IBN7IBN7

मूवी रिव्यू: शानदार है हॉलीवुड की 'किंग्समैन'

  • राजीव मसंद
Published on Feb 28, 2015 at 18:06 | Updated Feb 28, 2015 at 23:24
0 IBNKhabar

मुंबई। ‘किंग्समैन: द सीक्रेट सर्विस’ कार्टून वायलेंस और बेअदब हास्य को दर्शाती है, ये वास्तव में वही वाइल्ड एंटरटेनिंग एक्सपीरियंस देती है, जिसके लिए हम सिनेमा जाते हैं। ये क्लासिक जेम्स बॉन्ड फिल्मों का धोखा, डायरेक्टर मैथ्यू वॉघन के रेप्यूटेशन को आज के इनवेंटिव फिल्ममेकर के दौर पर बढ़ती है।

न्यूकमर टारों एगेर्टों, एक छोटे मोटे बदमाश एग्से के किरदार में है, जिसे हैरी हर्ट नाम का एजेंट अपनी शरण में लेता है और उसे जासूसों की सुपर सीक्रेट संगठन किंग्समैन का हिस्सा बनाता है। उच्च वर्ग के ट्रैनीस के बैच के सामने अपनी क्षमता को साबित करता एग्से, किंग्समैन के हैड ऑर्थर यानी माइकल साइन को इम्प्रेस करता है, जिसके बाद एग्से को उसका पहला बड़ा मिशन सौंपा जाता है, जहां उसे दुनिया को शैतान बिल्लिओनेरे रिचमंड वैलेंटाइन यानी सेमुअल एल जेक्शन के खतरनाक इरादों से बचाना है।

मूवी रिव्यू: नाना के लिए देखें 'अब तक छप्पन-2'

  • राजीव मसंद
Published on Feb 28, 2015 at 17:59 | Updated Feb 28, 2015 at 23:21
0 IBNKhabar

नई दिल्ली। ‘अब तक छप्पन-2’ सच कहा जाए तो पूरी तरह से एक पॉइन्टलेस सीक्वल है जिसकी कोई वजह ही नहीं है। इसमें ना तो कोई कहानी और ना ही कोई संबंध, यहां तक कि सिर्फ एक घंटे 40 मिनट होने के बावजूद भी ये फिल्म बहुत ज्यादा लंबी और बेतुकी लगती है।

2004 की फिल्म से अलग जो एनकाउंटर स्पेशलिस्ट दया नायक की जिंदगी से प्रेरित थी, इस सीक्वल की कहानी आज कोई महत्व नहीं रखती। अब अंडरवर्ल्ड फिल्मों का वो खतरनाक विलेन नहीं रहा जो किसी समय में हुआ करता था, और ये भी एक वजह है जो इस फिल्म के आधार को पुराना बना देता है।

मूवी रिव्यू: चार्मिंग फिल्म है 'दम लगा के हईशा'

  • राजीव मसंद
Published on Feb 28, 2015 at 17:49 | Updated Feb 28, 2015 at 23:22
0 IBNKhabar

मुंबई। फिल्म ‘दम लगा के हईशा’ का टाइटल काफी आकर्षक है। ये शब्द जो उस समय बोले जाते हैं जब आप कोई ऐसा काम कर रहे हैं जिसमें जोर लगाना पड़ता है, ये कोई गुजरे हुए जमाने की पुरानी यादों को याद दिलाता है। यही वो पुरानी यादें है जिसे लेखक-डायरेक्टर शरत कटारिया अपनी फिल्म में इतनी आसानी से क्रिएट करते हैं जिसमें 90 के दशक को दर्शाया गया है और उत्तर भारत के छोटे से गांव हरिद्वार में जो ग्लोबलाइजेशन के दौर में जैसे बहुत पीछे नजर आता है।

अयुष्मान खुराना, प्रेम प्रकाश तिवारी के किरदार में हैं या लप्पू जो उसे प्यार से बुलाया जाता है। वो दसवीं फेल 25 साल को लड़का है जो अपने पिता की ऑडियो केसेट रिपेयर की दुकान में बैठता है और कुमार सानू के हिट गाने सुनता रहता है। उसके परिवार द्वारा जोर जबरदस्ती करने पर उसकी शादी एक पढ़ी लिखी पर मोटी लड़की संध्या यानी न्यूकमर भूमि पेडनेकर से कर दी जाती है, पर वो अपनी इस नई नवेली दुल्हन से बिल्कुल भी प्यार नहीं कर पाता।

दर्शक बोले, नाना के लिए देखें ‘अब तक छप्पन-2’

  • अजय भारतीय
Published on Feb 28, 2015 at 09:01 | Updated Feb 28, 2015 at 16:37
0 IBNKhabar

नई दिल्ली। बड़े पर्दे पर 'अब तक छप्पन-2’ रिलीज हो गई है। ये फिल्म डायरेक्टर शिमित अमीन की फिल्म 'अब तक छप्पन' जो 2004 में आई थी उसकी सीक्वल है। इस फिल्म में नाना पाटेकर, आशुतोष राणा, गुल पनाग, मोहन अगाशे, गोविंद नामदेव, राजेंद्रनाथ जुत्शी, रेवाथी, विक्रम गोखले मुख्य किरदार में हैं। पौने दो घंटे की इस फिल्म में शुरू से लेकर अंत तक मारधाड़ और एक्शन है।

एक्टिंग: ‘अब तक छप्पन 2’ के जरिए कमबैक कर रहे नाना पाटेकर(साधु अगाशे) अपने किरदार के साथ फिट नजर आते हैं। फिल्म में नाना के मारधाड़ एक्शन और दमदार डायलॉग डिलीवरी को देखकर ऐसा कहीं नहीं लगता है कि नाना 64 साल को हो चुके हैं। करप्ट इंस्पेक्टर की भूमिका में आशुतोष राणा (सुर्याकांत थोरट) भी किसी के कम नहीं दिखे है। वहीं विक्रम गोखले का किरदार फिल्म की अहम कड़ी है। गुल पनाग (शालू दीक्षित) जो इस फिल्म में क्राइम रिर्पोटर के किरदार में हैं वो काफी प्रभावित करती हैं। गोविंद नामदेव पुलिस कमिश्नर के रोल में हैं।

दर्शक बोले 'दम लगा के हइशा' में दम तो है!

  • अजय भारतीय
Published on Feb 27, 2015 at 17:27 | Updated Feb 28, 2015 at 00:28
0 IBNKhabar

नई दिल्ली। बड़े पर्दे पर आज यशराज बैनर की फिल्म ‘दम लगा के हइशा’रिलीज हो गई। रोमांटिक-कॉमेडी फिल्म में अयुष्मान खुराना और भूमि पेडनेकर लीड रोल में हैं। भूमि पेडनेकर इस फिल्म से डेब्यू कर रही हैं। फिल्म हरिद्वार-ऋषिकेश के मध्यवर्गीय विचारधारा को दर्शाती है। देहाती भाषा-शैली होने के कारण लोग खुद को फिल्म के ज्यादा करीब पाते हैं।

सेंसर बोर्ड ने फिल्म को यू/ए सर्टिफिकेट दिया है यानी इसे परिवार के साथ देखा जा सकता है। हालांकि सेंसर बोर्ड के नए नियम का फिल्म में साफ असर दिखा और इसके तीन शब्दों को बीप किया गया है।

रिव्यू: सरप्राइज करेगी 'बदलापुर'

  • राजीव मसंद
Published on Feb 22, 2015 at 09:38 | Updated Feb 22, 2015 at 16:33
0 IBNKhabar

मुंबई। एक ऐसी फिल्म देखना जिसमें आपको ये नहीं पता की आगे क्या होगा, एक शानदार एक्सपीरियंस होता है और ऐसी ही अनप्रिडिक्टेबल और बेहतरीन ट्विस्ट्स के साथ फिल्म 'बदलापुर' ले कर आते हैं डायरेक्टर श्रीराम राघवन। फिल्म हीरो और विलेन के बीच की लड़ाई को बहुत ही खूबी के साथ दिखाती है।

पुणे के एवरेज वर्किंग मिडल क्लास आदमी रघु के किरदार में हैं वरुण धवन, जिसकी पत्नी और बेटे की हत्या एक बैंक रॉबरी के दौरान हो जाती है। इस लूट में शामिल दो लोगों में से एक है लायक यानी नवाजुद्दीन सिद्दीकी जिसे फौरन गिरफ्तार कर लिया जाता है और उसे 20 साल की सजा हो जाती है।

रिव्यू: 'किस्सा' की कहानी दिमाग से नहीं निकाल पाएंगे

  • राजीव मसंद
Published on Feb 22, 2015 at 09:36 | Updated Feb 22, 2015 at 12:55
0 IBNKhabar

मुंबई। इस हफ्ते सिनेमाघरों में रिलीज हुई फिल्मों में से एक है 'किस्सा' जो कहानी है एक ऐसी लड़की की जो लड़के की तरह बढ़ी होती है। फिल्म फोकस करती है पारटिशन में अपना घर छोड़ कर आए सिख अमबर सिंग यानी इरफान खान पर जिसे बेटा पाने की इतनी इच्छा है की वो अपनी चौथी बेटी को बेटे की तरह बड़ा करता है। उसकी पत्नी मेहर यानी टिस्का चोपड़ा और उसकी बड़ी बेटियां इस बात को मान के चलती हैं की कनवर आदमी है।

फिर भले ही वो कन्फ्यूज़्ड बच्ची एक टॉर्चर्ड आदमी के तौर पर बड़ी होती है। जब एक दिन अमबर, कनवर यानी तिलोटाम्मा शॉमे को एक लड़की नीली यानी रसिका दुग्गल के साथ फ्लर्ट करते देखता है। वो उनकी शादी करवाता है जिसके बाद जेंडर कन्फ्यूजन और ज्यादा बढ़ता है बुरे नतीजे सामने आते हैं। ‘किस्सा’ से आपका ध्यान तब उठना शुरू हो जाता है जब वो एक सुपरनैचुरल मोड़ की ओर बढ़ने लगती है।

फिल्म समीक्षा: सब्र की परीक्षा लेती है 'रॉय'

  • राजीव मसंद
Published on Feb 14, 2015 at 22:28 | Updated Feb 16, 2015 at 11:58
0 IBNKhabar

मुंबई। ‘रॉय’ देखने के बाद आप मूवी बिजनेस के बारे में सोच में पड़ जाएंगे। क्या रणबीर कपूर का एक्सटेंडिड कैमियो ही काफी है एक प्रोड्यूसर के लिए, इस बोरिंग, बचकानी और कमजोर फिल्म में पैसा डालने के लिए? जो भी इस फिल्म से जुड़ा है क्या उनमें से किसी ने भी सेट पर जाने से पहले फिल्म की स्क्रिप्ट पढ़ी थी?

चार बड़े किरदार पर बनी इस फिल्म के फालतू से प्लॉट में और भी कई सवाल हैं जिनके जवाब नहीं मिल पाते। कबीर ग्रेवाल के किरदार में अर्जुन रामपाल एक फिल्म फिल्म डायरेक्टर हैं जो अपनी फिल्म की शूटिंग के लिए मलेशिया आए हैं, पर उनकी स्क्रिप्ट अब तक दूर-दूर तक तैयार नहीं है। आयशा आमिर के किरदार में जैक्लीन फर्नाडीज लंदन में बसी एक फिल्ममेकर हैं और वो भी अपनी फिल्म की शूटिंग के लिए मलेशिया आईं हैं, हालांकि हम उन्हें कहीं भी एक्टर्स या क्रू के पास ऐसा कुछ करते नहीं देखते जो उनके काम को दर्शाता हो।

मूवी रिव्यू: ‘वाइल्ड कार्ड’ देख, बोर महसूस करेंगे

  • राजीव मसंद
Published on Feb 07, 2015 at 14:41 | Updated Feb 11, 2015 at 15:24
0 IBNKhabar

मुंबई। मुझे याद नहीं मैने आखिरी बार किसी एक्टर को स्क्रीन पर इतना बोर्ड देखा हो जितना जेसन फिल्म ‘वाइल्ड कार्ड’ में नजर आते हैं उनकी थकी हुई आंखों में हार नजर आती है। उनके वन-लाइनर्स में कोई दम नहीं है और वो हद से ज्यादा सीन्स में किसी और ही दुनिया में खोए हुए नजर आते हैं। निक वाइल्ड के किरदार में स्टैथम, लॉस वेगास में प्राइवेट बॉडीगार्ड की नौकरी करता है, जो इस बड़े से शहर से निकल कर नई जिंदगी शुरू करना चाहता है पर जब एक खतरनाक गैंगस्टर उसकी एक दोस्त के साथ बदतमीज़ी करता है, वो अपनी दोस्त की मदद करता है। उस गैगस्टर से बदला लेने में पर इस बीच वो खुद को खतरनाक ठगों के गैंग के बीच फंसा हुआ पाता है। ‘एक्सपेंडेबल’ के डायरेक्टर सिमोन वेस्ट फिल्म में कुछ ज्यादा ही स्लोमोशन एक्शन सीन्स का इस्तेमाल करते हैं जिनमें दुश्मनों से लड़ने के लिए स्टाथम अपने हाथ, अपने पैर यहां तक की चम्मच और क्रेडिट कार्ड और हर उस चीज का इस्तेमाल करते हैं जो उनकी पहुंच में है। अफसोस की बात है कि ये फाइट सीक्वेन्स जरा भी थ्रिलिंग नही है स्टाथम इन सीन्स में कुछ ज्यादा एनर्जी नहीं डालते और वो फिल्म के गैंबलिंग सीन्स जैसे ही डल और बोरिंग लगते हैं।

फिल्म का वो ट्रैक और भी बकवास है जिसमें निक एक यंग बिलियनेयर को वेगास की सैर कराता है। ये सब इतना बुरा नहीं लगता अगर फिल्म में इतना सारा टैलेंट भरा नहीं होता। सबसे ज्यादा अफसोस की बात है कि ‘वाइल्ड कार्ड’ के स्क्रिप्ट राइटर हैं ऑस्कर विनिंग बुच कैसिडी और ‘सनडांस किड’ के स्क्रीन राइटर विलियम गोल्ड्मन जिन्होंने मानो ये फिल्म सिर्फ पैसों के लिए लिखी है। बस 90 मिनट होने के बावजूद ये फिल्म बेहद लंबी लगती है और अंत में आप खुद एक किरदार जैसा बोर्ड महसूस करेंगे। मैं ‘वाइल्ड कार्ड’ को पांच में से डेढ़ स्टार देता हूं। खुद को इस बकवास और निराशा से दूर ही रखिए।

मूवी रिव्यू: अनोखे कॉन्सेप्ट के लिए देखें 'शमिताभ'

  • राजीव मसंद
Published on Feb 07, 2015 at 14:03 | Updated Feb 11, 2015 at 15:43
0 IBNKhabar

मुंबई। 'शमिताभ' में भी अपनी पिछली फिल्मों ‘चीनी कम’ और ‘पा’ की ही तरह डायरेक्टर आर. बाल्की की फिल्म ‘शमिताभ’ का प्रेमिस बेहद अनोखा और ओरिजिनल है। फिल्म इंडस्ट्री को एक नया स्टार मिलता है जब एक स्ट्रग्लिंग एक्टर जिसमें टैलेंट तो है पर वो बोल नहीं सकता, वो एक चिड़चिड़े शराबी की आवाज उधार लेता है। शराबी के रोल में हैं अमिताभ बच्चन बाल्की इस हटके आइडिया को बहुत ही खूबी के साथ फिल्म में पेश करते हैं जो एक तरफ पार्ट्नरशिप और ईगो पर बना ड्रामा है और दूसरी तरफ बॉलीवुड के अंदर की एक झलक भी।

फिर भी उनकी पिछली फिल्मों की ही तरह हालांकि इसका कॉन्सेप्ट शानदार है, इसकी कहानी में कमी है और ये अपने सेकेंड हाफ में ढीली पड़ती है। चार्मिंग फ्लैशबैक के साथ फिल्म की शुरुआत अच्छी होती है जहां ह्यूम मिलवाया जाता है फिल्म के प्रोटैगनिस्ट दानिश से जो फिल्मों का दीवाना है। इस बात से बेपरवाह कि वो बोल नहीं सकता वो एक्टर बनने का सपना देखता है और जो भी उसका हुनर देखने के लिए तैयार होता है वो फौरन उसके सामने परफॉर्म करने लगता है।





IBN7IBN7
ibnliveibnlive

हॉलीवुड

पॉप सिंगर मडोना लंदन में एक समारोह के दौरान स्टेज पर ही गिर गईं। मडोना ब्रिट पुरस्कार समारोह में परफॉर्म कर रही थीं तभी अचानक वो मंच पर से फिसल गईं।
सिनेमा के क्षेत्र में दुनिया भर में सबसे प्रतिषठित ऑस्कर्स अवॉर्ड का ऐलान हो गया है। बर्डमैन को बेस्ट फिल्म के अवॉर्ड से नवाजा गया है।
निकोल बताती हैं कि कुछ सालों पहले उन्हें एक खतरनाक शौक की लत लग गई थी। निकोल सांपों के साथ पार्टी करती थी। घर में मेहमान भरे रहते थे और लॉन में निकोल सापों का जमघट लगाकर रखती थीं
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

बॉलीवुड

होली में अब कुछ दिन ही बचे हैं। होली की खुमारी तमाम चैनलों पर दिखाई देने लगी है। ज्यादातर चैनल होली पर होली स्पेशल शो चला रहे हैं।
फिल्मों में कमाल दिखाने वाले बॉलीवुड स्टार पर्दे पर तो हिट रहे हैं पर पढ़ाई के मामले में ज्यादातर अभिनेता फ्लॉप हैं।
बॉलीवुड के ‘दंबग’ अभिनेता सलमान खान के खिलाफ काले हिरण के शिकार में चल रहे अवैध हथियार के मामले में आज फैसला टाल दिया है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

टीवी

वीडियो जॉकी और एंकर अर्चना विजय स्टंट आधारित रियलिटी शो 'खतरों के खिलाड़ी-डर का ब्लॉकबस्टर रिट्नर्स' से बेदखल होने वाली तीसरी प्रतिभागी बन गई हैं।
कोरियोग्राफर फराह खान का कहना है कि रिएलिटी शो बिग बॉस हल्ला बोल में सलमान खान की जगह लेना महिला सशक्तीकरण का प्रतीक है।
रियलिटी शो 'बिग बॉस हल्ला बोल' जीतने के बाद गौतम गुलाटी ने कहा कि अब वह टेलीविजन के बजाए फिल्मों में अभिनय पर अधिक ध्यान देंगे।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

कंट्रोवर्सी

मुंबई कोर्ट ने करण जोहर, अभिनेता अर्जुन कपूर, रणबीर सिंह,अभिनेत्री दीपिका पादुकोण और आलिया भट्ट के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं।
राखी सावंत की दोस्त ने गुरुवार रात एक फिल्म की म्यूजिक लांच के दौरान स्टेज पर ही फिल्म निर्माता को थप्पड़ मार दिया।
स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों में गिरफ्तार किए गए राजस्थान रॉयल्स और केरल के तेज गेंदबाज शांतकुमारन श्रीशांत के जीवन पर मलयालम में फिल्म बन सकती है।
ibnliveibnlive
ibnliveibnlive

इंटरव्यू

सोनम कपूर किसी से कम नहीं हैं। विज्ञापन और फिल्में ज्यादा नहीं तो क्या हुआ। फैशन वर्ल्ड में तो सोनम का अच्छा खासा नाम है।
वरुण धवन की फिल्म ‘बदलापुर’ बहुत जल्द रिलीज होने जा रही है। फिल्म में वरुण के साथ यामी गौतम भी मुख्य भूमिका में हैं जो कि उनकी पत्नी का किरदार निभा रही हैं।
बॉलीवुड अभिनेत्री मल्लिका शहरावत लंबे समय बाद जल्द ही बड़े पर्दे पर नजर आने वाली हैं। मल्लिका की फिल्म ‘डर्टी पॉलिट्क्स’ जल्द ही रिलीज होने वाली है।
ibnliveibnlive