवाज़ का संगीत सुनना पसंद करते हैं तो यह फिल्म आप देख सकते हैं।

क्या है कहानी?
अक्षय कुमार पंजाब दा पहलवान हैं जिनका नाम है बहत्तर (72) सिंह। बहत्तर सिंह पंजाब का एक पुलिसवाला है जो बोर्डर पर तस्कर पकड़ता है। इस काम में उसको सत्तर सिंह (राज बब्बर) और इक्हत्तर सिंह (मुकेश ऋषि) की मदद मिलती है।

पेशे के कारण बहत्तर अपने परिवार के साथ ज्यादा समय नहीं गुजार पाता। इस कारण वह दुखी रहता है। वहीं मुम्बई से दूर, तात्या तुकाराम तेंदुल्कर (टीटीटी) एक डॉन जिसका किरदार मिथुन चक्रवर्ती निभा रहे हैं उन्हें अपनी बहन इंदू (आसिन) के लिए एक अच्छे घर के लड़के की तलाश है। उत्तर और पश्चिम को मिलाने का काम करते हैं मनसुख (हिमेश रेशमिया), एक मैच-मेकर!

ऐसा कहना कि फिल्म बिल्कुल नहीं हंसाएगी, गलत होगा। बेतुकी कॉमेडी से दर्शक हंसी न आने पर भी हंस पड़ेंगे। इस फिल्म में अक्षय का इंटरनेशनल खानदान खूब गुदगुदाएगा जिसमें एक कैनेडियन मां, चीनी भाभी, और अफ्रीकन बीजी है।

अक्षय के किरदार की बात करें तो उनका पहनावा हूबहू दबंग के सलमान जैसा है। पुलिस की वर्दी के साथ रे बेन का चश्मा। अपने अभिनय से भी वह सिनेमाघर में खूब सीटियां बटोरते हैं। अपने ढिशूम ढिशूम रोल से वह वापस एक एक्शन हीरो की छवि में दिखायी दिए हैं। हालांकि पिंक और लाल कुर्ते के साथ सुनहरे जूतों में वह काफी अजीब लग रहे हैं।

आसिन की बात करें तो पूरी फिल्म में उनके चहरे पर एक जैसे ही भाव दिख रहे हैं। अदाकारा के तौर पर वह इस फिल्म में पूरी तरह फ्लॉप रही हैं। इस फिल्म में उन्होंने सिर्फ अपने दिखावे पर ध्यान दिया है।

मिथुन दा ने पर्दे पर अभिनय तो अच्छा दिखाया है पर वह काफी कम पर्दे पर दिख पाए हैं। वहीं हिमेश रेशमिया की बात करें तो उन्होंने न केवल अभिनय किया है बल्कि गाने के बोल लिखे हैं, संगीतकार भी वहीं है और साथ ही साथ फिल्म की कहानी भी उन्होंने लिखी है। उनके गाए हुए गाने हुक्का बार और लॉंग ड्राइव नए साल में डांस फ्लोर पर आग लगा देंगे।

इस फिल्म का शीर्षक ‘खिलाड़ी 786’ क्यों रखा गया है वह समझ से परे है। पर अक्षय कुमार की फिल्मों में तर्क ढूंढना भी बेवकूफी है। फिल्म में नकल बहुत की गयी है जिसके लिए पूरे दो अंक काटे जाने चाहिए। फिल्म तर्कहीन है, पर हंसाएगी।

2.5/5

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

‘खिलाड़ी 786’ का खेल खराब कर सकती है ‘तलाश’

आज का हॉट गॉसिप: ये क्या, ‘खिलाड़ी’ के घर के बाहर पुलिस

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 3 वोट मिले

पाठकों की राय | 08 Dec 2012

Dec 08, 2012

अच्छी फिल्म है

prashant sathe mumbai

Dec 07, 2012

फिल्म अच्छी है

pushpendra aligarh


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.