IBN7IBN7

अब नाइट शिफ्ट करने के बाद भी रहेंगे तरोताजा


Published on Jan 18, 2015 at 12:36 | Updated Jan 19, 2015 at 07:26
0 IBNLive

मांट्रियल। कैसा रहेगा, जब एक दवा खाकर आप नाइट शिफ्ट करने के बाद भी तरोताजा महसूस करेंगे और दिनचर्या में बदलाव से होने वाले कैंसर सहित खतरनाक बीमारियों से दूर रह सकेंगे। हां, यह संभव है। ऑस्ट्रेलियाई शोधकर्ताओं के एक दल ने कहा है कि ग्लूकोकॉर्टिक्वाइड के टैबलेट की सहायता से ऐसा संभव हो सकता है। यह हॉर्मोन का एक प्रकार है, जिसका इस्तेमाल विभिन्न रोगों के इलाज में शक्तिशाली सूजन रोधी दवा के तौर पर किया जाता है।

डगलस मेंटल हेल्थ यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट में सेंटर फॉर स्टडी एंड ट्रीटमेंट ऑफ सर्काडियन रिद्म (शरीर में जैविक घड़ी) के निदेशक डिएन बी बोइविन ने कहा कि इस नई वैज्ञानिक खोज ने नवीन उपचारों का द्वार खोला है, जो सर्काडियन प्रणाली के विभिन्न भागों पर प्रभाव डालेगा, जिससे सोने के कार्यक्रम को अपने हिसाब से समायोजित करने में मदद मिलेगी।

पढ़ें: मधुमेह के बढ़ते खतरे से कैसे करें बचाव


Published on Jan 16, 2015 at 18:57 | Updated Jan 16, 2015 at 19:49
0 IBNLive

डॉ सुनील एम. जैन

नई दिल्ली। भारत में जिस तेज गति से मधुमेह या डायबिटीज के रोगियों की संख्या बढ़ती जा रही है उसे देखते हुए अब जरूरत रोकथाम पर विशेष ध्यान देने की है। एक अनुमान के अनुसार लगभग 12 प्रतिशत आबादी को मधुमेह है। 2011 में आईसीएमआर द्वारा प्रायोजित सर्वे के अनुसार भारत में लगभग 6 करोड़ 20 लाख डायबिटीज रोगी हैं एवं 7 करोड़ 50 लाख लोगों को प्री-डायबिटीज है।

जेनेटिक भी हो सकती है तनाव की समस्या!


Published on Jan 12, 2015 at 12:24
0 IBNLive

न्यूयॉर्क। एक ताजा अनुसंधान से पता चला है कि तनाव मोल लेने की समस्या वंशानुगत भी हो सकती है। अनुसंधान में उस गुणसूत्रीय जोड़े की पहचान कर ली गई है, जो मुश्किल हालात के बाद तनाव का खतरा बढ़ा देते हैं। इसका स्पष्ट आशय है कि पीढ़ियों से मिले ये गुणसूत्र हममें मानसिक अवसाद बढ़ाने की समस्या भी पिछली पीढ़ियों से ले आते हैं।

मस्तिष्क के कार्य में अहम भूमिका अदा करने वाले इन दोनों गुणसूत्रों को सीओएमटी और टीपीएच-2 नाम से जाना जाता है। शोध के मुख्य लेखक कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ता अर्मेन गोएनजियान ने कहा कि हमें शोध में तनाव बढ़ने की समस्या और सीओएमटी और टीपीएच-2 गुणसूत्रों के बीच महत्वपूर्ण संबंध का पता चला। ये गुणसूत्र ही इस मानसिक तनाव की बीमारी को लगातार बढ़ाए रखने के लिए जिम्मेदार है।

और खतरनाक हुआ डेंगू, छीनी आंखों की रोशनी


Published on Jan 11, 2015 at 21:25 | Updated Jan 11, 2015 at 22:01
0 IBNLive

मुंबई। डेंगू का मच्छर अब और भी खतरनाक होता जा रहा है, अब डेंगू से लोगों की ऑखों की रोशनी भी जाने लगी है। मुंबई में ही डेंगू के चलते आंखों की रोशनी जाने के तीन मामले सामने आए हैं। डॉक्टर इनमें सिर्फ एक ही मरीज की आंखों की रोशनी बचाने में कामयाब हो सके। डेंगू के इस नए लक्षण से डॉक्टर भी हैरान है।

मुंबई में रहने वाले 24 साल विशाल नवाले की आंखों का इलाज चल रहा है। पिछले साल अक्टूबर में अचानक विशाल की आंखों की रोशनी चली गई थी। डॉक्टरों को भी समझ नहीं आया कि ऐसा क्यों हुआ। जब उसके खून की जांच कराई गई तो पता चला कि विशाल को डेंगू है। डॉक्टर समझ नहीं पा रहे थे कि आखिर डेंगू का आंखों की रोशनी से क्या लेना-देना। आगे की जांच हुई तो चौंकाने वाला खुलासा हुआ कि डेंगू का वायरस आंखों तक पहुंच गया था। आंख में वायरस पहुंचने के चलते विशाल को दिखाई देना बंद हो गया था।

'हर हिंदू के 4 बच्चे', सपने कैसे होंगे सच्चे!


Published on Jan 09, 2015 at 16:56 | Updated Jan 09, 2015 at 20:57
0 IBNLive

साभारः factchecker.in

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के सांसद साक्षी महाराज चाहते हैं कि मुस्लिमों की बढ़ती आबादी का मुकाबला करने के लिए हिंदू महिलाएं चार-चार बच्चे पैदा करें। दूसरी ओर विश्व हिंदू परिषद के नेता प्रवीण तोगड़िया तीन-तीन बच्चों की ख्वाहिश लगाए बैठे हैं। बिगड़े बोल वाले इन नेताओं की बात को यदि कुछ देर के लिए गंभीरता से ले भी लिया जाए तो सवाल उठता है कि क्या वाकई भारतीय महिलाएं इतने बच्चे पैदा करने में सक्षम हैं। अगर केंद्र सरकार के आंकड़े देखें और उनमें दर्ज भारतीयों की कुल प्रजनन दर यानी टीएफआर पर नजर डालें तो इसका जवाब है...बिल्कुल नहीं!

किसी आबादी के टीएफआर से आशय है उसमें शामिल महिलाओं द्वारा अपनी प्रजनन उम्र के दौरान जन्म दिए गए बच्चों की औसत संख्या। रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया के मुताबिक भारत में महिलाओं की टीएफआर 2006 के 2.8 से घटकर 2012 में 2.4 तक जा चुकी है। पिछले तकरीबन 45 साल से ये लगातार नीचे गिरती जा रही है। 1970 में ये 4.7 थी जब भारत की आबादी 55 करोड़ 50 लाख थी जबकि आज ये सवा अरब के आसपास है।

जी हां फिट रहते हैं बार-बार आंखें तरेरने वाले!


Published on Jan 09, 2015 at 13:34 | Updated Jan 09, 2015 at 13:57
0 IBNLive

न्यूयॉर्क। आमतौर पर यह माना जाता है कि क्रोध तन और मन दोनों के लिए नुकसानदायक होता है, लेकिन शोधकर्ताओं का कहना है कि कुछ संस्कृतियों में गुस्सा बुरे नहीं बल्कि अच्छे स्वास्थ्य का संकेत होता है। अध्ययन में पता चला है कि अत्यधिक क्रोध को जापानी लोग बेहतर जैविक स्वास्थ्य से जोड़कर देखते हैं।

यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के मनोविज्ञानी शिनोबु कितायामा के मुताबिक, क्रोध को बुरे स्वास्थ्य से जोड़कर देखना आमतौर पर पश्चिमी संस्कृति का हिस्सा है, जहां गुस्से को निराशा, निर्धनता, निम्न जीवन स्तर और उन सभी कारकों से जोड़कर देखा जाता है, जो स्वास्थ को नुकसान पहुंचाते हैं।

सावधानः बच्चों की नींद चुरा रहा है स्मार्टफोन

  • एजेंसियां

Published on Jan 06, 2015 at 14:35 | Updated Jan 06, 2015 at 14:40
0 IBNLive

नई दिल्ली। अगर आपका बच्चा रात को ठीक से सो नहीं पाता या उसके सोने का समय धीरे-धीरे कम होता जा रहा है तो इसके पीछे आपके बेडरूम में रखा स्मार्टफोन या टैबलेट बड़ी वजह हो सकती है। एक अमेरिकी अध्ययन में ये बात सामने आई है कि ऐसे बच्चे जो रात को स्मार्टफोन या टैबलेट पर वक्त बिताते हैं, सामान्य बच्चों की तुलना में कम अच्छी नींद ले पाते हैं।

अध्ययन में 2000 स्कूली बच्चों को शामिल किया गया और पाया गया कि स्मार्टफोन या टैबलेट की छोटी स्क्रीन टीवी सेट की तुलना में नींद पर ज्यादा खराब असर डालती है। कुल मिलाकर ऐसे बच्चे जिनके पास स्मार्टफोन या टैबलेट है, अन्य बच्चों की तुलना में प्रति दिन 21 मिनट कम सो पाते हैं। यही नहीं जिन बच्चों के बेडरूम में टीवी लगा है वो बिना टीवी वाले बेडरूम में सो रहे बच्चों की तुलना में 18 मिनट कम सो पाते हैं।

पढ़ें: पूरे साल आपको फिट रखेंगे ये टिप्स


Published on Jan 02, 2015 at 10:15 | Updated Jan 02, 2015 at 10:31
0 IBNLive

लॉस एंजेलिस| नए साल में सभी कुछ न कुछ बेहतर करने और पाने के लिए शपथ ले चुके होंगे, लेकिन स्वास्थ्य आपकी उन सभी प्रतिज्ञाओं के पूरा होने में आड़े न आए, इसके लिए आपको नए साल में उचित आहार और सही व्यायाम अपनाना होगा। वेबसाइट 'पीपुल डॉट कॉम' की रिपोर्ट के मुताबिक, स्वास्थ्य विशेषज्ञ ट्रेसी एंडरसन ने आने वाले वर्ष में स्वस्थ रहने के लिए कुछ ऐसी ही शानदार तरकीबें बताई हैं :-

* वांछित स्वास्थ्य हासिल करने के प्रति ईमानदारी बरतें: आपको सबसे पहले ईमानदारी से चिह्न्ति करना होगा कि आप कैसा स्वास्थ्य चाहते हैं और आपका मौजूदा स्वास्थ्य उस दिशा में कहां है। इसके बाद आपको निर्धारित स्वास्थ्य प्रदान करने वाले व्यायामों को अपनाना होगा।

ऑनलाइन गर्भपात? हो सकता है जान को खतरा


Published on Dec 31, 2014 at 09:37
0 IBNLive

नई दिल्ली। इंटरनेट के जरिए अब पूरी दुनिया एक क्लिक पर आपके सामने होती है। तकनीक में हो रहे विकास से लाभ तो बहुत है, मगर सावधानी भी जरूरी है। इंटरनेट पर नए-नए ऑफर युवाओं को आकर्षित करते हैं। आजकल देखा जा रहा है कि वेस्टर्न संस्कृति से प्रभावित कई लड़कियां शादी से पहले गर्भवती होने पर इंटरनेट पर दवा सर्च कर स्वयं गर्भपात कर लेती हैं। ऐसा करना बेहद खतरनाक है। एक लड़की का अपने सहकर्मी के साथ प्रेम संबंध था, अक्सर ऑफिस के काम से उन्हें साथ में ही शहर से बाहर जाना पड़ता था। काम के दौरान मौजमस्ती के बीच एक दिन उसको पता चला कि वह गर्भवती हो गई है। घर परिवार और समाज में बदनामी के डर से उसने खुद से ही गर्भपात करने का निश्चय किया। गर्भपात करने की जानकारी के लिए कृतिका ने इंटरनेट सर्च करना शुरू किया।

नेट में पढ़ी जानकारी के मुताबिक, ओरल पिल्स के द्वारा अबॉशर्न उसको बहुत सरल लगा। वह दवाई खरीद कर लाई और बिना किसी डॉक्टर की सलाह लिए गोलियां खा लीं। दवा की दूसरी डोज लेते ही उसे बहुत तेजी से ब्लीडिंग शुरू हो गई। लगातार ब्लीडिंग होने से वह बहुत कमजोर हो गई, हालत बहुत ज्यादा बिगड़ गई और आखिर में उसे डॉक्टर की शरण में जाना ही पड़ा।

इन बीमारियों को न्योता देता है आपका मोटापा!


Published on Dec 30, 2014 at 10:21
0 IBNLive

नई दिल्ली| फोर्टिस हॉस्पिटल में मेटाबोलिक एंड बॅरिएट्रिक सर्जरी के निदेशक डॉ. अतुल पीटर्स का कहना है कि मोटापा जहां कई बीमारियों की जड़ है वहीं यह मधुमेह के लिए मुख्य खतरा माना जाता है, क्योंकि इससे शरीर में रक्तप्रवाह पर खासा असर पड़ता है। जब आप पहले से मधुमेहग्रस्त होते हैं तो वजन घटाने में काफी परेशानी हो जाती है।

एक आंकलन के अनुसार, मधुमेह के 80 प्रतिशत मामलों में मोटापा प्रमुख कारण होता है। पिछले दशक से तकरीबन एक अरब लोग मधुमेह और मोटापे की जकड़ में आ चुके हैं। अनियंत्रित मधुमेह कई बड़े खतरे जैसे- दिल का दौरा, दिमागी दौरा, अंधापन, फेफड़े का खराब होना, शरीर की नसों को हानि आदि बीमारियां पैदा कर सकती हैं, जिसके चलते शरीर का कोई अंग काटना भी पड़ सकता है।





IBN7IBN7
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

ऑटो

एपल के नए प्रोडक्ट एपल वॉच से तकनीक के मार्केट में हलचल पैदा हो गई है। ये कहने वालों की कमी नहीं है कि एपल वॉच की सफलता पर ही एपल के सीईओ टिम कुक का भविष्य टिका हुआ है।
देश में पेट्रोल के दाम गिरने और डीजल कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटने के बाद इन दोनों वाहन ईंधनों के मूल्य का अंतर धीरे-धीरे काम होता जा रहा है।
सेडान सेगमेंट में मिल रहे कॉम्पिटिशन की वजह से ह्युंदई इस सेगमेंट में थोड़ी पीछे चल रही थी। लेकिन ह्युंदई अब फिर से वरना को नये अवतार में 16 फरवरी को लॉन्च करने जा रही है।
ibnliveibnlive