15 सितम्बर 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


पीड़ित को सिंगापुर भेजने के पीछे था किसका दिमाग?

Updated Dec 29, 2012 at 12:20 pm IST |

 

29 दिसंबर 2012
hindi.in.com

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

नई दिल्ली। दिल्ली में गैंगरेप की शिकार 23 साल की लड़की ने सिंगापुर में दम तोड़ दिया। सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में लड़की के एडमिट होते ही पूरे देश की नजर वहीं पर टिक गई थी, लेकिन तमाम कोशिशें नाकाम साबित हुईं। एक दिन पहले कई मीडिया रिपोर्टों में लड़की को सिंगापुर भेजने के फैसले पर सवाल खड़ा किए गए थे। खबर ये भी आई कि हवाई सफर के दौरान लड़की की जान जाते-जाते बची। विमान के 30 हजार फीट की उंचाई पर पहुंचते ही उसका ब्लड प्रेशर गिर गया। इसी बीच देश के मशहूर समाचार पत्र ने खबर प्रकाशित की लड़की को सिंगापुर भेजने के पीछे दिल्‍ली की मुख्‍यमंत्री शीला दीक्षित का दिमाग था। विशेषज्ञ भी मानते हैं कि लड़की को इस हालत में सिंगापुर ले जाना ठीक नहीं था। डॉक्टर जानते थे हजारों फीट की उंचाई पर विमान के पहुंचते ही लड़की की सेहत बिगड़ सकती है। ऐसा हुआ भी, फिर क्‍यों उसे ले जाया गया। उसे सिंगापुर ले जाने के पीछे क्‍या वाकई शीला का दिमाग था। हालांकि कुछ रिपोर्टों में ये भी कहा गया है कि आईबी ने केंद्र को चेता दिया था कि अगर लड़की की मौत देश में हुई आक्रोश बहुत बढ़ सकता है और आईबी की रिपोर्ट संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार ने उसे सिंगापुर शिफ्ट करने का निर्णय लिया। डॉक्टरों का कहना है कि अगर प्रधानमंत्री का इलाज एम्स में हो सकता है।

विदेश भेजने पर डॉक्‍टरों ने उठाए सवाल


विदेश से आए डॉक्टर देश में अटल जी के घुटने का ऑपरेशन कर सकते हैं तो फिर इस लड़की का इलाज यहां करने में क्या समस्या थी। सूत्रों के मुताबिक इस फैसले में सरकार का दबाव अधिक और डॉक्टरों की सहमति कम थी। मतलब साफ था कि सरकार लड़की को बाहर ले जाने का मन बना चुकी थी। सूत्रों के मुताबिक लड़की को सफदरजंग अस्पताल में बेहतरीन चिकित्सा मिल रही थी। बावजूद इसके सरकार ने उसे सिंगापुर ले जाने का फैसला किया। सूत्रों की मानें तो मंगलवार को ही IB के हेड नेहछल सिंह ने गृहमंत्री को खबर दे दी थी कि लड़की की सेहत को लेकर बाहर आ रही खबरों पर जनता का रिएक्शन अच्छा नहीं है। भगवान न करे उसे कुछ हो जाता है तो नौजवान फिर से बवाल मचा सकते हैं। दूध से जला छाछ भी फूंक कर पीता है लिहाजा सरकार ने आनन-फानन लड़की को बाहर भेजने का फैसला किया।

लड़की को गोपनीय तरीके से निकाला गया सफदरजंग से

खबर तो ये भी है कि लड़की को अस्पताल से निकालने का पूरा ऑपरेशन भी बेहद गोपनीय था। दिल्ली पुलिस ने ICU के बाहर तीन-तीन एंबुलेंस तैनात कीं। एक मुस्लिम लड़की को जबरन गंभीर हालत बताकर भर्ती किया गया। उसके परिजनों की आड़ में बुर्कों से ढकी महिलाएं अस्पताल में आने जाने लगीं। इन्हीं में वो फोटोग्राफर भी था जिसने आनन-फानन में तैयार किए गए पासपोर्ट की फोटो निकाली। बाद में इस नकली परिवार को लेकर पहली दो एंबुलेंस निकली जिनकी मीडिया ने पीछा शुरू किया। उसे बाद में पता चला कि पीड़ित तो मेदांता की तीसरी एंबुलेंस में है। कंफ्यूजन इस कदर थी कि लड़की मेदांता जा रही है या एयरपोर्ट कोई नहीं जानता था। पता भी न चलता अगर मेदांता की एंबुलेस हवाई अड्डे की ओर न मुड़ जाती। आपाधापी के बाद जिस तरह हवाई जहाज में लड़की की तबियत बिगड़ने की खबरें आईं उससे अब सरकार हमले की जद में है।

सेहत की चिंता नहीं थी सियासत की थी

लड़की की जिंदगी ही असल सवाल है जिसके लिए तमाम चीजें दांव पर हैं, लेकिन मेडिकल एक्सपर्ट्स के मुताबिक सरकार के इस फैसले में लड़की की सेहत नहीं सियासत ज्यादा दिख रही है। डॉक्टरों के मुताबकि लड़की की आंत का ट्रांसप्लांट तब तक संभव नहीं, जब तक उसकी सेहत पटरी पर नहीं आती। सरकार ने लड़की के इलाज में लगे डॉक्टरों की भी उपेक्षा की। एम्स और सफदरजंग के डॉक्टरों की एक पूरी टीम लड़की की देख रेख में लगी थी, लेकिन जब सिंगापुर जाने की बारी आई तो इनमें से केवल सफदरजंग के पी के वर्मा को ही साथ लिया गया। बाकी डॉक्टर मेदांता के थे जिनका लड़की के इलाज से कोई लेना-देना ही नहीं था। खबरें तो ये भी हैं कि एम्स के ट्रोमा सेंटर हेड एम सी मिश्रा को भी साथ ले जाना था लेकिन उन्होंने आखिरी वक्त जाने से इनकार कर दिया।

 

जिंदगी की जंग हार गई गैंगरेप पीड़ित, देश सदमे में 

पीड़ित की मौत के बाद दिल्‍ली में कड़ा पहरा, मेट्रो बंद

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 5 वोट मिले

पाठकों की राय | 29 Dec 2012

Dec 29, 2012

ईश्वर् उसकी आत्मा को शांति दे

vinay kumar mishra hajipur


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.