आप यहाँ हैं » होम » देश

अन्ना की हुंकार, भ्रष्ट मंत्रियों से मैं भी नहीं करूंगा बात

| Jul 31, 2012 at 09:21pm

नई दिल्ली। टीम अन्ना और सरकार के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है। सरकार टीम अन्ना का अनशन खत्म कराने के लिए कोई पहल नहीं करना चाहती। दूसरी ओर अन्ना हजारे ने कह दिया है कि वे भी भ्रष्ट मंत्रियों से बात नहीं करना चाहते। अन्ना ने आज ये भी संकेत दिया कि वे सरकार से मिला पद्मभूषण सम्मान भी वापस कर सकते हैं। उधर, अपने ऊपर हुए हमले से बौखलाई बीजेपी ने भी टीम अन्ना पर निशाना साधा है।

जंतर मंतर पर टीम अन्ना के अनशन का सातवां दिन था लेकिन न अनशनकारियों के हौसले में कमी दिखी, न समर्थकों के। करीब छह हजार लोग तिरंगा लहराते हुए टीम अन्ना के सुर में सुर मिलाते झूमते रहे। टीम अन्ना का दावा है कि जंतर-मंतर से उठी लहर देश के कोने-कोने तक पहुंच रही है, लेकिन बमुश्किल दो किलोमीटर मौजूद सत्ता केंद्र पर इस लहर का कोई असर नहीं। सूत्रों के मुताबिक सरकार ने तय किया है कि वो अनशन खत्म करने की अपील या बातचीत की पहल नहीं करेगी।

सरकार के मुताबिक टीम अन्ना देश को बंधक बना रही है। उसे शुक्रगुजार होना चाहिए कि उन मंत्रियों ने मानहानि का दावा नहीं किया है जिन पर टीम अन्ना ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। बहरहाल, अगर अनशन की वजह से अन्ना की सेहत ज्यादा खराब हुई तो स्थापित प्रक्रिया अपनाई जाएगी।

उधर, सरकार के रुख को भांपते हुए टीम अन्ना ने भी तेवर कड़े कर दिए हैं। अन्ना हजारे ने लोगों के भारी जोश के बीच एलान कर दिया कि वे भी भ्रष्ट मंत्रियों से बात करके अपने ऊपर दाग नहीं लगाना चाहते। यही नहीं, पद्मश्री सम्मान पहले ही लौटा देने वाले अन्ना हजारे ने ये भी कह दिया कि वे समय आने पर पद्मभूषण भी लौटा देंगे।

उधर, टीम अन्ना के बदलते तेवर से मुख्य विपक्षी दल बीजेपी भी परेशान है। अरविंद केजरीवाल ने जिस तरह कांग्रेस के साथ-साथ बीजेपी को भी खारिज किया है, उसने आंदोलन से फायदा उठाने की पार्टी की रणनीति पर पानी फेर दिया है। जाहिर है, बीजेपी नेताओं की भाषा बदल गई है।

पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन शुरू किया था इसलिए सबने उनका समर्थन किया लेकिन ये कहना की पूरी व्यवस्था ही खराब है, इससे लोगों का व्यवस्था पर से विश्वास उठेगा। हर पार्टी में अच्छे बुरे लोग होते हैं। उनके आंदोलन में भी अच्छे और बुरे लोग हैं। बीजेपी अपना लोकपाल बिल तैयार कर रही है उसको जल्द ही जनता के सामने पेश करेगी।

टीम अन्ना के इस हौसले के पीछे लोगों का बढ़ता हुआ समर्थन है। मंगलवार को पूर्व नौसेनाध्यक्ष आर एच तहिलियानी ने भी जंतर-मंतर पर पहुंचकर अन्ना के आंदोलन को समर्थन दिया। लोग कामकाज छोड़कर और तमाम परेशानियों से दो-चार होते हुए अनशन स्थल पर पहुंच रहे हैं। ऐसे में टीम अन्ना को लगता है कि पिछली बार की कहानी एक बार फिर दोहराई जा सकती है।

दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!

अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!

इसे न भूलें