20 सितम्बर 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


हिंदू मंदिरों में मौत का तांडव, प्रशासन पर सवाल?

Updated Sep 24, 2012 at 15:22 pm IST |

 

24 सितम्बर 2012

hindi.in.com

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

देवघर/मथुरा। हिंदू मंदिरों में एक के बाद एक हुई दो भगदड़ की घटनाओं से हर कोई सकते में है। पहले मथुरा के राधा रानी मंदिर में मची भगदड़ ने दो भक्तों की जान ले ली, फिर झारखंड के देवघर में ठाकुर अनुकूल चंद्र की जयंती पर आश्रम में उमड़ी भीड़ भगदड़ का शिकार हो गई। इन हादसों में अपनों को खो चुकी आंखों में आंसुओं के साथ पुलिस और प्रशासन के लिए गुस्सा है। भीड़ को देखते हुए अगर प्रशासन ने पर्याप्त इंतजाम किए होते, तो कई हिंदू भक्तों की जानें बच सकती थीं।

मालूम हो कि झारखंड के देवघर में ठाकुर अनुकूल चंद्र की जयंती पर उमड़ी भीड़ में अचानक भगदड़ मच गई। देवघर में मची भगदड़ में 8 महिलाओं समेत 9 लोगों की मौत हो गई है जबकि करीब दो दर्जन लोग घायल हैं। बताया जा रहा है कि देवघर स्थित आश्रम में प्रार्थना के दौरान भगदड़ मची। भगदड़ की घटना तड़के ही हो गई थी लेकिन मीडिया को इसकी खबर देर से दी गई।

मथुरा: VIP भक्तों की वजह से मची मंदिर में भगदड़

सत्संग में तकरीबन दो लाख से ज्यादा लोग मौजूद बताए जा रहे हैं। यहां ठाकुर अनुकूल चंद्र की जयंती पर उनके समाधी स्थल पर हर साल मेला लगता है। ऐसा बताया जा रहा है कि जिस जगह सत्संग हो रहा था वहां का दरवाजा काफी छोटा होने की वजह से ऐसा हुआ।

मथुरा के राधा रानी मंदिर में भगदड़, 2 मरे

बताया जा रहा है कि स्थानीय पुलिस पूरी तरह से वीआईपी मूवमेंट में लगी हुई थी। यहां आज रेल राज्य मंत्री का दौरा होना था। इसलिए आयोजनकर्ताओं के साथ स्थानीय पुलिस तालमेल नहीं बिठा सकी। राज्य के डीजीपी जी एस रथ ने मृतकों की संख्या 9 होने की तो पुष्टि कर दी लेकिन घायलों की संख्या उन्होंने 12 से ज्यादा होने से इनकार किया।

उधर, मथुरा में बरसाना के राधा रानी मंदिर में हुई भगदड़ में 2 श्रद्धालुओं की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि मंदिर में राधाष्टमी पूजा के लिए हजारों श्रद्धालु इक्ट्ठे हुए थे उसी दौरान भगदड़ मची गई। भगदड़ के बाद लोग भागने लगे जिसमें सबसे ज्यादा चोट महिलाओं को आई।

वृंदावन: बांके बिहारी मंदिर में भगदड़, कई जख्मी

इस खबर को प्रशासन ने दबाने की पूरी कोशिश की। प्रशासन का कहना है कि मौके पर कोई भगदड़ नहीं मची बल्कि दम घुटने से महिलाओं की मौत हुई है। जबकि पुलिस का कहना है कि सीढ़ियों से गिरने की वजह से महिलाओं की मौत हुई है।

साफ है पुलिस और प्रशासन दोनों के बयान अलग-अलग है। इस खबर को कवर करने जा रहे पत्रकारों को पुलिस ने रास्ते में ही रोक लिया और जब पत्रकारों ने इसका विरोध किया तो पत्रकारों की गाड़ियों पर हमला भी किया गया।

 

न्यूज़लेटर सब्सक्राइब करेंऔर ईमेल में पाएं सारी ख़बरें!

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 4 वोट मिले

पाठकों की राय | 24 Sep 2012

Sep 25, 2012

आए दिन हिंदू धरम स्थलो और देव इस्तानो मे भगदार और मौते किसी साजिस का हिस्सा तो नही ?

shivraj bhatia lucknow


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.