IBN7IBN7

महाराष्ट्र के सभी एयरपोर्ट आतंकियों के निशाने पर


Published on Oct 02, 2013 at 23:06
0 IBNLive

मुंबई। हवाई हमले की चेतावनी के बाद महाराष्ट्र सरकार ने राज्य की सभी हवाई पट्टियों की सुरक्षा बढ़ा दी है। खुफिया विभाग ने अलर्ट जारी किया है कि राज्य की 24 हवाई पट्टियां आतंकियों के निशाने पर हैं।

आतंकी यहां से छोटे विमानों में विस्फोटक भरकर रिहाइशी इलाकों और मिलिट्री कैंप को निशाना बना सकते हैं। यही नहीं, लावारिस या कम इस्तेमाल वाली हवाई पट्टियों का इस्तेमाल आतंकी हमले के लिए कर सकते हैं।

फर्जी दस्तावेज दिखाकर 8 बैंकों से लिया कार लोन


Published on Oct 01, 2013 at 18:01
0 IBNLive

मुंबई। बैंक को 2.25 करोड़ रुपये का चूना लगाने वाले 8 लोगों को मुलुंड की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार आरोपियों ने कार लोन के फर्जी दस्तावेजों के सहारे जून 2012 से अब तक 12 बैंकों से 2.25 करोड़ रुपये का चूना लगा दिया।

गिरफ्तार आरोपियों में से प्रमुख आरोपी 35 वर्षीय पंकज चौरे कंप्यूटर में डिप्लोमा किया है। उसने अपने अन्य सात साथियों के साथ मिलकर बैंकों से कार लोन के लिए फर्जी दस्तावेज पेश कर लोन ले लेते थे और दो तीन किश्त भरने के बाद रुपये भरना बंद कर देते थे। पुलिस ने चौरे को भांडुप के एक मॉल के समीप से उस समय गिरफ्तार किया जब वह एक और बैंक से फर्जी दस्तावेज के सहारे लोन लेने की कवायद में जुटा था।

आरोपी पहले कार लोन लेने वालों का पता लगाते थे और बाद में उनके पास कार लोन एजेंट के रूप में जाकर उनसे राशन कार्ड, आयकर, पैन कार्ड, बिजली बिल आदि दस्तावेज एकत्र कर उसके आधार पर स्वयं लोन ले लेते थे। आरोपी बिना रजिस्ट्री की हुई कार खरीदते थे और उस कार के ऊपर कई बैंकों से लोन ले लेते थे। 12 बैंकों ने शिकायत की है कि उनके बैंक के साथ धोखाधड़ी की गई है।

इमारत गिरी-61 मरे,पर गुनहगार कौन नहीं पता!


Published on Sep 30, 2013 at 23:03
0 IBNLive

मुंबई। मुंबई की बाबू गेनु इमारत शुक्रवार को ढही और मलबे में दबकर 61 लोग मर गए। लेकिन कार्रवाई के नाम पर बीएमसी सात अफसरों को निलंबित कर खानापूर्ति करती नजर आ रही है। अभी तक ना तो प्रशासन और ना ही सरकार के पास इस बात का कोई जवाब है कि आखिर असली गुनहगार कौन है।

आईबीएन7 लगातार बीएमसी के अफसरों की लापरवाही से रूबरू करवा रहा है। नवंबर, 2012 में बीएमसी ने अपनी ऑडिट रिपोर्ट में इस इमारत की फौरन मरम्मत और इसे खाली कराने की सिफारिश की थी। लेकिन जून, 2013 में पीएंडडी विभाग के अधिकारियों ने अपनी रिपोर्ट में इस इमारत में सिर्फ मरम्मत की जरूरत बताई। इसी विभाग के पास इस इमारत को खाली कराने, उसे गिराने या उसकी मरम्मत का काम होता है।

मुंबई: इमारत हादसे में अबतक 50 की मौत


Published on Sep 28, 2013 at 19:32 | Updated Sep 28, 2013 at 20:04
0 IBNLive

मुंबई। मुंबई इमारत हादसे में मृतकों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। अब तक 50 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है, जबकि 56 से ज्यादा लोगों को मलबे से जिंदा निकाला जा चुका है। राहत-बचाव काम में लगी एनडीआरएफ और फायर ब्रिगेड की टीम बेहद सावधानी से अपने काम में लगी है।

इस बीच अपनों की तलाश में लोग आज भी उम्मीद लिए जेजे अस्पताल और हादसे की जगह के चक्कर लगाते देखे गए। प्रशासन ने हादसे के लिए जिम्मेदार एक डेकोरेटर को भी गिरफ्तार किया है। तमाम मुश्किलात के बीच अभी भी जिंदगी की उम्मीद बाकी है। और इस उम्मीद को मलबे से निकले एक परिंदे ने और भी जिंदा किया है।

देखें- अपनों की तलाश में रो-रोकर बुरा हाल


Published on Sep 27, 2013 at 13:14 | Updated Sep 27, 2013 at 13:33
0 IBNLive

मुंबई। मुंबई में बीएमसी की चार मंजिला इमारत ढहने से तीन लोगों की मौत हो गई है और कई लोग मलबे में दबे हैं। इस इमारत में 22 परिवार रहते थे। खैर खबर जानने के लिए इनके रिश्तेदार मौके पर पहुंच गए हैं। इस हादसे के बाद उन परिवारों का बुरा हाल है जिनके अपने धराशायी हुई इस इमारत के मलबे में दबे हैं। आईबीएन7 ने ऐसे ही परिवारों से बातचीत की। देखें वीडियो-

मुंबई: 4 मंजिला इमारत ढही, 6 मरे-कई दबे


Published on Sep 27, 2013 at 08:18 | Updated Sep 27, 2013 at 15:22
0 IBNLive

मुंबई। दक्षिण मुंबई में आज सुबह चार मंजिला इमारत के ढह जाने से एक नाबालिग लड़की सहित छह लोगों की मौत हो गई। घटना में 15 लोग घायल हुए हैं। बृहनमुंबई नगर निगम (बीएमसी) की आपदा नियंत्रण इकाई के अधिकारी ने बताया कि मलबे के नीचे 35 लोगों के फंसे होने की आशंका है और राहत संस्थाओं ने बड़े पैमाने पर राहत कार्य शुरू कर दिया है।

अधिकारी ने बताया कि सर जे.जे. अस्पताल में भर्ती कराए गए 15 घायलों में से पांच की मौत हो गई है। एक की मौत नायर अस्पताल में हुई। मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारी ने कहा कि दक्षिण मुंबई डॉकयार्ड रोड के नजदीक नगर निगम के कर्मचारियों के लिए बनाई गई इमारत लगभग 33 साल पुरानी थी।

बांद्रा सी लिंक पर मिली लड़की की सिर कटी लाश


Published on Sep 23, 2013 at 08:31 | Updated Sep 23, 2013 at 12:15
0 IBNLive

मुंबई। मुंबई में बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर एक 22 साल की लड़की की सिर कटी लाश मिली है। लड़की की लाश कई टुकड़ों में है। शरीर का ऊपरी हिस्सा गायब है। जानकारी के मुताबिक लड़की की लाश एक बोरे में बांधकर फेंकी गई थी। लाश पर मिले कपड़ों से अंदाज लगाया जा रहा है कि वो किसी अच्छे परिवार से संबंधित हो सकती है।

पुलिस को शक है कि लड़की की पहले किसी दूसरी जगह पर हत्या करने के बाद उसकी पहचान छिपाने के लिए लड़की के शरीर को कई हिस्सों में काटकर फेंका गया है। मिली जानकारी के मुताबिक लड़की के शव के दूसरे हिस्सो को आसपास के इलाके में तलाशने के लिए पुलिस सर्च ऑपरेशन कर रही है।

गणपति विसर्जन के वक्त लड़की से छेड़छाड़


Published on Sep 20, 2013 at 22:57 | Updated Sep 21, 2013 at 08:45
0 IBNLive

नई दिल्ली। गणपति के गुनहगारों ने मुंबई को एक बार फिर शर्मसार किया है। एक बार फिर बीच सड़क पर एक बेटी के साथ बदसलूकी हुई है। गणपति विसर्जन के दौरान मुंबई में भीड़ में घुसे कुछ मनचलों ने एक बेटी के साथ बदसलूकी की। लेकिन उनकी ये हरकत मिड-डे अखबार के फोटो जर्नलिस्ट के कैमरे में कैद हो गई। तस्वीरें सामने आने के बाद मुंबई पुलिस को जवाब नहीं सूझ रहा है, क्योंकि विसर्जन से पहले छेड़छाड़ को रोकने के लिए मुंबई पुलिस ने बड़े-बड़े दावे किए थे।

18 सितंबर यानि बुधवार सुबह जब पूरी मुंबई बप्पा की भक्ति में लीन थी। विघ्नहर्ता से अपनी तमाम परेशानियों को हर लेने की दुआ करते हुए उनके विसर्जन में शरीक थी। लेकिन भायखला फ्लाईओवर के ठीक नीचे भीड़ में एक लड़की के छेड़छाड़ हो रहे थे।

मिड डे अखबार के फोटो जर्नलिस्ट अतुल कांबले उस वक्त भायखला फ्लाईओवर पर ही खड़े थे। और विसर्जन से जुड़ी तस्वीरें ले रहे थे। अचानक उन्हें लगा कि नीचे करीब 15-20 मीटर की दूरी पर एक लड़की भीड़ से निकलने की कोशिश कर रही है, लेकिन निकल नहीं पा रही। वहीं भीड़ का फायदा उठाकर कुछ लड़के उसके साथ छेड़खानी कर रहे हैं। कोई उसके शरीर पर हाथ डाल रहा था तो कोई उसे अपनी ओर खींच रहा था। शोर इतना था कि चीखने का भी कोई फायदा नहीं था। यह सबकुछ करीब 20 मिनट तक चलता रहा, और भीड़ की शक्ल में मौजूद ये मनचले लड़की के साथ बदसलूकी करते रहे।

छेड़खानी का विरोध, भाई को किया अधमरा


Published on Sep 16, 2013 at 10:41 | Updated Sep 16, 2013 at 11:44
0 IBNLive

मुंबई। मुंबई के कांदिवली में एक लड़की के साथ छेड़खानी का एक खौफनाक मामला सामने आया है। लड़की से छेड़खानी का विरोध करने पर आवारा लड़कों ने उसके भाई को पीट-पीट कर अधमरा कर दिया। पीड़ित परिवार का आरोप है कि बार-बार छेड़छाड़ और गुंडागर्दी की शिकायत करने के बावजूद पुलिस आखें मूंदे रही। इसकी वजह से आरोपियों के हौंसले और बढ़ गए।

पीड़ित लड़की ने बताया कि जब भी वो रास्ते पर निकलती है तो आवारा लड़के सिटी मारते हैं, छेड़खानी करते हैं और दुपट्टा खींचते हैं। धमकाने के लिए घर पर लोहे की रॉड लेकर आते हैं। हमेशा डर लगता है कि पता नहीं क्या कर देंगे, पता नहीं कब एसिड फेंक देंगे।

बॉलीवुड ने कहा, 13 सितंबर न्याय का एक दिन


Published on Sep 13, 2013 at 21:28 | Updated Sep 13, 2013 at 23:27
0 IBNLive

मुंबई| दिल्ली में पिछले साल 16 दिसंबर को हुए गैंगरेप के मामले में शुक्रवार को चारों दोषियों को दिल्ली में एक फास्ट ट्रैक कोर्ट द्वारा सुनाई गई मौत की सजा को बॉलीवुड ने 'न्याय का एक दिन' बताया है। पिछले साल दिसंबर में एक युवती से गैंगरेप और क्रूरतम हमले के मामले में मुकेश सिंह, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय ठाकुर को गुरुवार को दोषी ठहराया गया था।

दरिंदों को सुनाई गई सजा पर बॉलीवुड की प्रतिक्रिया कुछ यूं रही :





IBN7IBN7
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

पहले जहां केवल खून के रिश्ते वाला ही अपना अंग दे सकता था, वहीं अब अशोक जैसे रिश्तेदार भी अपना अंग दे सकते हैं।
अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
ibnliveibnlive