IBN7IBN7

दिल के लिए चाय अच्छी, कॉफी से करें तौबा


Published on Sep 02, 2014 at 09:41
0 IBNLive

लंदन। अगर आपको चाय और कॉफी में चुनाव करना है तो चाय पीना आपके लिए ज्यादा अच्छा होगा क्योंकि इसमें ऑक्सीकरणरोधी (एंटीऑक्सीडेंट) गुण होते हैं। एक शोध के मुताबिक, चाय पीने से गैर-हृदवाहिनी (नॉन कार्डियो-वस्कुलर-सीवी) का खतरा 24 फीसदी तक कम हो जाता है।

स्पेन के बार्सिलोना में यूरोपियन सोसाइटी ऑफ कार्डियोलॉजी (ईएससी) कांग्रेस 2014 में फ्रांस के प्रोफेसर निकोलस डानचिन ने बताया कि कॉफी और चाय हमारे जीवन के महत्वपूर्ण अंश हैं। हमने फ्रांस के हृदवाहिनी बीमारियों के कम जोखिम वाले लोगों में सीवी घातकता और गैर सीवी घातकता पर चाय और काफी के प्रभावों की जांच की। शोध में 18 से 95 आयुवर्ग के 1,31,401 लोगा शामिल हुए।

एक अनार सौ बीमार नहीं, सौ चमत्कार


Published on Aug 31, 2014 at 17:57
0 IBNLive

लंदन। अनार में कई स्वास्थ्यवर्धक गुण होते हैं। यह स्वस्थ और खूबसूरत त्वचा के लिए भी काफी फायदेमंद है। वेबसाइट 'फीमेलफर्स्ट डॉट को डॉट यूके' के अनुसार, प्राकृतिक एवं आयुर्वेदिक तरीकों से त्वचा की देखभाल करने वाले सौंदर्य प्रसाधनों के ब्रांड अर्बन वेद के ब्रांड प्रबंधक रेन होम्स का कहना है कि अनार में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट उम्र बढ़ने के कुप्रभावों से बचाता है। इसके अलावा भी अनार कई मायनों में फायदेमंद है।

अनार में शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होता है। यह बढ़ती उम्र में त्वचा को पोषण देता है, झुर्रियों से बचाता है और सेहत की दृष्टि से भी लाभदायक होता है। अनार का रस त्वचा के लिए काफी फायदेमंद होता है। यही नहीं, इसके बीजों को त्वचा की स्क्रबिंग के लिए उपयोग किया जा सकता है।

रोज खाएं टमाटर, प्रोस्टेट कैंसर से छुटकारा पाएं


Published on Aug 29, 2014 at 09:01
0 IBNLive

लंदन। जो व्यक्ति सप्ताह में दस से ज्यादा टमाटर खाता है उसे प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा 18 प्रतिशत कम रहता है। यह जानकारी एक अनुसंधान में सामने आई है। इस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए ब्रिस्टोल विश्वविद्यालय और आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने प्रोस्टेट कैंसर से पीड़ित 50 और 69 वर्ष की उम्र के 1,806 लोगों की खुराक और जीवनशैली पर ध्यान दिया और उसकी 12005 कैंसर मुक्त लोगों के साथ तुलना की।

अध्ययन में प्रोस्टेट कैंसर की 'आहारीय तालिका' विकसित की जिसमें आहारीय अवयवों सेलेनियम, कैलसियम और वैसे खाद्य पदार्थ जिसमें लाइकोपिन की प्रचुरता होती है, शामिल किया गया। यह पाया गया कि जिन लोगों ने इन तीन आहारीय अवयवों को खाने में शामिल किया उनमें प्रोस्टेट कैंसर की आशंका कम पाई गई। टमाटर और उसके उत्पाद जैसे टमाटर का जूस और पकाए हुए बीन सबसे ज्यादा गुणकारी पाए गए। 10 भाग से ज्यादा खाने वाले पुरुषों में बीमारी होने का खतरा 18 प्रतिशत कम पाया गया।

दिल के व्यायाम से होती है दिमाग की सुरक्षा


Published on Aug 27, 2014 at 10:31 | Updated Aug 27, 2014 at 10:57
0 IBNLive

टोरंटो| दिल की सेहत के लिए की जाने वाली कसरतें हमारे दिमाग के लिए भी लाभकारी हैं। एक अध्ययन के मुताबिक, स्वस्थ दिल के लिए किया जाने वाला व्यायाम, उम्र बढ़ने के साथ होने वाली संज्ञानात्मक हानि से हमें बचाता है। शोधकर्ताओं ने पाया कि स्वास्थ्यवर्धक जीवनशैली धमनियों को लचीला बनाए रखने में मदद करती हैं, जिसके परिणामस्वरूप बाद के जीवन में संज्ञानात्मक क्षमताएं संरक्षित रहती हैं।

हमारे शरीर की धमनियां उम्र के साथ सख्त हो जाती हैं और दिमाग तक रक्त पहुंचाने से पहले दिल तक जाने वाली महाधमनी तक रक्त पहुंचाने वाली नलिका कठोर होने लगती हैं। कनाडा के मोंट्रियल विश्वविद्यालय के शीर्ष शोधकर्ता क्लौडीन गौथीर ने बताया कि वास्तव में कठोरीकरण का संबंध संज्ञानात्मक बदलावों से हो सकता है।

आपका सनस्क्रीन बना समुद्री जीवों के लिए खतरा!


Published on Aug 22, 2014 at 11:45 | Updated Aug 22, 2014 at 12:13
0 IBNLive

न्यूयार्क। सनस्क्रीन आपकी त्वचा को भले ही अल्ट्रवायलेट किरणों से बचाता हो, लेकिन क्या आप को पता है कि इससे पर्यावरण खतरे में पड़ सकता है। समुद्र में नहाने के दौरान जब आपकी त्वचा पर लगा सनस्क्रीन पानी में मिलता है, तो विषाक्त प्रभाव उत्पन्न कर सकता है और यह छोटे समुद्री जीवों के लिए खतरनाक हो सकता है। बाद में यही छोटे जीव बड़े समुद्री जीवों का भोजन भी बनते हैं।

स्पेन के शोधकर्ता एंटोनियो तोवार-सानशेज और डेविड सानशेज-क्वीलस ने पाया कि सनस्क्रीन में आम तौर पर पाए जाने वाले टाइटेनियम डाइऑक्साइड और जिंक ऑक्साइड अल्ट्रावायलेट किरणों और हाइड्रोजन पेरोक्साइड जैसे विषैले यौगिकों के संपर्क में आकर प्रतिक्रिया करते हैं। हाइड्रोजन पेरोक्साइड की अत्यधिक मात्रा समुद्र में पाए जाने वाले पादप और सूक्ष्म शैवालों को नुकसान पहुंचाती है, यही पादप और शैवाल छोटे समुद्री जीवों का भोजन होते हैं और छोटे समुद्री जीव बाद में बड़े समुद्री जीवों का भोजन बनते हैं।

रहना है फिट, तो बादाम से करें दिन की शुरुआत


Published on Aug 22, 2014 at 09:53
0 IBNLive

नई दिल्ली। स्वस्थ रहना है, तो दिन की शुरुआत ठंडे पानी, बादाम और कसरत से करें। दिन भर आप तरोताजा महसूस करेंगे। एक विशेषज्ञ का ऐसा ही कहना है। फिटनेस परामर्श कंपनी बैटल ऑफ बल्जेस के संस्थापक चिराग सेठी ने स्वास्थ्य के कुछ नुस्खे साझा किए।

1-सुबह उठते ही सबसे पहले आधा लीटर ठंडा पानी पिएं। खाली पेट ठंडा पानी पीने से मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में मदद मिलती है।

मेट्रो का सफर अब घटाएगा आपका वजन!


Published on Aug 21, 2014 at 11:28
0 IBNLive

लंदन| अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अब जिम में पसीना बहाने के लिए अल सुबह उठने की जरूरत नहीं है। आपको करना सिर्फ यह है कि ऑफिस जाते वक्त अपने वाहन का उपयोग न कर मेट्रो का इस्तेमाल करना शुरू कर दीजिए।

इंग्लैंड में हाल ही में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, निजी वाहन की बजाय सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने वाले व्यक्ति उनकी अपेक्षा कम चर्बी वाले पाए गए, जो कार्यालय जाने के लिए निजी वाहनों का इस्तेमाल करते हैं। सार्वजनिक परिवहन से ट्रेवल करने वाले यात्रियों में मोटापे का खतरा कम होता है, हालांकि इस तरह सार्वजनिक परिवहन के जरिए दैनिक यात्रा करने वाले व्यक्यिों और मोटापे में संबंध के बेहतर प्रमाण मौजूद नहीं हैं।

क्यों महिलाओं को होती है पुरुष से ज्यादा टेंशन!


Published on Aug 19, 2014 at 13:43 | Updated Aug 19, 2014 at 14:40
0 IBNLive

न्ययॉर्क| महिलाओं का सामना जब जोखिम भरी परिस्थितियों से होता है, तो वे चिंतित हो जाती हैं और तनावपूर्ण परिस्थितियों में उनका प्रदर्शन बहुत खराब हो जाता है। यह बात एक अध्ययन में सामने आई है। महिलाओं के लिए जोखिम भरी परिस्थितियों में बेचैनी का बढ़ना हानिकारक है, क्योंकि इससे उनकी प्रस्तुति और उपलब्धि की क्षमता प्रभावित होती है।

स्टैनफोर्ड युनिवर्सिटी में समाजशास्त्र में डाक्टरेट की उम्मीदवार सुजेन आर फस्क ने कहा कि जोखिम भरे माहौल या परिस्थितियों में पुरुषों की तुलना में महिलाएं प्रतिकूल प्रतिक्रियाएं देती हैं। जबकि सामान्य परिस्थितियों में महिला-पुरुष की क्षमता एक समान होती है। फस्क ने अपने शोध के लिए तीन तरीकों से अध्ययन किया, जिसमें उन्होंने ऑनलाइन और आमने सामने की पूछताछ के तरीकों का इस्तेमाल किया।

गंजों के लिए खुशखबरी, घने बालों की दवा ईजाद


Published on Aug 18, 2014 at 19:15 | Updated Aug 18, 2014 at 19:51
0 IBNLive

वाशिंगटन। गंजों के लिए इससे बड़ी खुशखबरी क्या हो सकती है कि अब उनके भी सिर पर घने बाल होंगे। लेकिन यह खास खुशखबरी बाल उड़ने की बीमारी 'एलोपेसिया एरियाटा' से ग्रस्त लोगों के लिए है। अमेरिका की कोलंबिया युनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने ऐसे लोगों के सिर पर बाल उगाने में सफलता प्राप्त कर ली है। शोधकर्ताओं ने एलोपेसिया एरियाटा से पीड़ित लोगों के बाल कूप को नष्ट करने वाले इम्यून कोशिकाओं की पहचान कर ली है।

उन्होंने खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा स्वीकृत उस दवा का सफल परीक्षण किया है, जो उन प्रतिरक्षा कोशिकाओं को खत्म करता है, जिससे सफलतापूर्वक दोबारा बाल उगते हैं। इस इलाज के शुरू होने के पांच महीने के अंदर ही मरीजों के घने बाल उग आए और हमला करने वाली टी कोशिकाएं समाप्त हो गईं।

पढ़ें: कुछ बच्चों को क्यों लगता है गणित से डर?


Published on Aug 18, 2014 at 17:04 | Updated Aug 18, 2014 at 17:11
0 IBNLive

न्यूयॉर्क। कुछ बच्चे बचपन में गणित से डरते हैं, लेकिन क्यों? इसका जवाब अब उपलब्ध है। स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं ने अब इस बात का पता लगा लिया है कि किस कारण से कुछ बच्चे गणित के सवाल चुटकी में हल कर लेते हैं। कुछ को गणित के सवाल हल करने में दिक्कतें होती हैं। इन शोधकर्ताओं में एक भारतीय मूल का वैज्ञानिक भी शामिल है।

अध्ययन के वरिष्ठ लेखक और मनोरोग एवं व्यावहारिक विज्ञान के प्रोफेसर विनोद मेनन ने बताया है कि इस अध्ययन में हमें हर बच्चे में संज्ञानात्मक विकास के दौरान होने वाले गतिशील परिवर्तन की जानकारी मिली है। मेनन ने बताया है कि बच्चों की दीर्घकालिक स्मृति में याद करने और तथ्यों की मजबूत पकड़ बनाने के लिए हिप्पोकैंपस एक ढांचा उपलब्ध कराता है। हिप्पोकैंपस ऐसा क्षेत्र है, जो नई स्मृति बनाने में कई भूमिकाएं निभाता है।





IBN7IBN7
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया भर में हर साल 10 लाख बच्चे बीमारियों और कारणों की वजह से अपने जीवन का दूसरा दिन तक नहीं देख पाते।
छत्तीसगढ़ की राजधानी से 77 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में डॉक्टरों ने एक महिला के पेट से 8 किलो का ट्यूमर निकाला है। महिला पिछले तीन साल से पेटदर्द से काफी परेशान थी।
एक शोध में कहा गया है कि जिन लोगों का बल्ड ग्रुप एबी है उनमें ज्यादा सोचने और याददाश्त कमजोर पड़ने की समस्या ज्यादा होती है।
ibnliveibnlive