IBN7IBN7

मैं हमेशा लाइव गाती हूं: ब्रिटनी स्पीयर्स


Published on Oct 07, 2013 at 12:06 | Updated Oct 07, 2013 at 12:09
0 IBNLive

लास एंजेलिस। ब्रिटनी स्पीयर्स कहती हैं कि अपने संगीत कार्यक्रमों में वह हमेशा लाइव प्रस्तुति देती हैं। वेबसाइट 'फीमेलफर्स्ट डॉट को डॉट यूके' के अनुसार 31 साल की ब्रिटनी ने यह बात तब कही जब कुछ रिपोर्ट में उनके बारे में यह दावा किया गया कि अपने संगीत कार्यक्रमों में ब्रिटनी रिकॉर्डेड गीतों पर प्रस्तुति देती हैं।

ब्रिटनी ने एक रेडियो इंटरव्यू में कहा कि मैं हमेशा लाइव कार्यक्रमों में लाइव गाने गाती हूं। हर समय मैं बहुत अच्छा नहीं कर सकती लेकिन अपनी तरफ से बेहतर करने की कोशिश करती हूं। ब्रिटनी बहुत जल्द लास वेगास रेसीडेंसी में लाइव कार्यक्रम पेश करने वाली हैं।

चाकू की नोंक पर हुआ मेरा बलात्कार: मैडोना


Published on Oct 06, 2013 at 17:13
0 IBNLive

लॉस एंजेलिस। पॉप स्टार मैडोना ने खुलासा किया है कि न्यूयॉक सिटी में पहले ही साल में उनके साथ चाकू की नोंक पर बलात्कार किया गया था। वेबसाइट 'कांटैक्टम्यूजिक डॉट कॉम' की रपट के मुताबिक, 55 वर्षीय पॉप स्टार ने यह खुलासा हार्पर की बाजार पत्रिका के ताजा अंक में किया है।

उन्होंने कहा कि मैं जैसा सोचा करती थी, न्यूयॉर्क वैसा नहीं था। इसने मेरा स्वागत खुली बांहों से नहीं किया। पहले साल में मुझे बंदूक के बल पर दबोच लिया गया। मेरी पीठ पर चाकू लगा, मुझे जबरन खींचा और इमारत की छत पर मुझसे बलात्कार किया गया।

हॉलीवुडः 42 साल में हाईस्कूल पास हुए व्हालबर्ग!


Published on Sep 17, 2013 at 17:17 | Updated Sep 17, 2013 at 17:21
0 IBNLive

लास एंजेलिस। हॉलीवुड अभिनेता मार्क व्हालबर्ग ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपना हाईस्कूल पूरा कर लिया है और इस गर्मी में उन्हें उनका डिप्लोमा मिल जाएगा। वेबसाइट 'ईऑनलाइन डॉट कॉम' के मुताबिक 42 साल के व्हालबर्ग ने नौवीं कक्षा के बाद स्कूल छोड़ दिया था। उन्होंने 'हफिंगटन पोस्ट' में लिखा कि मैं भाग्यशाली था कि मुझे हाईस्कूल में ऑनलाइन शामिल होने के बारे में पता चल सका।

उन्होंने कहा कि लगभग एक साल से मैं कक्षाएं कक्षाएं कर रहा था और पढ़ाई कर रहा था। मैं काम पर जाता था और घर रहता था। यह सुखद भी था और चुनौतीपूर्ण भी। लेकिन मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि अब मैं आधिकारिक रूप से एक हाईस्कूल स्नातक हूं।

टोरंटो में ‘12 इयर्स ए स्लेव’ ने मारी बाजी


Published on Sep 16, 2013 at 09:41
0 IBNLive

टोरंटो। टोरंटो अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में अमेरिका के लुइसियाना के एक अश्वेत की सच्ची कहानी पर आधारित फिल्म ‘12 इयर्स ए स्लेव’ को पहला पुरस्कार दिया गया है। सोलोमोन नार्थुप द्वारा 1853 में लिखे गए संस्मरण पर बनी फिल्म का निर्देशन शेम के निर्देशक स्टीव मैकक्वीन ने किया है और मुख्य भूमिका शिवेतेल इजियोफर ने निभाई है।

आलोचकों ने भी फिल्म की काफी प्रशंसा की है और इसे ऑस्कर का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। यह एक ऐसे अश्वेत की कहानी है जिसे 1840 के दशक में एक गुलाम के रूप में बेच दिया गया। पुरस्कार लेने के बाद मैकक्वीन ने कहा कि यह उन कहानियों में से एक थी जो मुझे लगा कि लोगों के सामने लाई जानी चाहिए।

‘जुरासिक वर्ल्ड’ के नाम से रिलीज होगी ‘जुरासिक पार्क-4’


Published on Sep 12, 2013 at 12:32
0 IBNLive

लॉस एंजलिस। हॉलीवुड की ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘जुरासिक पार्क’ के चौथे संस्करण को ‘जुरासिक वर्ल्ड’ के नाम से रिलीज किया जाएगा। हॉलीवुड की जानीमानी स्टूडियो यूनिवर्सल पिक्चर्स ने जुरासिक पार्क के चौथे संस्करण के प्रदर्शन की घोषणा कर दी है। यह फिल्म जुरासिक वर्ल्ड के नाम से 2015 में रिलीज की जाएगी। इस फिल्म का निर्देशन कोलीन ट्रेवोरॉय ने किया है। कोलीन ने फिल्म की पटकथा डरेक कोन्नोली के साथ मिलकर लिखी है।

उल्लेखनीय है कि स्टीवन स्पीलबर्ग के निर्देशन में बनी जुरासिक पार्क 1993 में रिलीज हुई थी। 1997 का इसका दूसरा संस्करण ‘द लास्ट वर्ल्ड के नाम से प्रर्दशित किया गया जबकि इस फिल्म का तीसरा संस्करण ‘जुरासिक पार्क-3’ 2001 में रिलीज किया गया था। जुरासिक वर्ल्ड जून 2015 में रिलीज होगी।

आखिरी बार ‘टर्मिनेटर’ सीरीज में काम करेंगे आरनॉल्ड


Published on Sep 10, 2013 at 13:53
0 IBNLive

लॉस ऐंजलिस। हॉलीवुड के सुपरस्टार आरनॉल्ड श्वाजनेगर अपनी सुपरहिट फिल्म ‘टर्मिनेटर’ की सीरीज में अंतिम बार काम कर सकते हैं। खबर है कि आरनॉल्ड अपनी बढ़ती उम्र को देखते हुए टर्मिनेटर सीरीज की फिल्मों में आगे काम नहीं करना चाहते हैं। आरनॉल्ड का मानना है चूंकि वह 66 साल के हो चुके हैं इसलिए फिल्मों में उनपर उम्र हावी दिखने लगी है। आरनॉल्ड चाहते हैं कि अंतिम बार टर्मिनेटर सीरीज में इस तरह से काम करें कि दर्शक उन्हें हमेशा याद रखें।

आरनॉल्ड ने 10 साल पहले टर्मिनेटर सीरीज की फिल्म में काम किया था और अब वह संभवत: अंतिम बार इस सीरीज में काम करने जा रहे हैं। फिल्म का निर्देशन एलैन टेलर करेंगे। इस फिल्म में आरनॉल्ड के अलावा लिंडा हेमिल्टन और माइकन बाइहिन की भी मुख्य भूमिका होगी। उल्लेखनीय है कि आरनॉल्ड श्वाजनेगर ने 1984 में प्रर्दशित ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘द टर्मिनेटर’ में काम किया था। इसके बाद इस फिल्म का दूसरा संस्करण 1991 में ‘टर्मिनेटर-2, ‘जजमेट डे’ बनाया गया था। इस फिल्म का तीसरा संस्करण 2003 में ‘टर्मिनेटर-3’ बनाया गया। सभी संस्करणों में अरनॉल्ड ने मुख्य भूमिका निभाई थी।

लेडी गागा ने फैंस को दिया गीत चुनने का मौका


Published on Sep 05, 2013 at 08:49
0 IBNLive

न्यूयार्क। मशहूर सिंगर लेडी गागा ने अपने प्रशंसकों को अपने नए एल्बम में से एक गीत चुनने को कहा है, जिसे वे अगली बार जारी करेंगी। वेबसाइट 'कांटेक्टम्यूजिक डॉट काम' के अनुसार गागा के एल्बम का पहला गीत 'अपलाउस' पहले ही जारी किया जा चुका है। अब अगला गीत जारी करने से पहले उन्होंने अपने प्रशंसकों को गीत चुनने का विकल्प दिया है। गागा अपने प्रशंसकों को लिटिल मॉन्सटर्स के नाम से बुलाती हैं।

गागा ने ट्विटर पर लिखा है कि ठीक है मॉन्सटर्स, अब जबकि आप 'आर्टटॉप' के गीतों की झलक देख चुके हैं तो अगली बार आप कौन सा गाना चाहेंगे, जिसे जारी किया जाए। आप 'मैनिक्योर' 'सेक्सड्रीम्ज', 'ऑरा' या 'स्वाइन' किसी भी गीत का चुनाव कर सकते हैं। ज्यादातर प्रशंसकों ने एल्बम के गाने 'सेक्सड्रीम्ज' को अगली बार जारी किए जाने का विकल्प चुना है।

माइकल डगलस ने कहा, नहीं टूटी मेरी शादी


Published on Sep 04, 2013 at 10:27
0 IBNLive

लास एंजेलिस। हॉलीवुड अभिनेता माइकल डगलस ने अपने वैवाहिक जीवन में किसी भी तरह के तनाव या संघर्ष की बात से इंकार किया है। डगलस ने अभिनेत्री कैथरीन जेटा जोंस से विवाह किया है। इस समय वह अपनी नई फिल्म 'बिहाइंद द कैंडेलाब्रा' के प्रचार में व्यस्त हैं। उन्होंने कहा कि उनका वैवाहिक जीवन ठीक-ठाक चल रहा है, बस जोंस और मैं कुछ समय के लिए अलग-अलग रह रहे हैं।

फिल्म के विशेष प्रदर्शन पर पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि आप क्या बात कर रहे हैं, मेरे घर में कोई कलह चल रही है? ऐसा कुछ भी नहीं है, सब कुछ ठीक है। मैं और मेरी पत्नी अपने जीवन में खुश हैं।

तो क्या बेटे के कारण टूटी डगलस की शादी?


Published on Aug 31, 2013 at 11:10
0 IBNLive

लास एंजेलिस। निर्माता माइकल डगलस और कैथरीन जेटा-जोंस के बीच अलगाव का कारण डगलस के बेटे कैमरन को माना जा रहा है। कैमरन, डगलस और उनकी पूर्व पत्नी डाएंड्रा लुकर के बेटे हैं। तनाव के कारण डगलस और कैथरीन ने 13 साल पुरानी शादी तोड़कर अलग होने का फैसला लिया।

34 साल के कैमरन कई सालों से कानूनी मुकदमों और नशे की लत से जूझ रहे हैं। उन्हें न्यूयॉर्क शहर के एक होटल के कमरे में मेथ और कोकीन का सौदा करते हुए भी पकड़ा गया था। वेबसाइट 'शोबिजपाई डॉट कॉम' ने एक सूत्र के हवाले से कहा कि कैमरन के कारण ही माइकल और कैथरीन अलग हुए हैं।

पति का पॉलीग्राफ टेस्ट कराना चाहती हैं कोल


Published on Aug 26, 2013 at 10:04 | Updated Aug 26, 2013 at 10:38
0 IBNLive

लॉस एंजेलिस। टीवी प्रस्तोता कोल कार्डेशियन अपने पति लामार ओडम का पॉलीग्राफ टेस्ट कराना चाहती हैं, ताकि वह खुद को बेगुनाह साबित कर सकें। वेबसाइट 'फीमेलफर्स्ट डॉट को डॉट यूके' के अनुसार, कोल और ओडम के वैवाहिक रिश्ते में उस समय खटास आई, जब दो महिलाओं ने ओडम पर उनके साथ रिश्ते में रहने का आरोप लगाया। हालांकि दोनों ही महिलाओं ने अभी तक कोल और ओडम के तलाक की बात नहीं उठाई है, लेकिन कोल इस बात की सच्चाई जानना चाहती हैं।

पत्रिका 'ओके' के अनुसार एक सूत्र ने बताया कि वैसे परिस्थति इतनी भी बुरी नहीं हुई है, फिर भी कोल सच जानना चाहती हैं। वह ओडम की पॉलीग्राफ टेस्ट कराना चाहती हैं। जबकि ओडम इस बात से चकित और नाराज हैं। सूत्र ने कहा कि जब भी कोल ओडम से टेस्ट के बारे में बात करती हैं, वह भड़क जाते हैं और उन पर भरोसा नहीं करने के लिए कोल पर नाराज होते हैं।





IBN7IBN7
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

अगर आपको अक्सर गुस्सा आता है और आप अपने साथी पर बेवजह चीखते-चिल्लाते हैं, तो आपको अपने खून में ग्लूकोज के स्तर की जांच करानी चाहिए।
बच्चों में चिकनपॉक्स की बीमारी तेजी से फैल रही है। इससे रोजाना सिम्स, जिला अस्पताल व निजी चिकित्सा संस्थानों में बीमार बच्चों की लंबी कतार लग रही हैं।
दिन में कम से कम एक बार भोजन में सेम, मटर या दाल खाने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है।
ibnliveibnlive