आप यहाँ हैं » होम » कारोबार

रोजाना हो रहा है 570 करोड़ का घाटा: इंडियन ऑयल

| May 08, 2012 at 11:23am | Updated May 08, 2012 at 11:25am

नई दिल्ली। डॉलर के मुकाबले रुपये में आई थोड़ी मजबूती से तेल मार्केटिंग कंपनियों की चिंताएं कम हुई हैं। साथ ही कच्चे तेल में आई नरमी की खबरों ने तेल मार्केटिंग कंपनियों को राहत पहुंचाने का काम किया है। फिर भी इंडियन ऑयल के डायरेक्टर (फाइनेंस) पी के गोयल का कहना है कि फिलहाल तेल मार्केटिंग कंपनियों को रोजाना 570 करोड़ रुपये का घाटा हो रहा है।

पी के गोयल के मुताबिक फिलहाल पेट्रोल पर 7.17 रुपये प्रति लीटर, डीजल पर 13.91 रुपये प्रति लीटर, केरोसिन पर 31.49 रुपये प्रति लीटर और एलपीजी पर 480.50 रुपये प्रति सिलिंडर का घाटा तेल मार्केटिंग कंपनियों को उठाना पड़ रहा है। पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें ना बढ़ाने की सूरत में आईओसी ने सरकार को एक्साइज ड्यूटी घटाने के लिए अर्जी दी है ताकि घाटा कम हो सके।

पी के गोयल ने बताया कि डॉलर के मुकाबले 1 रुपये की मजबूती से तेल मार्केटिंग कंपनियों का कुल घाटा 4,700 करोड़ रुपये से कम होता है। वहीं कच्चे तेल में 1 डॉलर की नरमी से इंडियन ऑयल को 10.8 लाख डॉलर का फायदा होता है। इंडियन ऑयल रोजाना 10.8 लाख बैरल कच्चा तेल खरीदता है।

दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!

अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!

इसे न भूलें