IBN7IBN7

2 फरवरी से आम लोगों करेंगे मोनो रेल से सफर


Published on Jan 30, 2014 at 12:18 | Updated Jan 30, 2014 at 22:29
0 IBNLive

मुंबई। मेट्रो सेवा के बाद देश को अब मोनो रेल का तोहफा मिलने वाला है। और इसकी शुरुआत होने वाली है मुंबई से। आज एमएमआरडीए मोनोरेल के पहले फेज का अंतिम ट्रायल करेगी। इसके बाद फरवरी के पहले हफ्ते से यात्री मोनोरेल में सफर कर पाएंगे।

पहले फेज में मोनोरेल वडाला से चेंबूर तक का सफर तय करेगी। ये दूरी 9 किमी की है। इसके लिए पहले लोगों को बस या लोकल ट्रेन बदल कर सफर करना पड़ता था, जिसमें करीब 1 घंटा लगता था। मोनो रेल से लोगों को इस लंबे और बोझिल सफर से निजात मिलेगी, और ये सफर वो महज 19 मिनट में तय कर पाएंगे। हर मोनोरेल में चार डिब्बे होंगे और एक बार में 550 लोग इस एयरकंडीशन रेल का फायदा उठा सकते हैं।

महाराष्ट्र में उत्पाद 'राज', टोल नाकों पर तोड़फोड़!


Published on Jan 27, 2014 at 09:21 | Updated Jan 27, 2014 at 22:39
0 IBNLive

मुंबई। टोल टैक्स के खिलाफ महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के मुखिया राज ठाकरे के भड़काऊ बयान के बाद उनकी पार्टी के कार्यकर्ता जमकर उत्पात मचा रहे हैं। मुंबई समेत राज्य के दूसरे शहरों में भी एमएनएस कार्यकर्ताओं का उग्र प्रदर्शन रविवार रात से ही जारी है। सोमवार को भी मुंबई के अलावा जलगांव, रायगढ़ के टोल नाकों पर जमकर तोड़फोड़ हुई। राज ठाकरे पर नरमी बरतने के आरोप लगने के बाद महाराष्ट्र सरकार और पुलिस अब हरकत में आती दिख रही है। अबतक 11 मामले दर्ज हुए हैं और 71 एमएनएस कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है।

दहिसर के अलावा मुंबई के मुलुंड टोल नाका, कल्याण नाका, डोंबीवली चेक नाका, नवी मुंबई का ऐरोली और वाशी नाका। मुंबई से सटे ठाणे और ठाणे ग्रामीण के टोल नाकों पर एमएनएस कार्यकर्ताओं और नेताओं ने जमकर हंगामा किया, तोड़फोड़ की और बिना टोल के गाड़ियों को जाने दिया। एमएनस के इस चुनावी पैंतरे पर मुंबई के लोगों की मिलीजुली प्रतिक्रिया है।

मुंबई के अलावा महाराष्ट्र के कई और शहरों का भी यही हाल रहा। सुरक्षा के बावजूद एमएनएस कार्यकर्ताओं ने टोल नाकों पर तोड़फोड़ और हंगामा किया। तोड़फोड़ और हंगामे के बाद पूरे महाराष्ट्र में टोल नाकों पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। अब तक इस मामले में दहिसर और नवघर में दो FIR दर्ज की गई है। कई एमएनएस कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है, तो कुछ को हिरासत में भी लिया गया है। इसमें एमएनएस के एमएलए भी शामिल हैं। हंगामे और तोड़फोड़ के बाद अब महाराष्ट्र सरकार राज ठाकरे के बयान की जांच करवा रही है और राज के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए कानूनी सलाह भी ले रही है।

घर लौटी लड़की से गार्ड ने की रेप की कोशिश


Published on Jan 25, 2014 at 21:03 | Updated Jan 25, 2014 at 22:44
0 IBNLive

नई दिल्ली। महिलाओं के लिए सुरक्षित मानी जाने वाली मुंबई एक बार फिर शर्मसार हुई है। यहां के पॉश इलाके पवई में 25 साल की एक लड़की के साथ बलात्कार की कोशिश की वारदात सामने आई है। आरोप उसी सोसाइटी के सिक्योरिटी गार्ड पर लगा है जिसमें ये पीड़ित रहती थी। सीसीटीवी और मेडिकल से आरोपों की पुष्टि हो चुकी है। नए कानूनों के तहत पुलिस ने गार्ड पर बलात्कार की धारा के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

पीड़ित लड़की 23 जनवरी को अपने दोस्तों के साथ पार्टी करने के बाद रात करीब 2 बजे अपने घर पहुंची। पुलिस के मुताबिक दोस्तों ने सुरक्षा के लिहाज से उसे सोसाइटी के मेन कैंपस में छोड़ा। लेकिन उनके वापस जाते ही सिक्योरिटी गार्ड ने अकेली देखकर लड़की के साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की। उसपर यौन हमला किया गया। पुलिस के मुताबिक अगले दिन सुबह 6 बजे के करीब जब पीड़ित लड़की का भाई बाहर आया तो उसे अपनी बहन बेहोशी की हालत में मिली। पीड़ित को अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टर ने यौन हमले की पुष्टि की। जिसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की।

मुंबई के स्टेशन से गायब हो रही हैं महिलाएं!


Published on Jan 24, 2014 at 21:43
0 IBNLive

मुंबई। आंध्र प्रदेश की 23 साल की सॉफ्टवेयर इंजीनियर इस्टर अनुया की हत्याकांड मामले में मुंबई पुलिस अब भी अंधेरे में तीर चला रही है। पुलिस की जांच में अभी तक कोई ठोस सुराग हाथ नहीं लगने से परिवार बेहद नाराज है। अनुया के परिवार ने आज गृह मंत्री शिंदे से मुलाकात कर इस मामले में व्यक्तिगत रूप से हस्तक्षेप करने और आरोपियों की गिरफ्तारी जल्द से जल्द कराने की मांग की। शिंदे ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री आर आर पाटिल को चिट्ठी लिखकर इस मामले में ध्यान देने को कहा है।

अपनी बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए जोनाथन प्रसाद पिछले 10 दिनों से जगह-जगह जाकर फरियाद कर रहे हैं। लेकिन जोनाथन के मुताबिक कहीं से भी उन्हें ये भरोसा नहीं मिल रहा कि जल्द ही उनकी बेटी के कातिल पकड़े जाएंगे। इस्टर अनुया का अधजला शव 16 जनवरी को मुंबई के ईस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे से मिला था। लेकिन अभी तक पुलिस को इस मामले में कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। यही वजह है कि महाराष्ट्र के गृहमंत्री आर आर पाटिल से मुलाकात के बाद शुक्रवार को इस्टर अनुया के परिजनों ने दिल्ली में गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे से मुलाकात की। शिंदे ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री आर आर पाटिल को चिट्ठी लिखकर परिवार की मदद करने को कहा है।

अनुहया मर्डर केस: अब भी पुलिस के हाथ खाली


Published on Jan 24, 2014 at 11:21
0 IBNLive

मुंबई। मुंबई में आंध्र प्रदेश की 23 साल की सॉफ्टवेयर इंजीनियर इस्टर अनुहया की हत्याकांड मामले में पुलिस अब भी अंधेरे में तीर चला रही है। पुलिस की जांच में अभी तक कोई ठोस सुराग हाथ नहीं लगने से परिवार बेहद नाराज है। अनुहया का परिवार आज गृह मंत्री शिंदे से मुलाकात कर इस मामले में व्यक्तिगत रूप से हस्तक्षेप करने और आरोपियों की गिरफ्तारी जल्द से जल्द कराने की मांग करेगा। इससे पहले परिवार राज्य के राज्य के गृह मंत्री आर आर पाटिल से भी मुलाकात कर चुका है। साथ ही परिवार प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से भी मुलाकात के लिए समय मांगेगा।

गौरतलब है कि 4 जनवरी को विशाखापट्टनम एक्सप्रेस से वापस मुंबई आ रही 23 साल की सॉफ्टवेयर इंजीनियर इस्टर अनुहया लापता हो गई थी। अनुहया 5 जनवरी से मुंबई के कुर्ला स्टेशन से वो गायब हो गई थी। पुलिस से भरोसा टूटने के बाद परिवार ने मोबाइल फोन के लोकेशन के जरिए खुद ही लाश को ढूंढ निकाला था।

अब महाराष्ट्र में भी बिजली होगी सस्ती


Published on Jan 20, 2014 at 16:26
0 IBNLive

मुंबई। राजधानी दिल्ली की तर्ज पर अब महाराष्ट्र में भी बिजली सस्ती होगी। महाराष्ट्र कैबिनेट ने राज्य में बिजली सस्ती करने का फैसला लिया है। नारायाण राणे कमेटी की सिफारिशों को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। अब महाराष्ट्र में बिजली दरों में 15 से 20 फीसदी की कटौती की जाएगी। ये कटौती एग्रीकल्चर, इंडस्ट्री और घरेलू बिजली की दरों में की गई है।

घरेलू बिजली का इस्तेमाल करने वालों को 100 यूनिट के लिए पहले 4 रुपये 16 पैसे देने पड़ते थे और अब उन्हें 100 यूनिट के लिए 3 रुपये 36 पैसे देने पड़ेंगे। 100 से 300 यूनिट के लिए पहले 7 रुपये 42 पैसे देने पड़ते थे, लेकिन अब 6 रुपये 5 पैसे देने पड़ेंगे। MERC की इजाजत के बाद इस फैसले को अमल में लाया जाएगा। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही कांग्रेस सांसद संजय निरुपम और प्रिया दत्त ने महाराष्ट्र में अपनी ही सरकार के खिलाफ बिजली के दाम कम करने के लिए प्रदर्शन किया था।

मुंबई में लापता महिला इंजीनियर की मिली लाश!


Published on Jan 17, 2014 at 09:00 | Updated Jan 17, 2014 at 10:36
0 IBNLive

मुंबई। मुंबई से लापता महिला सॉफ्टवेयर इंजीनियर की लाश मिलने का दावा किया गया है। मुंबई के इस्टर्न हाईवे के कंजूरमार्ग इलाके में एक लड़की की जली हुई लाश मिली है। बताया जा रहा है कि ये लाश 12 दिनों से लापता सॉफ्टवेयर इंजीनियर एस्थर एन्हुआ की ही है। पुलिस को शक है कि लड़की के साथ कुछ गलत किया गया और उसके बाद हत्या कर उसकी लाश को जलाने की कोशिश की गई।

एस्थर एन्हुआ के चाचा अरुण कुमार ने कहा कि इन दिनों से पुलिस ने कुछ नहीं किया है। सिर्फ लैपटॉप पर काम कर रही है और अब बॉडी मिल गई। उनकी भतीजी एन्हुआ 5 जनवरी से लापता थी। वो मुंबई के कुर्ला स्टेशन से वो गायब हुई थी। पुलिस उसे खोजने में नाकाम रही। पीड़ित परिवार का दावा है कि पुलिस से भरोसा टूटने के बाद उन्होंने खुद ही लाश को ढूंढ निकाला।

11 साल की मासूम को नौकर बनाया, ढाए जुल्म


Published on Jan 13, 2014 at 13:45 | Updated Jan 13, 2014 at 14:58
0 IBNLive

मुंबई। मुंबई से सटे मीरा रोड में फिर समाज को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। जहां 11 साल की मासूम बच्ची के साथ हैवानियत का खेल खेला गया है। दो साल पहले पढ़ाई के नाम पर 11 साल की मासूम बच्ची को आरोपी सर्जिल अंसारी और उसके पति फरहत यूपी के बदायूं से ले कर आए थे। मगर मुंबई लाने के बाद उससे घर के हर काम कराया जाता था, बच्ची को समय पर खाना नही दिया जाता था। छोटी सी गलती पर उसको मारा पीटा जाता, जिसके निशान आज भी मासूम के शरीर में मौजूद है।

बच्ची की माने तो पिछले एक साल से वो आरोपी सर्जिल अंसारी और उसके पति फरहत के जुल्मों से परेशान थी और जब भी मौका मिलता वो अपने बिल्डिंग में रहने वालो से मदद मांगती थी। मगर वो डर कर पूरी बात किसी को भी नहीं बताती थी। जब दो दिन पहले पूनम क्राउन बिल्डिंग के लोगों को पूरी बात पता चली तो उन्होंने इस मासूम को बचाने के लिए पहले सभी लोगों की मीटिंग की उसके बाद मुस्कान को लेकर मीरा रोड पुलिस स्टेशन गए। यहां मुस्कान ने बताया की उसे पढ़ाई के नाम पर मुंबई लाया गया था पर यहां आने के बाद उससे घर का काम कराया जाने लगा और जब भी उसे नींद आती या उससे कोई गलती हो जाती तो उसे बेरहमी से मारा जाता। बच्ची के साथ हो रहे अत्याचार की जानकारी मिलने पर बिल्डिंग के लोगों ने पुलिस में शिकायत कर बच्ची को छुड़ाया। पुलिस ने आरोपी शख्स को गिरफ्तार कर लिया है। पत्नी अब भी फरार है।

3 नाबालिग भतीजियों से रेप करता रहा फूफा


Published on Jan 09, 2014 at 16:04 | Updated Jan 09, 2014 at 17:47
0 IBNLive

मुंबई। मुंबई के ओशिवारा इलाके में एक सनसनीखेज बलात्कार का मामला सामने आया है, जिसमें एक आरोपी ने अपने ही रिश्तेदार की तीन बेटियों के साथ बलात्कार किया। तीनों पीड़ित बच्चियां नाबालिग हैं। पुलिस ने इस मामले आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और आगे की जांच कर रही है।

इन तीन नाबालिग बच्चियों की उम्र महज 13,. 15 और 17 साल की है। पिता घर चलाने के लिए दर्जी का काम करते थे। पर परिवार बड़ा होने की वजह से पिता बच्चियों को ठीक से पालन-पोषण नही कर पा रहा था। इसलिए पिता ने अपनी बहन के कहने पर सबसे पहले अपनी बड़ी बेटी को उसके घर भेज दिया। इस उम्मीद में कि वहां पर उसे अच्छा खाना औऱ अच्छे कपड़े पहनने को मिलेंगे।

1.30 के बाद पार्टी चली तो आंटी पुलिस बुला लेगी!


Published on Dec 30, 2013 at 21:26 | Updated Dec 30, 2013 at 22:25
0 IBNLive

नई दिल्ली। मायानगरी मुंबई में नए साल के जश्न की तैयारियां जोरों पर हैं। होटल, डिस्को और बार के साथ-साथ लोग भी धूमधाम से नया साल मनाने की तैयारी में जुटे हैं। उधर मुंबई पुलिस ने भी किसी अनहोनी से निपटने के लिए कमर कस ली है। मुंबई पुलिस ने नए साल की रात पार्टी की समय सीमा तय कर दी है। पुलिस के मुताबिक नए साल की रात डेढ़ बजे के बाद पार्टी बंद हो जाएगी। हालांकि होटल, रेस्तरां वालों के साथ-साथ आम जनता भी इस समय सीमा का पुरजोर विरोध कर रही है।

मुंबई पुलिस का कहना है कि नए साल का जश्न रात डेढ़ बजे तक खत्म हो जाना चाहिए। महिलाओं की सुरक्षा और आतंकी हमले की आशंका के मद्देनजर मुंबई पुलिस ने ये समय सीमा तय की है। राज्य सरकार ने भी इस पर मुहर लगा दी है लेकिन होटल, डिस्को और रेस्तरां मालिक इस फैसले का विरोध कर रहे हैं। उनकी दलील है कि नए साल के दिन उनका कारोबार बढ़ जाता है। ऐसे में लोगों को सुबह 5 बजे तक पार्टी करने की छूट मिलनी चाहिए।





IBN7IBN7
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

तपेदिक (टीबी) का मुफ्त और अत्यधिक प्रभावी इलाज मौजूद है, फिर भी भारत में हर साल इस बीमारी से हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं।
आयुर्वेद ही नहीं, अब एलोपैथी भी तुलसी के गुणों को मानने लगी है। विशेषज्ञों ने स्वीकार किया है कि तुसली मनुष्य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होती है।
बाजार में बिक रहे ये फल कहीं आपकी सेहत न बिगाड़ दें! फलों में चमक लाने के लिए वार्निश जैसे रसायनों का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।
ibnliveibnlive