19 अप्रैल 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


‘डर्टी सीडी’ ने सिंघवी को मजबूर किया, इस्तीफा दिया

Updated Apr 24, 2012 at 19:13 pm IST |

 

24 अप्रैल 2012
इंडो-एशियन न्यूज सर्विस

hindi.in.com अब फेसबुक के ऐप्स पर भी देखें


नई दिल्ली।
कथित सीडी कांड में फंसे कांग्रेस नेता व राज्यसभा सदस्य अभिषेक मनु सिंघवी को आखिरकार पार्टी के प्रवक्ता और संसद की एक स्थायी समिति के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना ही पड़ गया। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने हालांकि उनसे संसद में इस्तीफे पर सफाई देने की मांग की है वहीं बार काउंसिल ऑफ दिल्ली इस मसले पर एक मई को बैठक कर रही है।

सिंघवी ने कहा है कि इस विवाद के चलते संसद की कार्यवाही बाधित होने से रोकने के लिए उन्होंने इस्तीफा देने का कदम उठाया। सिंघवी का यह इस्तीफा ऐसे समय आया है जब मंगलवार को संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण आरम्भ हो रहा है।

सिंघवी के मुद्दे पर सोमवार सुबह कांग्रेस नेताओं की एक बैठक हुई थी, जिसमें उनके इस्तीफे का फैसला हुआ था, जिसकी घोषणा शाम में खुद सिंघवी द्वारा जारी एक बयान में की गई।

सीडी के बहाने मुझे बदनाम करने की साजिश: सिंघवी



सिंघवी ने सोमवार शाम एक विस्तृत बयान जारी कर अपने इस्तीफे की घोषणा की। उन्होंने कहा, "मैंने विधि, न्याय, कार्मिक व जन शिकायत सम्बंधी संसद की स्थायी समिति के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। साथ ही इस बारे में मैंने कांग्रेस अध्यक्ष को भी सूचित कर दिया है।"

उन्होंने कहा, "मैंने मीडिया को भी सम्बोधित नहीं करने का फैसला किया है।"

सिंघवी ने कहा, "मैंने ऐसा सिर्फ इसलिए किया है कि मनगढंत सीडी को लेकर संसद की कार्यवाही में बाधा न पड़े। चूंकि मैं पार्टी का अनुशासित सिपाही हूं, इसलिए मैं कोई ऐसा विषय नहीं बनना चाहता जिससे पार्टी को परेशानी हो। मेरे ऊपर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद और झूठे हैं।"

सिंघवी ने सीडी को लेकर कुछ प्रिंट व मीडिया समूह द्वारा चलाई गई खबरों के लिए उनकी आलोचना भी की।

उन्होंने कहा, "ऐसी खबरें प्रसारित की गई हैं कि सीडी में पद देने का वादा किया गया है। सीडी में किसी ने ऐसा कुछ सुना ही नहीं है। ऐसा कुछ है ही नहीं क्योंकि ऐसा कुछ हुआ ही नहीं है। यह पूरी तरह कल्पना पर आधारित, जान-बूझकर किया गया कार्य और सनसनी फैलाने वाला कृत्य है।"

उन्होंने कहा, "यह खेदजनक है कि एक सीडी को लेकर सनसनी फैलाई जा रही है जिसे वास्तव में तीन बार मनगढ़ंत और बनाया गया स्वीकार किया गया है। ड्राइवर द्वारा पुलिस को दिए अपने अंतिम बयान, उच्च न्यायालय में अपने लिखित बयान और न्यायाधीश की उपस्थिति में शपथ लेकर दिए गए मौखिक बयान से साफ है कि उसने कैसे और क्यों इस सीडी को तैयार करवाया।"

“भाजपा अनैतिकता व अनियमितता का सुपर बाजार है!”



सिंघवी ने खुद से सम्बंधित इस विवादास्पद सीडी को इंटरनेट पर जारी होने के बाद शनिवार को आरोप लगाया था कि न्यायालय के आदेश के बावजूद निहित स्वार्थों के चलते सनसनी फैलाने के लिए एक संगठित गिरोह द्वारा सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स का इस्तेमाल किया जा रहा है।

ज्ञात हो कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने 13 अप्रैल को पारित एक आदेश में आजतक, हेडलाइंस टुडे और इंडिया टुडे समूह को उस सीडी की सामग्रियों का प्रसार करने से रोक दिया था, जो कथितरूप से सिंघवी के पूर्व वाहन चालक द्वारा तैयार की गई है। इस सीडी में सिंघवी को आपत्तिजनक स्थिति में दिखाया गया है।

इस्तीफे के बावजूद भाजपा ने कहा कि सिंघवी को संसद में यह सफाई देनी चाहिए कि क्यों उन्होंने विधि व कानून सम्बंधी संसद की स्थायी समिति से इस्तीफा दिया।

भाजपा के वरिष्ठ नेता राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष अरुण जेटली ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, "यह बहुत गम्भीर मामला है और पार्टी ने इस पर कोई बयान नहीं दिया है। अब चूंकि उन्होंने संसद की स्थायी समिति के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है, हम उम्मीद करते हैं कि वे बयान देंगे कि क्यों उन्होंने इस्तीफा दिया।"

भाजपा प्रवक्ता प्रकाश जावडेकर ने कहा कि यह मामला कास्टिंग काउच से कतई कम नहीं है और सिंघवी को सफाई देनी चाहिए।

सेक्स स्कैंडल्स और अवैध सम्बंधों के जाल में फंसे लोग कैसे-कैसे!


इस बीच, बार काउंसिल ऑफ दिल्ली ने कहा कि सिंघवी से जुड़े कथित सीडी विवाद ने कानून के पेशे की गरिमा को ठेस पहुंचाई है।

बार काउंसिल ऑफ दिल्ली के सदस्य और दिल्ली बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष राजीव खोसला ने कहा, "ऐसी घटनाएं पूरी संस्था को नुकसान पहुंचाती हैं और इसे केवल एक व्यक्ति से जुड़ा होने के कारण अलग नहीं माना जा सकता।"

ज्ञात हो कि बार काउंसिल इस मुद्दे पर एक मई को एक बैठक करने जा रही है।

खोसला ने कहा, "दिल्ली के वकील सच्चाई जानना चाहते हैं, ताकि हर किसी को असलियत पता चले कि एक वकील के ड्राइवर ने डर्टी सीडी क्यों बनाई।"

ये खबरें भी पढ़ें

 

सचिन कॉन्टेस्ट: ‘सचिन तेंदुलकर की अब तक की सबसे शानदार पारी कौन-सी है और क्यों’।


सप्ताह भर की ख़ास खबरों पर पढ़ें विस्तृत जानकारी, ‘वीकेंड मैगजीन’

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 1 वोट मिले

पाठकों की राय | 24 Apr 2012

Apr 24, 2012

मनु जी बेकसूर है बिल्कुल बिल क्लिंगटन की तरह | और तोड़ा मौज मस्ती कर भी ली तो क्या हो गया, महात्मा गाँधी की तरह ब्रह्मचर्या प्रयोग कर रहे होंगे | इन्हे रास्ट्र पुत्र की उपाधि मिलना चाहिए और भारत रत्न भी | कॉंग्रेस इसे निजी मामला बता रही है क्यूकी क्या पता कल को सोनिया या राहुल का भी सी डी आ जाए |

ramdev patna


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.