22 सितम्बर 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


रतन टाटा सरकार से खफा, कारोबारी माहौल पर चिंतित

Updated Dec 08, 2012 at 10:29 am IST |

 

08 दिसम्बर 2012
आईबीएन- 7

facebook पर hindi.in.com पेज को LIKE किया क्या?

नई दिल्ली।
दुनियाभर में भारतीय उद्योग को पहचान दिलाने वाले रतन टाटा सरकार से खासे नाराज हैं। टाटा के मुताबिक सरकार से सहयोग की कमी के चलते भारतीय उद्योग चीन से मुकाबला नहीं कर पा रहा। उन्होंने रिश्वत से प्रभावित कारोबारी माहौल पर भी चिंता जताई। 28 दिसंबर को टाटा समूह के चेयरमैन पद से रिटायर हो रहे रतन टाटा ने ये बातें लंदन के फाइनेंशियल टाइम्स अखबार को दिए एक इंटरव्यू में कही हैं।

इसी महीने टाटा संस के चेयरमैन की कुर्सी छोड़ रहे रतन टाटा सरकार से खासे नाराज हैं। अपने रिटायरमेंट से पहले फाइनेंशियल टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने सरकार पर एकजुट होकर काम न करने की तोहमत जड़ डाली। टाटा के मुताबिक उनके समूह ने विस्तार के लिए दूसरे उभरते बाजारों में संभावनाएं तलाशने की इसलिए योजना बनाई क्योंकि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह नौकरशाही को लेकर शिकायतों को दूर करने में नाकाम रहे।

दरअसल, रतन टाटा को सरकार की फैसले लेने में नाकामी खल रही है, जिसकी वजह से पूंजी निवेश देश से दूर जा रहा है और भारतीय कंपनियां विदेश जाने को मजबूर हैं। टाटा की मानें तो सरकार की ओर से सहयोग की कमी के चलते भारतीय उद्योग चीन से मुकाबला नहीं कर पा रहा है। रतन टाटा रिश्वत से प्रभावित कारोबारी माहौल से भी चिंतिंत हैं। रतन टाटा ने कहा कि टाटा समूह के नैतिक मूल्यों ने कारोबार में कीमत चुकाई है।

यही नहीं, उन्होंने सरकारी एजेंसियों के काम करने के तरीके पर भी सवाल उठाए। रतन टाटा ने कहा कि अलग-अलग सरकारी एजेंसी किसी कानून का अलग-अलग मतलब निकालती है। ऐसी सूरत में उनके समूह जैसी कंपनियां या कारोबारी समूह देश से दूर जाकर दुनिया भर में विकास के मौके तलाशने पर मजबूर हो जाते हैं।

गौरतलब है कि मनमोहन सरकार इस समय कई आर्थिक सुधारों को आगे बढ़ा रही है जिसमें मल्टी-ब्रैंड रिटेल, बीमा और एविएशन को विदेशी निवेश के लिए खोलना शामिल है। लेकिन रतन टाटा ने निवेशकों को सरकार से मिलने वाले सहयोग पर सवाल उठा दिए हैं। उनके मुताबिक सरकार के सहयोग में भारी अंतर है। अगर हमारे उद्योग को उसी तरह का प्रोत्साहन दिया जाता जैसा कि चीन में दिया जाता है तो मुझे लगता है कि भारत निश्चित तौर पर चीन से मुकाबला कर पाता।

इसके अलावा टाटा के इन-हाउस प्रकाशन में एक अलग इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि उनके उत्तराधिकारी साइरस मिस्त्री को समूह के नैतिक मूल्यों के साथ समझौता नहीं करने के लिए एक बड़े संघर्ष से जूझना पड़ेगा।

गौरतलब है कि रतन टाटा तीन हफ्ते बाद 28 दिसंबर को 75 साल के होने पर कंपनी की कमान छोड़ देंगे।

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 2 वोट मिले

पाठकों की राय | 08 Dec 2012


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.