20 अप्रैल 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


आसाराम बापू फिर विवादों में, श्रद्धालु को मारी लात!

Updated Feb 06, 2013 at 10:42 am IST |

 

06 फरवरी 2013
इंडो-एशियन न्यूज सर्विस

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

विदिशा। दिल्‍ली गैंगरेप की शिकार पीड़िता को ही दोषी ठहराने वाले आसाराम बापू एक बार फिर अपनी हरकतों की वजह से विवादों में हैं। मध्य प्रदेश के विदिशा में चार फरवरी को हुए एक सत्संग कार्यक्रम में आसाराम ने अपने एक भक्त को लात मारी दी। श्रद्धालु ने बापू का आशीर्वाद पाने के लिए चरण स्पर्श किया था, मगर बापू ने उसे आशीर्वाद देने की बजाय लात मार दी। प्रवचन के बाद बापू भक्तों के बीच थे, तभी बुजुर्ग अमन सिंह दांगी ने चरण स्पर्श करने की कोशिश की, तभी बापू ने दांगी को आशीर्वाद देने की बजाय लात मार दी। अमन का कहना है कि वह बापू का आशीर्वाद लेने गए थे, मगर उन्हें लात मारे जाने से वह आहत हैं। इस वजह से बीती रात उन्हें नींद नहीं आई। वह समझ नहीं पा रहे हैं कि बापू ने ऐसा क्यों किया, जबकि वह कई वर्षों से बापू के भक्त हैं।

आसाराम बापू ने पत्रकार को मारा थप्पड़

समय-समय पर आपा खोने वाले आसाराम ने कुछ महीनों पहले गाजियाबाद में भी एक पत्रकार के सवाल पूछने पर उसे घूंसा रसीद कर दिया था। आरोप है कि रोहित गुप्ता नाम का पत्रकार आसाराम बापू के समारोह की कवरेज करने गया था। इसी दौरान आसाराम के समर्थकों ने पत्रकार पर हमला कर दिया और उसकी पिटाई की। पत्रकार का आरोप है कि आसाराम बापू ने ही समर्थकों को हमले के लिए उकसाया था।

आसाराम बापू हड़प गए 700 करोड़ की जमीन?

आसाराम और उनके बेटे पर मध्य प्रदेश के रतलाम में 700 करोड़ रुपए की जमीन हड़पने का संगीन आरोप लगा है। आरोप है कि साल 2001 में रतलाम की एक फैक्ट्री की जमीन आसाराम ने सतसंग के लिए किराए पर ली थी, जिसपर उन्होंने कब्जा जमा लिया। नारायण साईं की वेबसाईट में मंदिर के पास की जमीन आसाराम अपनी बता रहे हैं। पूरे 200 एकड़ जमीन कब्जा करने का आरोप आसाराम पर लग रहा है। आरोप है कि मध्य प्रदेश के रतलाम की 200 एकड़ जमीन पर आसाराम और उनके बेटे नारायण ने साल 2001 से कब्जा कर रखा है।

आसाराम बोले, बलात्कारियों को भाई क्यों नहीं बोला?

आसाराम बापू के मुताबिक दिल्ली गैंगरेप घटना के लिए पीड़ित लड़की भी जिम्मेदार थी क्योंकि ताली एक हाथ से नहीं बजती। उनका तो यह भी मानना था कि 6 आरोपियों के सामने अगर वह उनको रोकने की गुहार लगाती तो शायद वह बच सकती थी। इससे उसकी इज्जत और जिंदगी दोनों बनी रहती।


 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 5 वोट मिले

पाठकों की राय | 06 Feb 2013

Mar 08, 2013

Shabhi galat comment write karane vale khud hi galat hai.............

Devraj allahabad

Feb 11, 2013

लोग गधे है जो ऐसे ढोंगी ठग बाबाओ पर विस्वाश करते है

Megha Das Delhi

Feb 09, 2013

पब्लिक है जो ऐसे लोग को भगवान मानती है

singh mumbai

Feb 09, 2013

वो श्रद्धालु लात खाने का ही पात्र था, पहली बार असाराम ने एक ठीक कम किया है... ऐसे श्रद्धालु को लात ही मिलनी चाहिए

Vijay Singh Varanasi

Feb 09, 2013

सठिया गया है बुड्ढा!!!

kaafi pune

Feb 08, 2013

सब पैसा और नाम का मामला है ना वा साधु ह ना ही कोई प्रोफेसर बस वह डोगी है

nizam siddarth nager

Feb 07, 2013

चोर के दाढ़ी मे तिनका

MITHILESH KUMAR new delhi

Feb 07, 2013

बाबा जी आपके उपर बार बार कुछ ना कुछ आपत्तिजनक ख़बरे आती रहती है. बाबा आप धर्म की बात करेगे तो अच्छा लगेग.बस....................

MITHILESH KUMAR new delhi

Feb 07, 2013

यह अनुचित हे/ बाबा के खिलाफ लात खाने वेल को 323 आई पी सी का इस्तगासा कर देना चाहिए/ धर्म के व्यापारी बाबा अपना आपा खोते जेया रहे हे लगता हे उमरा का असर बापू पर हो रहा हे/

N.K.Tiwari. Ujjain (M.P)

Feb 06, 2013

सरकारी का दामाद है इसलिए कोई कार्रवाई नहीं की जाती है...............

chan delh

Feb 06, 2013

आशाराम बापू भूल रहे है कि आप ग्यान गंगा बहाने आये है ना की विष गंगा बहाने .आपसे अनुरोध कि आप अपनी भाषा शैली पर विशेष ध्यान दे जो किसी के दिल को ना क्स्ट हो और ना ही किसी को शारीरिक पीड़ा दे .

c.v.singh noida


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.