26 जुलाई 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


मुम्बई पुलिस का ‘यूटर्न’, पर असीम को मिली न्यायिक हिरासत

Updated Sep 10, 2012 at 18:11 pm IST |

 

10 सितम्बर 2012
आईबीएन-7/सीएनएन-आईबीएन

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?



मुंबई।
इंडिया अगेंस्ट करप्शन से जुड़े कानपुर के कार्टूनिस्ट असीम को मुंबई पुलिस ने दोपहर को उन्हें कोर्ट में पेश किया और कोर्ट ने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

असीम को दोपहर में कोर्ट में पेश किया गया था। कोर्ट ने उसे 24 सितम्बर तक 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज है।   

लेकिन एआईसी के सदस्यों का कहना है कि जब तक पुलिस उन पर से देशद्रोह (इंडियन पीनल कोड 124-ए) का मामला नहीं हटाती तब तक वे जमानत के लिए भी अर्जी नहीं देंगे।

पुलिस ने असीम को हिरासत में लेने से इंकार कर दिया था।

इससे पहले महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने आर.आर. पाटिल ने कहा था कि असीम को गिरफ्तार करने का पुलिस के पास कोई आधार नहीं है और हम कोर्ट में भी यही कहेंगे।

रविवार को राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान करने के आरोप में गिरफ्तार किया था। असीम पर आरोप है कि उन्होंने आपत्तिजनक कार्टून बनाकर राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान किया। असीम पर साइबर क्राइम के तहत भी केस दर्ज किया गया है। लेकिन सूत्रों के मुताबिक मुंबई पुलिस असीम पर से देशद्रोह का मुकदमा वापिस ले सकती है।

कार्टूनिस्ट असीम ने पूछा ‘क्या सच बोलना देशद्रोह है’?

उधर एक अन्य खबर के अनुसार, अन्ना हजारे के सहयोगी मयंक गांधी को कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी से मिलने की अनुमति पुलिस ने दे दी है। मयंक का आरोप था कि पुलिस उन्हें असीम से मिलने नहीं दे रही है। असीम की गिरफ्तारी को इंडिया अगेंस्ट करप्शन समेत तमाम कलाकारों और साहित्यकारों ने अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला बताया है। महाराष्ट्र के गृह मंत्री आर आर पाटिल ने कहा है कि वो पुलिस अधिकारियों से बात करेंगे और मामले की पूरी जानकारी लेंगे।

पुलिस हिरासत में भेजे जाने के बाद असीम ने कहा ‘मैं देशद्रोही हूं। अगर सच बोलना देशद्रोह है तो मैं सच बोलूंगा। बार-बार बोलूंगा। गांधी ने बोला था। भगत सिंह ने बोला था। मैं भी बोलूंगा। अगर एक सच्चा आदमी देशद्रोही है तो मैं देशद्रोही हूं। हां मैं देशद्रोही हूं।'

राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान करने पर कार्टूनिस्ट गिरफ्तार

मालूम हो कि मुंबई में हुए अन्ना के आंदोलन के दौरान कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी ने एक कार्टून बनाया था। इस कार्टून में राष्ट्रीय प्रतीक चिह्न में मौजूद तीन सिंहों की जगह भेड़िए का सिर और सत्यमेव जयते की जगह भ्रष्टमेव जयते लिखा गया। पुलिस ने असीम के खिलाफ राजद्रोह के अलावा आईटी एक्ट, राष्ट्रीय प्रतीक चिह्न एक्ट और साइबर क्राइम एक्ट के तहत भी केस दर्ज किया है।

गौरतलब है कि राजद्रोह के जिस कानून के तहत असीम को गिरफ्तार किया गया है वो अंग्रेजों ने 1857 में स्वतंत्रता की पहली लड़ाई के तीन साल बाद 1860 में बनाया गया था। यानि अब ये कानून 152 साल पुराना हो चुका है। ऐसे में असीम ने देश के कर्ताधर्ताओं से एक अहम सवाल पूछा है। असीम ने कहा है कि ‘मैं इस देश की विधायिका और न्यायपालिका से मांग करता हूं कि ये स्पष्ट किया जाए कि क्या इस देश में एक आम आदमी को अपना मुंह खोलने पर, सच बोलने पर देशद्रोह का आरोप झेलना पड़ेगा, क्या देशप्रेम और देशद्रोह की परिभाषाएं अब बदल दी जाएंगी। ये सुनिश्चित करना होगा कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में जनता की अभिव्यक्ति की आज़ादी सुरक्षित रहेगी।'

इससे पहले महाराष्ट्र पुलिस असीम के पिता को उठा ले गई थी, जिन्हें भारी विरोध के बाद छोड़ना पड़ा था। असीम का आरोप है कि उन्हें बार-बार मुंबई पुलिस की तरफ से धमकाया गया। महाराष्ट्र पुलिस असीम को गिरफ्तार करने कानपुर भी गई थी, जहां विरोध के चलते उसे बैरंग लौटना पड़ा था। इसी साल असीम को सीरिया के कार्टूनिस्ट अली फर्जत के साथ एडिटोरियल कार्टूनिंग अवार्ड के लिए चुना गया था। अब गिरफ्तारी के बाद असीम को बांद्रा कोर्ट ने 16 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 5 वोट मिले

पाठकों की राय | 10 Sep 2012

Sep 10, 2012

वो नाटक कुछ ज्यादा ही कर रहा था, एक अदद कार्टून बना कर खुद को भगत सिंह के बराबर मान रहा था

tejwani girdhar ajmer

Sep 10, 2012

कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी को गिरफ्तार करना एक दम ग़लत हे अगर राज ठाकरे उतर भारतीयो के बारे मे दिग्विजयसिंग नरेंद्र मोदी, अन्ना,रामदेव के बारे मे कुछ भी बोल सकते हे कलमाडी,राजा, अशोक चौहान, चिदंबरम,लालू इत्यादि नेता घोटाला करते हे तो उनका क्या ? कोयला काला या सफेद ? क्या जवाब देगे प्रधानमंत्री ? झूठे का मूह सफेद और सच का मूह काला / नेता आज़ाद और कार्टूनिस्ट जैल मे/ मेरा भारत ???????????????????

Rajendra Surat

Sep 10, 2012

यह सरकार नही है तानाशाही है सच से सभी चोर तानाशाही गद्दार भ्रस्तलोगो को डरर लगता है यह सरकार वही है यह भयभीत है की कही क्रांति नही होजाए अगर यही होता रहा तो क्रांति तो होगी हीजय हिंद

Durvesh Jaipur

Sep 10, 2012

इन नेताओं को सूली पे लटका देना चाहिएआ खुद जो करें वो सब सही है सही बात करने वेल सारे ग़लत है

radhe shyam hamirpu j p

Sep 10, 2012

आज़ाद भारत मे यह सब ग़लत है. एक सिर्फ़ कार्टून बनाने पर देशद्रोह का मुक़दमा ओर घोटाले करने पर सालो मुक़दमा नही चलता. इन बातों से यह लगता है कि हम अभी आज़ाद नही हुए है

mukesh jalandhar

Sep 10, 2012

असीम को गिरफ्तार करना ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है हज़ार बार ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है ग़लत है

devanand sharma faizabad


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.