IBN7IBN7

माइक्रोसॉफ्ट ने लॉन्च किए 3 नए स्मार्टफोन


Published on Oct 01, 2014 at 14:51 | Updated Oct 01, 2014 at 15:03
0 IBNLive

नई दिल्ली। माइक्रोसॉफ्ट डिवाइसेज ने आज भारतीय बाजार में ल्यूमिया सीरीज में तीन नए स्मार्टफोन ल्यूमिया 730, ल्यूमिया 830 ल्यूमिया 930 पेश करने की घोषणा की। माइक्रोसॉफ्ट मोबाइल्स ओए की सहायक कंपनी नोकिया इंडिया सेल्स प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अजय मेहता ने तीनो नए स्मार्टफोन पेश करते हुए बताया कि ल्युमिया 930 में 20 मेगापिक्सल कैमरा है। इसमें 2.2 गीगाहर्ट्ज स्नैपड्रैगन क्वाडकोर प्रोसेसर के साथ माइक्रोसॉफ्ट की एकीकृत सेवाएं भी मिलेगी। यह फोन 15 अक्टूबर से भारतीय बाजार में मिलेगा और इसकी कीमत 38649 रुपये है।

उन्होंने बताया कि ल्यूमिया 830 में 10 मेगापिक्सल का कैमरा है जो उच्च गुणवत्ता की तस्वीरें और वीडियो के लिए उपयुक्त है। यह फोन आठ अक्टूबर से बिक्री के लिए उपलब्ध होगा। इसकी कीमत 28799 रुपये है।

ये छोटी सी घड़ी बताऐगी आपके दिल का हाल!


Published on Sep 26, 2014 at 11:05
0 IBNLive

वाशिंगटन। वैज्ञानिकों ने अपनी तरह के पहले ऐसे चिकित्सकीय उपकरण का विकास किया है, जो दिल और त्वचा की स्वास्थ्य संबंधी समस्या से आपको आगाह कर देगा। पांच वर्ग सेंटीमीटर छोटा यह उपकरण स्वास्थ्य जांच के लिए सीधे त्वचा पर रखा जा सकता है या इसे घड़ी की तरह कलाई पर पहना जा सकता है।

जब इस उपकरण का रंग बदल जाता है, तो समझ जाइए स्वास्थ्य में कुछ गड़बड़ी है। नॉर्थवेस्टर्न विश्वविद्यालय के वरिष्ठ शोधकर्ताओं में से एक योंगांग हुआंग ने कहा कि हमारा उपकरण यांत्रिक तौर पर अदृश्य है। यह इतना पतला है कि अगर इसे त्वचा पर रख लें, तो इसका पता भी नहीं चल पाता।

HTC नवंबर में लॉन्च करेगा दो नए स्मार्टफोन


Published on Sep 23, 2014 at 15:40 | Updated Sep 23, 2014 at 15:43
0 IBNLive

नई दिल्ली। चीनी मोबाइल फोन निर्माता कंपनी एचटीसी नवंबर के आरंभ में दो सिम वाले डिजायर 820 और डिजायर 820क्यू स्मार्टफोन लॉन्च करेगी। कंपनी का कहना है कि इनकी कीमत की घोषणा लॉन्चिंग से पहले की जाएगी। डिजायर 820 में 13 मेगा पिक्सल का रियर कैमरा और आठ मेगा पिक्सल का फ्रंट कैमरा होगा। इसमें 16 गीगा बाइट (जीबी) की इंटरनल मैमोरी होगी जिसे एसडी कार्ड के जरिए 128 जीबी तक बढ़ाया जा सकता है। इसका रैम दो जीबी का होगा। इसके स्क्रीन का रेजलूशन 720 गुना 1280 और आकार 5.5 इंच होगा। इसमें क्वालकाम स्नैपड्रैगन 615 प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया है।

वहीं डिजायर 820क्यू में क्वालकाम स्नैपड्रैगन 410 प्रोसेसर होगा और इसका रैम एक जीबी का होगा। इसके अलावा सभी हार्डवेयर डिजायर 820 के समान ही होगा। दोनों फोन एंड्रायड 4.4 किटकैट ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करते हैं। इसके साथ ही कंपनी ने डिजायर 816 के सिर्फ जीएसएम सिम वाले संस्करण डिजायर 816जी की भी लॉन्चिंग किया है जिसकी कीमत 18990 रुपये है। हार्डवेयर के मामले में नया संस्करण पुराने से थोड़ा कमजोर है। इसका मुख्य कैमरा 13 मेगा पिक्सेल, फ्रंट कैमरा पांच मेगा पिक्सेल, स्क्रीन 5.5 इंच, इंटरनल मैमोरी आठ जीबी और प्रोसेसर क्वाडकोर मीडिया टेक है।

अब आपका दिमाग पढ़ सकता है ये एंड्रॉयड एप!


Published on Sep 20, 2014 at 12:31 | Updated Sep 20, 2014 at 14:55
0 IBNLive

न्यूयॉर्क। अब आपका स्मार्ट फोन आपको बता सकेगा कि आप तनाव या अवसाद में हैं। शोधकर्ताओं ने एक ऐसे एप्लीकेशन तैयार किए हैं जो उपयोगकर्ता के मानसिक स्वास्थ्य, शैक्षिक प्रदर्शन और व्यवहार के बारे में बताता है। छात्रों के शैक्षिक प्रदर्शन, उनकी खुशी, तनाव, अवसाद और अकेलेपन के बारे में जानकारी देने वाला 'स्टूडेंटलाइफ एप' नामक इस एप्लीकेशन का प्रयोग सामान्य लोग भी मानसिक स्वास्थ्य की निगरानी करने, कार्यालय में कर्मचारियों की उत्पादकता में सुधार करने के लिए कर सकते हैं।

अमेरिका के डर्टमाउथ कॉलेज के प्रोफेसर एंड्र कैंपबेल ने बताया कि यह बहुत महत्वपूर्ण और रोमांचक खोज है। कैंपबेल ने बताया कि स्टूडेंटलाइफ एप चौबीसों घंटे और सातों दिन लगातार मानसिक स्वास्थ्य आकलन करने में सक्षम है। शोधकर्ताओं ने यह एंड्रॉयड एप 48 छात्रों के स्मार्टफोन के सेंसर की रीडिंग के माध्यम से 10 सप्ताह की अवधि में इन छात्रों के मानसिक स्वास्थ्य (अवसाद, तनाव, अकेलापन), शैक्षिक प्रदर्शन (अपनी कक्षाओं में श्रेणी) और व्यवहार का आंकलन किया।

इंटेल ने भारत में लॉन्च किया टू-इन-वन टैबलेट


Published on Sep 19, 2014 at 09:30
0 IBNLive

नई दिल्ली| चिप निर्माता कंपनी इंटेल ने भारतीय बातार में एक टू-इन-वन टैबलेट लांच किया। कंपनी यह जानकारी यहां एक बयान जारी कर दी और बताया कि टैबलेटों की बिक्री ई-कॉमर्स वेबसाइट स्नैपडील डॉट कॉम के जरिए होगी। इस टैबलेट के साथ एक कीपैड भी मिलेगा, जिसके साथ इसे लैपटॉप की तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है।

टैबलेट की कीमत 19,990 रुपये रखी गई है। टैबलेट 'नोशन इंक्स कैन' मं 10.1 इंच डिस्प्ले सुविधा है। इसमें 7,900 एमएएच लिथियम पॉलीमर बैटरी और इंटेल एटम प्रोसेसर जेड3735डी लगाया गया है।

अब बच्चों के लिए इंटेल ने लॉन्च किया टैबलेट


Published on Sep 16, 2014 at 14:58
0 IBNLive

नई दिल्ली। कैलीफोर्निया की चिप निर्माता कंपनी इंटेल और मेटिस लर्निग ने आज 2-10 साल के बच्चों के लिए टैबलेट लांच किए। यह जानकारी यहां एक अधिकारी ने दी। टैबलेट की कीमत 9,999 रुपये है। इंटेल के विपणन क्षेत्र के दक्षिण एशिया निदेशक संदीप अरोड़ा ने कहा है कि भारत में प्रौद्योगिकी का बाजार बदल रहा है। टैबलेट का उपयोग शिक्षा में किया जा सकता है। बच्चों के टैबलेट 'एडी' का प्रदर्शन बेहतर है और बैटरी लंबे समय तक चलती है तथा इसमें शिक्षा से संबंधित बेहतरीन सामग्री है।

मेटिस लर्निग सोल्यूशंस के सह-संस्थापक भरत गुलिया ने कहा कि कंपनी ने इस टैबलेट के लिए 500 बच्चों के साथ एक पायलट परियोजना की थी। उन्होंने कहा है कि हमने इसे तैयार करने में 2-3 साल लगाया। बच्चों को ऐसा कुछ दिया जाना बेहद जरूरी है, जिसमें वे रम सकें। उनके जीवन का यह बेहद महत्वपूर्ण समय होता है। एडी में एंड्रायट 4.2 का इस्तेमाल किया गया है। इसकी आंतरिक स्टोरेज क्षमता 16 जीबी है, जिसे बढ़कर 32 जीबी किया जा सकता है। बच्चों में भावनात्मक और वैचारिक क्षमता का विकास करने के लिए इसमें 160 एप्लिकेशन डाले गए हैं। देश में अभी टैबलेट का बाजार 40 लाख का है। इसका 10 फीसदी बच्चों के टैबलेट का बाजार है। गुलिया ने कहा है कि हम स्कूलों और प्री-स्कूलों से गठजोड़ कर रहे हैं। प्री-स्कूल विशेष दिलचस्पी ले रहे हैं। एक महीने तक यह ई-कॉमर्स साइट अमेजन पर मिलेगा। उसके बाद यह साधारण रिटेल स्टोरों में मिलने लगेगा।

टैग विदेशी, अंदाज देसी, बोले तो एंड्रॉइड वन!


Published on Sep 16, 2014 at 14:10 | Updated Sep 16, 2014 at 18:15
0 IBNLive

जितेंद्र जायसवाल

नई दिल्ली। गूगल ने आज अपना बहुप्रतीक्षित एंड्रॉइड वन फोन भारत में लांच किया। जिसे देश के सूचना प्रौद्योगिकी जगत में एक क्रांति के रूप में देखा जा रहा है। गूगल का यह फोन अपने भागीदारों माइक्रोमैक्स, स्पाइस और कार्बन के माध्यम से दुनिया में सबसे पहले भारत में लांच किया गया है।

आईफोन 6 सुपरहिट, 24 घंटे में 40 लाख बुकिंग


Published on Sep 16, 2014 at 10:09
0 IBNLive

नई दिल्ली। नए आईफोन सुपरहिट हो गए हैं। पिछले हफ्ते लॉन्च हुए आईफोन 6 और 6प्लस, शायद अब तक के सबसे ज्यादा सफल आईफोन बनने जा रहे हैं। आईफोन 6 और आईफोन 6 प्लस को अमेरिका में शानदार रिस्पांस मिला है। बुकिंग शुरू होने के 24 घंटे में ही आईफोन 6 और आईफोन 6 प्लस के लिए 40 लाख लोगों ने ऑर्डर दिया है।

2 साल पहले लॉन्च हुए आईफोन 5 के मुकाबले आईफोन 6 और आईफोन 6 प्लस की दोगुनी बुकिंग हुई है। आईफोन 5 के लिए पहले दिन 20 लाख लोगों ने ऑर्डर दिया था। आईफोन 6 और आईफोन 6 प्लस की मांग सप्लाई से काफी ज्यादा है। कंपनी के मुताबिक लोगों को शुक्रवार से डिलीवरी मिलनी शुरू हो जाएगी।

एप्पल का धमाका: आईफोन-6, आईवॉच लॉन्च


Published on Sep 10, 2014 at 19:55
0 IBNLive

नई दिल्ली। स्मार्ट फोन के बाजार में एप्पल ने नया धमाका किया है। मंगलवार की रात एप्पल ने अपने आईफोन-6 और आईफोन-6 प्लस को अमेरिका में लॉन्च किया। तकनीक की दुनिया में नए प्रयोग के लिए जाने, जाने वाले एप्पल ने नए आईफोन्स के साथ अपना पहला वीयरेबल इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस एप्पल वॉच भी लॉन्च किया। एप्पल के नए आईफोन को बाजार का ट्रेंड बदलने वाला भी माना जा रहा है, क्योंकि इसमें आईफोन की खासियत तो है ही। एंड्रॉयड फोन की तरह ये बड़े आकार की स्क्रीन वाला भी है। इसीलिए आईफोन को कहा जा रहा है सुपर फोन।

4.7 और 5.5 इंच के पहले से ज्यादा बड़े स्क्रीन वाले, हाई-स्क्रीन रेजोल्यूशन के लिए रेटीना एचडी तकनीक वाले, लेटेस्ट IOS8 प्रोसेसर और A8 चिप वाले, 8 मेगा पिक्सल कैमरे वाले, प्रिंट आईडेंटिटी सेंसर से लैस टच स्क्रीन वाले आईफोन6 की लॉन्चिंग के साथ ही धूम मच गई है।

एप्पल ने लॉन्च किया iphone 6 और iphone 6+

  • ibnkhabar.com

Published on Sep 10, 2014 at 09:58
0 IBNLive

नई दिल्ली। दुनिया की सबसे बड़ी स्मार्टफोन कंपनी एप्पल ने अपने दो नए स्मार्टफोन आईफोन-6 और आईफोन 6+ लॉन्च किया है। कैलिफोर्निया में एप्पल के सीईओ टिम कुक ने कल ये दोनों स्मार्टफोन लॉन्च किए। ये दोनों स्मार्टफोन आईफोन-5 के मुकाबले 25 फीसदी ज्यादा तेज बताए जा रहे हैं।

यह दोनों आईफोन बड़े स्क्रीन वाले हैं। इन स्मार्टफोन के स्क्रीन साइज 4.7 और 5.5 इंच है। आईफोन 6 का स्क्रीन रेजॉल्यूशन 750 x 1,334 pixel है, जबकि आईफोन 6 प्लस 1920 x 1080 पिक्सल रेजॉल्यूशन के रेटिना HD डिस्प्ले से लैस है।





IBN7IBN7
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

हैल्थ

दुनिया में तकरीबन 74.8 करोड़ लोगों को नियमित रूप से साफ पानी नहीं मिल रहा है और करीब 18 लाख लोगों को दूषित पानी से अपनी जरूरतें पूरी करनी पड़ रहीं हैं।
अगर आप अपने बच्चों पर ज्यादा फल खाने का दबाव डालते हैं, तो ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा फलाहार के भी बुरे परिणाम हो सकते हैं, जो बच्चों में अवसाद के रूप में सामने आ सकते हैं।
डेंगू का कहर एक बार फिर शुरू हो चुका है। देश के कई इलाकों से डेंगू फैलने की खबरे सामने आने लगी हैं। दिल्ली में भी डेंगू अपने पैर पसार रहा है।
ibnliveibnlive