23 अगस्त 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


EXCLUSIVE: महिला साइंटिस्‍ट बोली, सर मैंने गलत क्‍या कहा?

Updated Dec 28, 2012 at 12:24 pm IST |

 

28 दिसंबर 2012
hindi.in.com

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

मध्‍यप्रदेश के खरगोन जिले में पुलिस के सेमिनार में दिल्‍ली गैंगरेप पर विवादित बयान देने वाली महिला साइंटिस्‍ट डॉ अनिता शुक्ला की पूरे देश में कड़ी आलोचना हो रही है। डॉ अनिता ने पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में सेमीनार के दौरान कहा था कि छात्रा यदि विरोध नहीं जताती तो शायद उसकी आंतें निकालने की नौबत नहीं आती। उनकी इस बयान की खबर लगते ही फेसबुक समेत विभिन्‍न सोशल नेटवर्किंग साइटों पर गालियां देने वालों की बाढ़ आ गई। महिला संगठन नाराज हैं और देश गुस्‍से में। मध्‍यप्रदेश के महिला आयोग ने डॉ अनिता समेत उन सभी पुलिस अधिकारियों को नोटिस भेजकर जवाब में मांगा है जो उस सेमिनार में मौजूद थे। आयोग की सदस्‍य शशि सिन्‍हो का कहना है कि डॉ अनिता का बयान शर्मसार करने वाला है और आयोग इस मामले में कोई कोताही नहीं बरतेगा। दूसरी ओर डॉ अनिता शुक्ला खेद प्रकट कर रही हैं। hindi.in.com ने जब उनसे इस पूरे प्रकरण पर बात की तो उन्‍होंने सबसे पहले खेद प्रकट किया, लेकिन दुर्भाग्‍य की बात ये रही कि महिला साइंसिस्‍ट इस बात पर हैरान थीं आखिर उन्‍होंने ऐसा क्‍या बोल दिया? शायद उन्‍हें इस बात का एहसास ही नहीं हो पा रहा कि उन्‍होंने जो कहा था उसमें गलत क्‍या है? शायद वो ये नहीं जानतीं कि बलात्‍कार मौत से कई गुना बदतर होता है, क्‍योंकि अगर वो ये जानतीं तो ये नहीं कहतीं-‘दिल्‍ली गैंगरेप की शिकार लड़की को रेप विरोध नहीं करना चाहिए था।’

‘हाथ पैर में दम नहीं और हम किसी से कम नहीं’

महिला साइंटिस्‍ट ने सेमिनार में कहा था-‘हाथ पैर में दम नहीं और हम किसी से कम नहीं।’ सेमिनार में साइंटिस्‍ट ने ये जुमला प्रयोग किया था। हालांकि, hindi.in.com से बातचीत में उन्‍होंने इस जुमले के प्रयोग की बात स्‍वीकारी, लेकिन महिला साइंटिस्‍ट इसे तोड़ मरोड़कर पेश करने का आरोप भी लगाया। उन्‍होंने कहा, ‘मेरा मकसद ये कहना था कि अगर 5 या 6 लोग हैं तो आप क्‍या कर सकते हो। दिल्‍ली गैंगरेप की शिकार अगर विरोध नहीं करती तो उसकी जान बच जाती। वो बाद में पुलिस के पास शिकायत कर सकती थी।’ महिला साइंटिस्‍ट की ये सफाई बताती है कि शायद उन्‍हें नहीं मालूम कि बलात्‍कार मौत से बदतर होता है। रेप की शिकार दुनिया का सामना कैसे करती है इसका अंदाजा उन्‍हें नहीं था। वो तो ये भी कह रहीं थीं कि अगर उन्‍होंने कुछ गलत बोला था तो सेमिनार में मौजूद पुलिस अधिकारियों ने उन्‍हें रोका क्‍यों नहीं? महिला साइंटिस्‍ट ने hindi.in.com से कहा कि वो महिला सशक्तिकरण की बात कर रही थीं और लड़कियों को सेल्‍फ डिफेंस सिखाने की वकालत कर रही थीं।        

देर रात ब्‍वॉयफ्रेंड के साथ क्‍या कर रही थी लड़की?

खरगोन के कृषि अनुसंधान केंद्र में वैज्ञानिक के पद पर आसीन डॉ अनिता शुक्ला ने कहा कि देर रात्रि में उस छात्रा को अपने ब्वायफ्रेंड के साथ घूमने की क्या आवश्यकता थी। यदि कोई लड़की ऐसा करती है तो ऐसी घटनाओं को रोकना संभव नहीं है। डॉ शुक्ला ने यहां तक कह डाला कि छह लोगों से घिर गयी छात्रा यदि विरोध नहीं करती तो उसकी आंतें निकालने की नौबत नहीं आती। उन्होंने पुलिस के रवैए का पक्ष लेते हुए कहा कि दरअसल महिलाओं ने उन्हें मिले अधिकारों और सुविधाओं का गलत उपयोग प्रारंभ कर दिया है। इसी वजह से इस तरह की घटनाएं प्रकाश में आती हैं।

फेसबुक पर महिला वैज्ञानिक को गालियां


महिला वैज्ञानिक के विवादित बयान पर फेसबुक समेत अन्‍य सोशल नेटवर्किंग साइटों पर जबरदस्‍त प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। कई लोग महिला वैज्ञानिकों को गाली दे रहे हैं। उनका कहना है कि ऐसा गंदे कमेंट देने वाली महिला के साथ रेप होना चाहिए। वो खुद भुगतेगी तो उसे पता चलेगा कि रेप का विरोध करना चाहिए या नहीं?

 

EXCLUSIVE: महिला साइंटिस्‍ट पर गुस्‍साया मप्र महिला आयोग

दिल्‍ली गैंगरेप: पुलिस सेमिनार में महिला वैज्ञानिक, ‘करने देती तो आंतें...

राष्‍ट्रपति का बेटा बोला, ये औरतें तो...

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 4 वोट मिले

पाठकों की राय | 28 Dec 2012

Jan 01, 2013

इसने ये सब किया होगा तभी तो सलाह दे रही है के हाथ पेर ना चलती या विरोध ना करती तो बच जाती.

Rahul Faridabad

Dec 28, 2012

बलात्कार का मतलब इस औरत को पता है पर जब खुद के साथ बीतती है तो बात कुछ और होती है दूसरो से कोई लेना देना नही है, इसलिए ये बेहद शर्मनाक बात है. इस बददिमाक औरत के लिए बददुआ देना भी ठीक नही है. इनको इस बात के लिए शर्म आनी चाहिए.

Vijay Deep Delhi

Dec 28, 2012

Me balatkar ka ghor virodhi hu ese logo ko sareaam road par jinda mot dena chaiye jaise kuch din pahele talivano ne 4 logo ko di the jab tak kanon sakt nahi hoga kuch nahi ho sakta mot ki saja dene se 302 ke crime band nahi ho gaye or smt. Sukla ki kuch bate bahut sahi he or kuch bate galat 6 logo ke samne samarpan karna galat bat he lekin ajj ke ladkiyo ke bartav bhi sahi nahi he je bat bhi such he

chandu gwalior

Dec 28, 2012

पेशे ...होगी

SHRAWAN NEW DELHI

Dec 28, 2012

यह महिला वैग्यानिक औरतो के नाम पर कलंक है | जो बलात्कार को सहर्ष स्वीकार करने की सलाह देती है |

Ashok Trip kel Lucknow

Dec 28, 2012

Dr. Shukala koi galat nahi bol rahi hai. Aur jo ye samaj seva ka the ka lekar baithi hai unke hisab se ladakiya rat ko bhadkau kapade pahan kar der rat ko sadako par dhume wo bhi bina kisi kam ke . To bhi kisi ka bhi eaman kharab ho sakata hai .Yaha par koi peshewar aparadhi to hai nahi . Aise aparadh ke liye to bas do pal hi kafi hai .Easliye samaj ki thekedaro jara nare baji karane se pahle theek se soch le ki ki kya theek hai.

ANAND SINGH VARANASI


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.