02 सितम्बर 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


भारतीय जवान का सिर काटकर ले गए पाकिस्‍तानी

Updated Jan 09, 2013 at 15:54 pm IST |

 

09 जनवरी 2013
आईबीएन- 7

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

नई दिल्ली। मंगलवार को भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में सुधार की कोशिशों को तगड़ा झटका पहुंचाते हुए पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर दो भारतीय जवानों को मौत के घाट उतार दिया। पाकिस्तान ने एक बार फिर युद्ध विराम का उल्लंघन करते घुसपैठ और गोलीबारी की। जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के करीब इस हमले में दो भारतीय जवान शहीद हो गये। ये घटना मेंढर इलाके की है। सेना ने माना है कि एक जवान का शव बुरी हालत में मिला है। भारतीय रक्षा मंत्रालय ने इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा की है।

दो जवान हुए शहीद

भारतीय सेना के प्रवक्ता कर्नल जयदीप दहिया के मुताबिक एक सैनिक का शव क्षत-विक्षत हालत में मिला है। सेना ने लांस नायक हेमराज और लांस नायक सुधाकर सिंह के पाकिस्तानी फायरिंग में शहीद होने की तस्दीक की है। सेना प्रमुख जनरल विक्रम सिंह ने उत्तरी कमांड के अधिकारियों से इस बारे में बात भी की है। सेना के मुताबिक मंगलवार सुबह पुंछ के मेंढर इलाके में घना कोहरा था। पाक सेना ने इस कोहरे का फायदा उठाकर भारत में घुसपैठ कराने की कोशिश की। भारतीय सैनिकों ने जवाबी फायरिंग की। दोनों ओर से करीब आधे घंटे तक फायरिंग हुई। इस फायरिंग में दो जवानों को शहादत देनी पड़ी।

सेना के मुताबिक पिछले एक महीने में पाक सेना ने करीब एक दर्जन बार युद्ध विराम का उल्लंघन किया है। पिछले 48 घंटे के भीतर ये दो बार हो चुका है। राजौरी, उरी, केरान और पुंछ सेक्टर में फायरिंग की कई वारदातें हुई हैं। इससे पहले विदेश मंत्रालय ने भी ये साफ किया था कि पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया है।

फायरिंग का मकसद घुसपैठ करवाना

जानकारों के मुताबिक सरहद पर ये वक्त पाकस्तान की ओर से आतंकी घुसपैठ का है। हो सकता है कि इस फायरिंग का मकसद घुसपैठ करवाना हो। उधर, पाकिस्तान सेना ने बिना उकसाए फायरिंग की बात से इंकार किया है। गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच 2003 से युद्ध विराम लागू है लेकिन पाकिस्तान की ओर से इसका लगातार उल्लंघन होता रहा है।

71 बार युद्ध विराम तोड़ा

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक पाकिस्तान ने पिछले साल 71 बार युद्ध विराम तोड़ा है। जबकि 2011 में 51 बार, 2010 में 44 और 2009 में 28 बार पाकिस्तान ने इसका उल्लंघन किया। पिछले साल जून महीने में सीमा पर पाकिस्तान की तरफ से बनाए जा रहे एक सुरंग का मामला भी सामने आया था जिसपर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई थी।

भारत की पीठ में फिर घोंपा छूरा

जानकारों का कहना है कि हैरत की बात ये है कि जब भी भारत ने पाकिस्तान की पहल पर रिश्तों की खटास दूर करने की कोशिश की है तब खुद पाकिस्तान ने ही इसमें जहर घोला है। पाकिस्तान का दोहरे रुख का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले महीने ही पाकिस्तान के गृहमंत्री रहमान मलिक भारत दौरे पर आए। भारत ने संबंध बहाल करने के लिए पाकिस्तान क्रिकेट टीम के साथ 5 मैचों की सीरीज को भी मंजूरी दी, लेकिन महीना पूरा होते ही सच सामने आ गया। रिश्ते सुधारने के नाम पर भारत की पीठ में एक बार फिर छूरा घोंप दिया गया है।

शहीद सौरभ के साथ पाक की हैवानियत की पूरी दास्‍तां

पाकिस्तान जिंदाबाद के नारों से हुआ पाक टीम का स्वागत

 

#Pakistani intruder

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 4 वोट मिले

पाठकों की राय | 09 Jan 2013

Jan 09, 2013

अगर भारती किसी पाकिस्तानी सेनिक का सिर कटे तो शैएड उनका कोर्ट मार्शल भी हो सकता है |इनाम तो किया देना है|जब तक ऑर्डर आएगा तब तक कम त्माम हो जाएगा |

kuldip kumar Ludhiana

Jan 09, 2013

एक शिर कटा तो पाकिस्तान का अब तक 10 शिर क्ट जाना चाहिए था/.

DEEPAK KUMAR SINGH ARA INDIA

Jan 09, 2013

भारत की नेता कहते है की हम इसका जबाब देंगे , जब एसी घटना होती है तो यही बोलते है .ओर कुछ नही करते .जान तो सिपाहियो की जा रही है .सबसे खराब भारत की नेता है .यही कहते -कहते कितने सिपाहियो की जान ले ली .ये बात कब तक सुनने को मिलेगा ये तो नेता ही जानते होंगे .ओर लास्ट मे शांति समझौता पेस करेगे .अब तक तो पाकिस्तान को जबाब दे देना था .

DEEPAK KUMAR SINGH ARA INDIA


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.