29 जुलाई 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


गुजरात चुनाव: पहले चरण में रिकॉर्डतोड़ मतदान, आखिरी ‘जंग’ 17 को

Updated Dec 13, 2012 at 18:03 pm IST |

 

13 दिसंबर 2012
आईबीएन 7

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा के पहले चरण का मतदान खत्म हो गया। पहले चरण में 87 सीटों पर रिकॉर्ड वोटिंग हुई है। शाम 5 बजे तक 64 फीसदी से ज्यादा मतदान होने की खबर है। जबकि साल 2007 में पहले चरण में 54 फीसदी वोटिंग हुई थी। सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तक़रीबन एक करोड़ 81 लाख मतदाताओं ने 846 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला कर दिया है। आज सौराष्ट्र के सात जिलों की 48, दक्षिणी गुजरात के पांच जिलों की 35 और अहमदाबाद जिले की चार सीटों पर मतदान हुआ। लेकिन सबकी निगाहें सौराष्ट्र पर टिकी हैं जहां मोदी और केशुभाई की अग्निपरीक्षा है।

इसस पहले दोपहर 3 बजे तक करीब 53 फीसदी मतदान दर्ज किया गया। जबकि इससे पहले 1 बजे तक सिर्फ 38 फीसदी मतदान दर्ज किया गया। दरअसल मतदान की रफ्तार शुरुआत में थोड़ी सुस्त रही लेकिन जैसे-जैसे दिन का सूरज चढ़ा, वोटरों की तादाद भी बढ़ती चली गई। जामनगर, राजकोट, भरूच, साणंद के तमाम इलाकों में दोपहर होते-होते वोटरों की लंबी कतारें नजर आने लगीं। आईबएन7 ने मतदाताओं का मिजाज परखा तो विकास का मुद्दा अव्वल नजर आया। जनादेश के इस जश्न में हर तबके की भागीदारी दिखी। नौजवान, बुजुर्ग, महिलाएं सबने बढ़-चढ़कर मतदान में हिस्सा लिया। साणंद और राजकोट में पोलिंग बूथ के बाहर महिलाओं का हुजूम बता रहा था कि मतदान के अधिकार को लेकर आधी आबादी किस कदर सजग हो चुकी है। भरूच में 85 साल की एक बुजुर्ग महिला का जनतंत्र को लेकर जज्बा देखते ही बन रहा था।

मुस्लिम बहुल भरूच में भी लोगों ने खुलकर मतदान में हिस्सा लिय़ा। लेकिन मोदी के समर्थन पर सवाल हुआ तो जनता का जवाब बेहद सधा था। मोदी राज में विकास पर मुहर तो थी लेकिन वोट बीजेपी को मिलेगा, इसकी गारंटी पर चुप्पी दिखी।

अब तो जनता का जनादेश ईवीएम में कैद हो चुका है। नतीजे क्या होंगे, कोई नहीं जानता। लेकिन हमेशा की तरह सियासी दल अभी से जीत के पुरजोर दावे कर रहे हैं। लेकिन दावों में कितना दम है इसका फैसला 20 दिसंबर होगा। लेकिन फिलहाल चुनावी पंडित पहले चरण के आंकड़ों का आकलन करने में जुटे हैं। सबकी निगाहें सौराष्ट्र पर लगी हैं। गुजरात में पुरानी कहावत है-गांधीनगर का रास्ता सौराष्ट्र से होकर गुजरता है। सवाल यही है कि क्य़ा सौराष्ट्र की 48 सीटों पर केशुभाई फैक्टर का असर हुआ?

 

शरद पवार एनडीए में आएं तो बन जाएंगे पीएम

देखें, सरकार पता लगाएगी कि ‘वॉलमार्ट’ ने किसको दिए पैसे

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 0 वोट मिले

पाठकों की राय | 13 Dec 2012


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.