IBN7IBN7

अाधुनिक तकनीक से हो TB का इलाज!

Published on Jul 17, 2014 at 10:10 | Updated Jul 17, 2014 at 11:14
0 IBNKhabar

वाशिंगटन। तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं। टीबी को लेकर हुए एक ताजा अध्ययन के अनुसार, देश में टीबी के कई मामलों की तो पुष्टि तक नहीं हो पाती, जिसका मुख्य कारण है निजी चिकित्सकों का बेहद लचर स्वास्थ्य सेवा तकनीक से लैस होना।

अध्ययन के शोधकर्ताओं का कहना है कि निजी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को टीबी की बेहतर तरीके से जांच के लिए उन्नत एवं अत्याधुनिक तकनीक उपलब्ध कराया जाना चाहिए, क्योंकि मरीज इलाज के लिए सबसे पहले वहीं पहुंचते हैं। अमेरिका के जॉन्स हॉपकिंस ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के मुख्य शोधकर्ता हेनरिक साल्जे ने कहा है कि भारत के अधिकांश लोग टीबी के शुरुआती दौर में निजी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के पास खांसी का इलाज कराने पहुंचते हैं।

पढ़े: कौन-कौन सी बीमारी से बचाती है तुलसी

Published on Jul 15, 2014 at 09:58
0 IBNKhabar

लखनऊ। आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है और मलेरिया, डेंगू, खांसी, सर्दी-जुकाम आदि विभिन्न जानलेवा बिमारियों से बचाती है। तुसली के इन्हीं गुणों से आकर्षित होकर कानपुर के जाजमऊ निवासी रामेश्वर कुशवाहा ने कई सालों तक इसके गुणों पर शोध किया और कुछ जड़ी-बूटियों का सम्मिश्रण विशेष पंच तुलसी अर्क (पंचामृत) तैयार किया। यह अर्क काफी लोगों को रोग मुक्त कर चुका है।

कुशवाहा बताते हैं कि 14 साल पहले तुलसी पौधों के गुणकारी नुस्खे उन्होंने आयुर्वेद की एक किताब में पढ़ी तो इस पर शोध की जिज्ञासा जगी। इसके बाद उन्होंने इस पर शोध शुरू किया। इस दौरान उन्होंने आसवन विधि से तुसली अर्क तैयार किया। इस अर्क से वह अलग-अलग बीमारियों का उपचार कर हजारों मरीजों को फायदा दिला चुके हैं।

कहीं सेहत न बिगाड़ दें चमकने वाले फल!

Published on Jul 15, 2014 at 08:33
0 IBNKhabar

लखनऊ। ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए अक्सर फलों को चमकाया जाता है। बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है। कार्बेट पाउडर का भी व्यापारी धड़ल्ले से उपयोग कर रहे हैं। चिकित्सकों की मानें तो इससे मानव शरीर में टॉक्सिन की मात्रा बढ़ती जाती है और यह लीवर व किडनी को भी नुकसान पहुंचाता है।

चिकित्सकों के अनुसार, शरीर में फल व जूस ही मिनरल पहुंचाते हैं। दुकानदार खुलेआम फलों को चमकाने की चाह में उस पर पॉलिश और पकाने के लिए कार्बेट का इस्तेमाल कर रहे हैं। जाहिर है कि अगर इसे बिना धुले खाया गया तो खाने वाले की सेहत बनने के बजाय बिगड़ेगी। ऐसे फलों के खाने से इसमें मौजूद केमिकल शरीर के अंदर जाकर शरीर के ऑर्गन को खराब कर सकते हैं। खासकर सबसे ज्यादा केमिकल युक्त फलों के सेवन से लीवर खराब हो जाता है। बाद में इसका प्रभाव शरीर के और हिस्सों मे पड़ने लगता है।

मधुमेह समेत कई रोगों में रामबाण है जामुन

Published on Jul 13, 2014 at 13:31
0 IBNKhabar

लखनऊ। फल मंडियों में आम के साथ-साथ आजकल धूम मचा रहे खूबसूरत जामुन में इसके औषधीय गुण चार चांद लगाते हैं क्योंकि यह महामारी का रुप ले रही मधुमेह समेत कई बीमारियों के इलाज में रामबाण का काम करता है।

जामुन में एंटी ऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं। इसके सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है। यह पाचन तंत्र के लिए लाभकारी है। खास बात यह है कि डायबिटीज से पीड़ित लोग भी इसका सेवन कर सकते हैं। हल्का मीठा होने के बावजूद यह डायबिटीज में लाभकारी है। जामुन में फलेवोनॉइड्स, फेनॉल्स प्रोटीन और कैल्शियम भी पाया जाता है। जो सेहत के लिए पायदेमंद होता है। फल वैज्ञानिकों के अनुसार इसमें केरोटीन, आयरन, फोलिक एसिड, पोटेशियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और सोडियम भी पाया जाता है। इस वजह से यह शुगर लेवल मेंटेन रखता है।

आपकी स्किन भी सूंघ सकती है चंदन की खुशबू!

Published on Jul 10, 2014 at 09:26
0 IBNKhabar

लंदन| गंध को सूंघने की क्षमता केवल नाक में ही नहीं होती। त्वचा कोशिकाओं में चंदन की खुशबू सूंघने के तत्व मौजूद होने की खोज हुई है। अगर इन अभिग्राहकों (ओलफैक्ट्री रिसेप्टर) को सक्रिय किया जाए, तो न केवल कोशिकाओं का प्रजनन तेजी से होता है, बल्कि घाव भरने में भी सहायता मिलती है।

जर्मनी के बोकम स्थित रूर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हंस हट् का कहना है कि अब तक के परिणामों से पता चलता है कि उनमें चिकित्सकीय और कॉस्मेटिक क्षमता है। निष्कर्ष के अनुसार, त्वचा की बाहरी स्तरों को बनाने वाली 'किरेटिनोसाइट्स' कोशिकाओं में घ्राण अभिग्राहक होते हैं। शोधकर्ताओं ने त्वचा में मौजूद घ्राण अभिग्राहकों 'ओआर2एटी4' का अध्ययन किया। खोज में यह बात सामने आई कि इसे कृत्रिम चंदन की खुश्बू 'सैंडलोर' से सक्रिय किया जा सकता है। यह अध्ययन पत्रिका 'इंवेस्टिगेटिव डरमेटोलॉजी' में प्रकाशित हुआ है।

रमजान में डायबिटीज रोगी इन बातों का रखें ध्यान!

Published on Jul 08, 2014 at 10:42 | Updated Jul 08, 2014 at 16:57
0 IBNKhabar

नई दिल्ली| दुनियाभर में मुस्लिम रमजान के पाक महीने में रोज़े रखते हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने मधुमेह पीड़ित लोगों को रमजान के दौरान अपने स्वास्थ्य के प्रति सतर्क रहने की सलाह दी है। चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि देर तक भूखे रहने की वजह से मधुमेह पीड़ितों का चयापचय बदल जाता है क्योंकि वे लंबे समय तक कुछ नहीं खाते।

फोर्टिस सी-डॉक के वरिष्ठ परामर्शदाता चिकित्सक अतुल लूथरा ने कहा कि चयापचय का बदलना देर तक भूखे रहने का नतीजा है, जो आहार और दवा समायोजन के संदर्भ में मधुमेह प्रबंध योजना को जरूरी बना देता है। रमजान के दौरान अधिकांश लोग 12 से 15 घंटों के अंतराल में दो बार भारी भोजन करते हैं।

रक्तदान कीजिए, स्वस्थ रहेगा आपका दिल!

Published on Jul 04, 2014 at 12:54
0 IBNKhabar

लंदन। अगर आप शिफ्ट के हिसाब से काम करते हैं तो रक्तदान एक ऐसा आसान तरीका है जिससे आप हृदय रोग के खतरों को घटा सकते हैं। यह जानकारी एक अध्ययन में दी गई है।

पारियों में काम करने वाले कामगारों में हृदय रोग के मामलों का दर उच्च देखा गया है। इसका कारण संभवत: थकान हो सकती है जिससे शरीर की जैविक घड़ी बाधित होती है और उसका खून में मौजूद लाल रक्त कणिकाओं पर गंभीर प्रभाव पड़ता है।

जानकारी: स्किन कैंसर से नहीं बचाती सन्सक्रीन!

Published on Jul 03, 2014 at 10:35 | Updated Jul 03, 2014 at 13:38
0 IBNKhabar

न्यूयॉर्क| जब त्वचा कैंसर से खुद को बचाने की बात हो, तो मन में थोड़ा डर होना जरूरी है। शोधकर्ताओं का कहना है कि त्वचा कैंसर के डर और चिंता से ग्रस्त लोग इस बीमारी के उत्पन्न होने की वजहों को जानने और सावधानी बरतने के बजाय त्वचा पर सन्सक्रीन लगाने का विकल्प चुनते हैं।

अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ बफ्फेलो में सहायक प्रोफेसर मार्क कीविनेमी ने कहा कि शोध में पता चला कि चिकित्सक लोगों को सन्सक्रीन के इस्तेमाल के लिए प्रोत्साहित करने के दौरान मरीज की भावनाओं को ज्यादा ध्यान में रखना चाहते हैं। शोध के तहत करीब 1,500 लोगों से उनके सन्सक्रीन इस्तेमाल से संबंधित प्रश्न पूछे गए। इन लोगों को व्यक्तिगत रूप से त्वचा के कैंसर का अनुभव नहीं था। प्रतिभागियों से त्वचा कैंसर के खतरे का अनुमान लगाने और इस बारे में उनकी चिंता से संबंधित प्रश्न पूछे गए।

आफत बना फास्टफूड!

Published on Jun 30, 2014 at 10:59 | Updated Jun 30, 2014 at 11:56
0 IBNKhabar

कानपुर। व्यस्त जीवनशैली के बीच तेजी से पनपती फास्ट फूड संस्कृति लोगों की हड्डियों को दीमक की तरह चाट रही है जिससे देश में हड्डियां खोखली कर देने वाली बीमारी ओस्टियोपोरोसिस महामारी का रूप धारण करती जा रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के आकड़ों के अनुसार साल 2003 तक भारत में ओस्टियोपोरोसिस के मरीजों की संख्या करीब चार करोड़ थी। अगले दशक के मध्य तक यह आंकड़ा नौ करोड़ तक पहुंचने की आशंका है।

मालूम हो कि ओस्टियोपोरोसिस में हड्डियों का आकार घटने लगता है। वृद्धावस्था में 60 और 65 साल की आयु के बीच इस मर्ज से ग्रसित होने की आशंका ज्यादा रहती है।

दुनिया में 27 लाख लोग नशीली दवाओं की गिरफ्त में!

Published on Jun 30, 2014 at 08:42 | Updated Jun 30, 2014 at 13:56
0 IBNKhabar

नोएडा। दुनिया में 27 लाख लोग गंभीर रूप से नशीली दवाओं का इस्तेमाल करते हैं, जिनमें से 250,000 लोगों की मौत हो जाती है। यह जानकारी रविवार को एक सेमिनार में डॉ. विनोद कुमार ने दी। आईटीएस डेंटल कॉलेज में नशीली दवाओं के खिलाफ आयोजित सेमिनार में सेंट स्टीफन हॉस्पिटल के जनरल मेडिसिन के विभागाध्यक्ष डॉ. कुमार ने बतौर मुख्य वक्ता नशीली दवाओं से होने वाले शारीरिक, व्यावहारिक लक्षणों के बारे में बताया।

उन्होंने कहा कि सुस्त दिखना, नाक बहना, झुर्रियां दिखना, भार कम होना, गैर जिम्मेदाराना व्यवहार, बहस करना, प्रेरणा की कमी होना जैसे व्यवहार व लक्षणों को देखकर जल्द इलाज कराना चाहिए। कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. पुनीत आहुजा ने कहा कि नशीली दवाओं को हमें समाज हटाने के लिए सख्त कदम उठाने चाहिए और सरकार को नशीली दवाओं के खिलाफ कठोर कानून को लागू करना चाहिए।





IBN7IBN7
ibnliveibnlive

ऑटो

सर्च इंजन गूगल ने एक ऐसी कार बनाई है जिसमें ना कोई स्टीयरिंग व्हील होगा और ना ही ब्रेक पैडल। इसे चलाने के लिए ड्राइवर की दरकार नहीं होती।
उत्तर प्रदेश में जल्द 15 साल पुराने गाड़ियों पर ग्रीन टैक्स लगेगा। यह कर 15 वर्ष की अवधि के बाद गाड़ियों का दोबारा पंजीकरण कराने के दौरान लिया जाएगा।
जापानी कार निर्माता कंपनी निसान ने अब इस कार पर से पर्दा हटा दिया है। यह कार न केवल अपनी सफाई खुद करती है बल्कि 'नैनो-पेंट प्रौद्योगिकी' के जरिये धूल-मिट्टी और गंदगी की सफाई भी करती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

रिश्ते

अगली बार आप अगर डेट पर जाएं तो संभलकर, क्योंकि एक अध्ययन में यह पाया गया है कि आंखें प्रेम और वासना में अंतर को समझ सकती हैं।
क्या आपको पता है कि आपकी लव लाइफ परेशानियों में क्यों घिरी है? इसका दोषी टेलीविजन पर आने वाले पारिवारिक एक्शन से भरपूर धारावाहिक हैं।
डांट, मार के जरिए बच्चों को सुधारने का की सोच रखने वाले सावधान हो जाएं क्योंकि इससे बच्चे सुधरते नहीं बल्कि मार खाने के 10 मिनट के अंदर दोबारा शैतानी शुरू कर देते हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

गैजेट्स

गूगल प्ले पर महिलाओं की रक्षा से संबंधित एक दर्जन से अधिक एनड्रॉइड एप्लिकेशंस सॉफ्टवेयर उपलब्ध हैं जिन्हें महिलाएं संकट की घड़ी में सक्रिय करके अपना बचाव कर सकती हैं।
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का कहना है कि गूगल का थ्रीडी स्मार्ट फोन अंतरिक्ष में चक्कर लगाने वाले गेंद के आकार के एक रोबोट के लिए मस्तिष्क और आंखों का काम करेगा।
रोजा शुरू करने से लेकर इफ्तारी तक का सही समय अब उन्हें प्रौद्योगिकी से मुहैया है। इसके लिए मोबाइल फोन पर मौजूद एप्लीकेशनों का शुक्रिया अदा किया जाना चाहिए।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

फैशन

एक अध्ययन में सामने आया है कि साधारण तौर पर एक महिला हर सप्ताह 6.40 घंटे अपने रूप को संवारने के लिए खर्च करती है।
वेलेंटाइन डे यानी प्यार करने वालों का दिन। इस दिन पर आर्थिक सुस्ती और बढ़ती महंगाई का कोई असर नहीं पड़ने वाला है।
ऑनलाइन खरीदारी का चलन बढ़ता ही जा रहा है। वर्ष 2013 में 2012 की 8.5 अरब डॉलर की खरीदारी के मुकाबले 85 फीसदी अधिक ऑनलाइन खरीदारी हुई।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

इतिहास

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 23 जुलाई का अपना ही एक खास महत्व है। इस दिन कई ऐसी घटनाएं घटी जो इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए दर्ज होकर रह गईं हैं।
भारतीय एवं विश्व इतिहास में 22 जुलाई का अपना ही एक खास महत्व है। इस दिन कई ऐसी घटनाएं घटी जो इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए दर्ज होकर रह गईं हैं।
भारतीय एवं विश्व इतिहास में 21 जुलाई का अपना ही एक खास महत्व है। इस दिन कई ऐसी घटनाएं घटी जो इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए दर्ज हो गईं।
ibnliveibnlive