21 अगस्त 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


म.गांधी जयंती: आज़ादी के लिए गांधीजी के आंदोलन

Updated Oct 02, 2012 at 08:38 am IST |

 

02 अक्टूबर 2012
एजेंसियां


facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

महात्मा गांधी ही वो शख्सियत हैं जिनकी वजह से आज हम आज़ाद भारत में सांस ले रहे हैं। गांधीजी ने ही अपनी बहादुरी और सिद्धांतों के बल भारत से अंग्रेजों को खदेड़ा था। भारत की स्वतंत्रा के लिए गांधी जी के प्रमुख आंदोलन इस प्रकार हैं:-

दक्षिण अफ्रीका में नागरिक अधिकार आंदोलन (1893-1914)

दक्षिण अफ्रीका में- वकालत के सिलसिले में उन्हें एक बार दक्षिण अफ्रीका जाना पड़ा। वहाँ भारतीयों के साथ अमानवीय व्यवहार किया जाता था। स्वयं मोहनदास के साथ भी दुर्व्यवहार हुआ। उसे देखकर उनकी आत्मा चीत्कार कर उठी। उनहोंने 1894 में ‘नटाल इंडियन कांग्रेस’  की स्थापना करके गोरी सरकार के विरुद्ध बिगुल बजा दिया। सत्याग्रह का पहला प्रयोग उन्होंने यही किया था। उनके प्रयत्नों से गोरों के कुछ अत्याचार कम हो गए।

असहयोग आंदोलन (1920-22)

भारत आकर गाँधी जी स्वतंत्रता आंदोलन में कूद पड़े। उन्होंने सत्य और अहिंसा को आधार बनाकर राजनीतिक स्वतंत्रता का आंदोलन छेड़ा। 1920-22 में उन्होंने अंग्रेज सरकार के विरुद्ध असहयोग आंदोलन छेड़ दिया। विदेशी वस्त्रों की होली जलाई गई। हिंसा के कारण गाँधी जी ने आंदोलन वापस ले लिया।

नमक आंदोलन- (1929)

असहयोग आंदोलन असफल होने के बाद सन 1929 में गाँधी जी ने पुनः आंदोलन प्रारंभ किया। यह आंदोलन ‘ नमक-सत्याग्रह’ के नाम से प्रसिद्ध हुआ। गाँधी जी ने स्वयं साबरमती आश्रम से डांडी तक पदयात्रा की तथा वहाँ नमक बना कर नमक कानून का उल्लंघन किया। सन 1931 में गाँधी जी ‘राउंड टेबल कांफ्रेस’  में सम्मिलित होने के लिए लंदन गए। सन 1942 में उन्होंने ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन छेड़ दिया। देश-भर में क्रांति की ज्वाला सुलगने लगी। देश का बच्चा-बच्चा अंग्रेजी सरकार को उखाड़ फेंकने पर उतारू हो गया। गाँधी जी को देश के अन्य नेताओं के साथ बंदी बना लिया गया। 15 अगस्त ,1947 को हमारा देश स्वतंत्र हो गया।


• चंपारण और खेड़ा: अस्पृश्यता निवारण, खेड़ा (गुजरात), आश्रम

• स्वराज और नमक सत्याग्रह:


12 मार्च से 6 अप्रेल तक नमक आंदोलन के याद में 400 किलोमीटर (248 मील) तक का सफर अहमदाबाद से दांडी, गुजरात तक चलाया गया ताकि स्वयं नमक उत्पन्न किया जा सके। समुद्र की ओर इस यात्रा में हज़ारों की संख्या में भारतीयों ने भाग लिया। भारत में अंग्रेज़ों की पकड़ को विचलित करने वाला यह एक सर्वाधिक सफल आंदोलन था जिसमें अंग्रेज़ों ने 80,000 से अधिक लोगों को जेल भेजा।

• साइमन कमीशन:

असहयोग आंदोलन असफल रहा। इसलिए राजनैतिक गतिविधियों में कुछ कमी आ गई थी। साइमन कमीशन को ब्रिटिश सरकार द्वारा भारत सरकार की संरचना में सुधार का सुझाव देने के लिए 1927 में भारत भेजा गया। इस कमीशन में कोई भारतीय सदस्‍य नहीं था और सरकार ने स्‍वराज के लिए इस मांग को मानने की कोई इच्छा नहीं दर्शाई। अत: इससे पूरे देश में विद्रोह की एक चिंगारी भड़क उठी तथा कांग्रेस के साथ मुस्लिम लीग ने भी लाला लाजपत राय के नेतृत्व में इसका बहिष्कार करने का आव्‍हान किया। इसमें आने वाली भीड़ पर लाठी बरसाई गई और लाला लाजपत राय, जिन्हें ‘शेर– ए– पंजाब’ भी कहते हैं, एक उपद्रव से पड़ी चोटों के कारण शहीद हो गए।

• नागरिक अवज्ञा आंदोलन

नागरिक अवज्ञा आंदोलन का नेतृत्‍व– 1929, इस अभियान का लक्ष्‍य ब्रिटिश सरकार के आदेशों की संपूर्ण अवज्ञा करना था। यह निर्णय लिया गया कि भारत 26 जनवरी को पूरे देश में स्‍वतंत्रता दिवस मनाएगा। ब्रिटिश सरकार ने इस आंदोलन को दबाने की कोशिश की तथा इसके लिए लोगों को निर्दयतापूर्वक गोलियों से भून दिया गया, हजारों लोगों को मार डाला गया।

• भारत छोड़ो आंदोलन

अगस्त 1942 में गांधी जी ने “भारत छोड़ो आंदोलन” की शुरूआत की तथा भारत छोड़ कर जाने के लिए अंग्रेज़ों को मजबूर करने के लिए एक सामूहिक नागरिक अवज्ञा आंदोलन “करो या मरो” आरंभ करने का निर्णय लिया। इस बीच नेता जी सुभाष चंद्र बोस, जो अब भी भूमिगत थे, कलकत्ता में ब्रिटिश नजरबंदी से निकल कर विदेश पहुंच गए और ब्रिटिश राज को भारत से उखाड़ फेंकने के लिए उन्‍होंने वहां इंडियन नेशनल आर्मी (आईएनए) या आजाद हिंद फौज का गठन किया।

• गांधी जी के कुछ मूलभूत सिद्धांत

   .सत्य
   .अहिंसा
   .शाकाहारी रवैया
   .ब्रह्मचर्य
   .सादगी
   .विश्वास
 

 

 

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 5 वोट मिले

पाठकों की राय | 02 Oct 2012


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.