25 जुलाई 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


मुंह छुपाकर नंगे पांव दौड़ा यूपी का दबंग आईपीएस!

Updated Feb 15, 2013 at 14:44 pm IST |

 

15 फरवरी 2013
आईबीएन 7 

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

इलाहाबाद। कुंभ मेले का बेहतर इंतजाम के लिए चाहे जितने भी दावे किए जाएं, लेकिन हकीकत यही है कि जिन लोगों पर इंतजाम का जिम्मा है वही इसकी धता बताने में देरी नहीं करते हैं। प्रशासन से जुड़े लोगों को हाईकोर्ट के आदेश की भी परवाह नहीं है। लखनऊ के डीआईजी नवनीत सिकेरा अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ कुंभ मेला स्नान के लिए गाड़ी से पहुंच गए। हालांकि, हाईकोर्ट ने साफ-साफ कहा है कि आम लोगों की कीमत पर वीआईपी दर्शन की सुविधा नहीं दी जा सकती और किसी को भी गाड़ी लेकर मेला तक पहुंचने की इजाजत नहीं दी जा सकती है, लेकिन हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी लखनऊ के डीआईजी खुद को इससे अनजान बताते रहे। जब आईबीएन7 संवाददाता ने उनसे सवाल पूछे तो उनसे जवाब देते नहीं बना।

लखनई के डीआईजी नवनीत सिकेरा हाईकोर्ट की रोक के बावजूद गाड़ी लेकर वीआईपी घाट पर पहुंच गए। हैरानी की बात ये है कि खुद लखनऊ के डीआईजी का कहना है कि उन्हें इस आदेश के बारे में मालूम नहीं था। वहीं एडीजी ला एंड आर्डर अरुण कुमार ने पहले ही साफ कर दिया था कि इस आदेश का जो भी उल्लंघन करेगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। यूपी सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री और कुंभ मेला प्रभारी मंत्री आजम खान ने कहा है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी वीआईपी स्नान कैसे कराए जा रहे हैं? इसके जांच के आदेश दे दिए गए हैं। गौरतलब है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शाही स्नान के दिन वीआईपी स्नान पर रोक लगाई थी। आजम खान ने कहा कि इस संबंध में वो देश के प्रधानमंत्री को पत्र लिखेंगे।

महाकुंभ: देखें, शाही स्नान के लिए कितना सजग है रेलवे 

महाकुंभ: देखें, वसंत पंचमी पर शाही स्नान ‘लाइव’

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 5 वोट मिले

पाठकों की राय | 15 Feb 2013

Feb 20, 2013

आज़म ख़ान जी आप तो चुप रहिए क्योकि आप लोग अपना धरम केवल देखिए .दूष्रे धरम को नही देखे तो अच्छा है .वो जो किया वो हिंदू धरम समझ के लिए किया है .. भारत माता की जाई आज़म जी आप भी दिल से बोलिए भारत माता की जाई ..

Anish Choudhary darbhanga

Feb 18, 2013

मा0 प्रधान मंत्री जी आप जितना समय इस देश के धर्म के अधिकार को बताने मे लगा रहे है उतना दिमाग़ आप देश के विकाश मे लगाए तो देश हमारा कुछ विकाश कर लेता ! मगर आप ऐसा क्यो केरेंगे क्योकि आप तो पागल है ना आप को तो बेर मरे या कन्या बस दचिना से मतलब है.

sumit mishra varanasi

Feb 18, 2013

भाई लॉ आंड ऑर्डर सिर्फ़ आम आदमी के लिए है .ख़ास करके जब उत्तर प्रदेस की बात हो यहाँ टॉप शॉर्ट पोलीस ऑफीसर को नही पता जबकि सब से पहले फॅक्स इन ऑफिसस मे ही होते हैं .अगर इनकी जगह आम आदमी हो तो जिसे वास्तव मे नही पता होता तो उसे और उसकी गाड़ी को नैनी मे ,अंडवा मे ,फाफामौ मे या फिर अल्लहाबाद रेलवे स्टेशन पर हही वहाँ तैनात पोलीस फोर्स द्वारा पता लग जाता तो फिर इन मह्शय को प्रशशनने संगम से 4 किलोमीटर पहले क्यों नही रोका क्या ड्यूटी कर रही मेला पोलीस को भी नही पता था

Ajeet upadhyay Jaunpur

Feb 15, 2013

भाई जी ये उतर परदेस ह यहा कुक्क भे हो सकता ह

sarwan soni sriganganagar

Feb 15, 2013

कोर्ट का आदेश प्रभावशाली लोगों के लिए कोई मायने नहीं रखता. इसका नमूना है पुलिस अधिकारी का वहाँ जाना और आदेश के बारे मे पता ही न होना. कुंभ के श्रधालुओ की सुरक्षा भगवान ही कर रहे शासन और प्रशासन नहीं

SATISH RAI ghazipur


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.