01 सितम्बर 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


‎ओलंपिकः खेलगांव चकाचक, दूसरी तरफ कबाड़ी की दुकान

Updated Jul 19, 2012 at 18:33 pm IST |

 

19 जुलाई 2012
वार्ता

hindi.in.com अब फेसबुक के ऐप्स पर भी देखें

लंदन।
लंदन में अगले सप्ताह जब ओलंपिक शुरू होंगे तो एक तरफ जहां भव्य खेलगांव में दुनिया के तमाम सर्वश्रेष्ठ एथलीट इकट्ठा होंगे वहीं दूसरी तरफ दुनिया के कोने-कोने से सफाईकर्मियों की एक छोटी फौज भी ब्रिटेन की राजधानी पहुंच गयी है।

इन सफाईकर्मियों में अधिकतर छात्र शामिल हैं जो इन खेलों में सफाई का काम करके अपने लिए कुछ कमाने के इरादे से लंदन पहुंचे हैं। एथलीट और अधिकारी जहां खेलगांव के आलीशान फ्लैटों में रहेंगे वहीं इन सफाईकर्मियों को एक कबाड़ी के अहाते में रहने का ठिकाना मिला है।

चीन में अमेरिकी ओलंपिक टीम के कपड़े बने, बवाल मचा

कबाड़ी ने इस अहाते में 100 अस्थायी केबिन बनाए हैं और हर केबिन में दस लोगों के सोने की जगह है। कैंप क्लीनवेंट नाम का यह अस्थायी शिविर आसपास से गोदामों, कबाड़ और व्यस्त सड़क से घिरा हुआ है, लेकिन इसमें रहने वाले ओलंपिक में अपने लिए कुछ भविष्य ढूंढ रहे हैं।

हंगरी से आए एक सफाईकर्मी 21 वर्षीय छात्र ने कहा, मुझे यह शिविर बहुत पसंद आया है और मुझे यहां रहना भी रास आ रहा है। वैसे भी लंदन बढ़िया जगह हैं और मुझे ओलंपिक खेलों में काम करना पसंद है। सबसे अच्छी बात यह है कि मुझे दूसरे देशों के नए लोगों से मिलने का मौका मिल रहा है। हालांकि यहां कुछ भीड़भाड़ भी है। इन सफाईकर्मियों में यूरोप के दूरदराज से आए लोग शामिल हैं। कई केबिन के ऊपर फ्रांस, न्यूजीलैंड और अमेरिका के झंडे भी लहरा रहे हैं। कबाड़ी के यहां बना यह अनूठा शिविर इस सप्ताह तब चर्चा में आया जब समाचारपत्र 'डेली मेल' ने रिपोर्ट दी कि यहां रहने वाले इसे एक जेल या स्लम बता रहे हैं जहां 75 लोगों के नहाने के लिए मात्र एक शावर है।

राहुल बोस: ओलंपिक के दौरान शांत रहें भारतीय खिलाड़ी

लोहे के दरवाजे और कंटीली तारों से घिरा हुआ यह शिविर ओलंपिक गांव की चमचमाती दुनिया से बिल्कुल ही अलग दिखायी दे रहा है। हालांकि स्पेन से आए बिजनेस स्टडीज के एक छात्र ने कहा, मुझे बताया गया था कि हर कमरे में दस लोग रूकेंगे। इसलिए मैं किसी बहुत बड़े कमरे की उम्मीद नहीं कर रहा था। मुझे लगता है कि एक महीने के लिए यह बहुत बुरा नहीं है। स्पेन के इस छात्र ने कहा कि हां यदि मौसम खराब हो जाए तो स्थिति बहुत गड़बड़ हो जाती है। दूसरे असंतुष्ट लोगों के लिए इस छात्र ने कहा, शायद उनकी उम्मीदें बहुत ज्यादा होंगी। इस शिविर में रह रहे दूसरे लोगों की तरह यह छात्र भी अपनी पहचान बताना नहीं चाहता था क्योंकि उसे अपनी नौकरी छिन जाने का डर है।

लेकिन इन सफाईकर्मियों के लिए ओलंपिक में अपने अनुबंध से मिल रहा धन इन परिस्थितियों के बारे में सोचने का कोई मौका नहीं देता है। इन्हें प्रत्येक घंटे के लिए छह पौंड यानि 12.40 डॉलर मिल रहे हैं जो वयस्कों के लिए ब्रिटेन की न्यूनतम मजदूरी 6.19 पौड से कहीं ज्यादा है। साथ ही इन्हें तीन बार का खाना और ओलंपिक स्थल तक जाने के लिए मुफ्त ट्रांसपोर्ट मिल रहा है।

ओलंपिक का उद्घाटन समारोह आधा घंटा छोटा हुआ

स्पेन के छात्र ने कहा, यह वेतन मेरे देश से कहीं बेहतर है। स्पेन में सफाई के लिए ऐसा वेतन ढूंढ पाना ही बेहद मुश्किल है। हालांकि इन छात्रों को रोजाना 18 पौंड का किराया यानि महीने का 550 पौंड देना पड़ रहा है।

ओलंपिक से पहले पूनिया ने पार की 63 मीटर की बाधा

ओलंपिक में यूपी के खिलाड़ी सिर्फ 8 और नुमाइंदे 10?

लंदन ओलंपिक 2012 से जुड़ी सारी खबरें देखें

वीकेंड मैगजीनः लड़े पेस-भूपति, भारत का क्या होगा?

वीकेंड मैगजीनः 100 करोड़ आबादी, 22 ओलंपिक, पदक केवल 20

देखें, ओलंपिक के लिए मैरीकोम का मुक्का

तस्वीरें- ओलंपिक में भारत का अब तक का सफर

तस्वीरें- ज्वाला का जलवा, बैडमिंटन कोर्ट हो या रैंप

तस्वीरें- लंदन ओलंपिक 2012: ये हैं भारत की उम्मीद

तस्वीरें- लंदन ओलंपिक में भारतीय महिलाओं का दम

 

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 2 वोट मिले

पाठकों की राय | 19 Jul 2012


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.