आप यहाँ हैं » होम » देश

बैंगलोर में अफवाह से सहम उठे नॉर्थ ईस्ट के लोग, पलायन

| Aug 16, 2012 at 09:34am | Updated Aug 16, 2012 at 01:30pm

बैंगलोर। बैंगलोर में कुछ शरारती तत्वों की वजह से उत्तर पूर्व के एक खास समुदाय के लोगों के मन में जबरदस्त दहशत है। हालत ये है कि बड़ी संख्या में लोग डर से पलायन कर रहे हैं। हालांकि इस डर की वजह पूरी तरह से अफवाह है। बिना किसी आधार के डराने वाली अफवाहें फैलाई जा रही हैं। इससे चिंतित सरकार लोगों को सुरक्षा का भरोसा देने में जुट गई है। खुद प्रधानमंत्री ने पूरे मामले में राज्य के मुख्यमंत्री से बात की है। गृहमंत्रालय इस वक्त देश भर के सांप्रदायिक हालात पर एक रिपोर्ट तैयार कर रही है। इसके लिए तमाम राज्यों से संपर्क किया गया है। ये रिपोर्ट प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को सौंपी जाएगी।

बैंगलोर में उतर पूर्वी के लोगों के एक खास समुदाय के खिलाफ अफवाहों का बाजार गर्म है जिसकी वजह से बैंगलोर से करीब 3500 लोग गुवाहाटी चले गए हैं। गौरतलब है कि यह अफवाहें असम में हो रहे सांप्रदायिक दंगों के बाद उठी हैं। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बुधवार देर रात कर्नाटक के मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टर से भी इस बारे में बात की। आज सुबह मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टर इस मामले को लेकर पुलिस और उत्तर पूर्व के कुछ संगठनों के साथ बैठक भी की।

पढ़ें: कर्नाटक में क्यों उड़ी असम के नाम पर अफवाह?

बुधवार रात बैंगलोर सिटी रेलवे स्टेशन पर नजर आने वाली भीड़ सामान्य नहीं थी। ये उत्तर पूर्व के रहने वाले वो लोग थे जो इन दिनों दहशत में हैं। एक खास समुदाय से ताल्लुक रखने वाले ये सभी बैंगलोर छोड़कर अपने घर जाने की तैयारी में थे। असल में इन लोगों को एक अफवाह ने डरा रखा है। बैंगलोर में बुधवार से अफवाह फैली है कि यहां एक समुदाय के खिलाफ साजिश रची जा रही है। लोगों को डर है कि इन्हें निशाना बनाया जा सकता है। ऐसे में इन लोगों ने नौकरी छोड़कर घर जाना ही बेहतर समझा।

लोग इतनी भारी संख्या में पलायन कर रहे हैं कि इनके लिए रेलवे को दो अतिरिक्त ट्रेनों का इंतजाम करना पड़ा। दोनों ट्रेन गुवाहाटी भेजी गईं। हालांकि हम आपको बता दें कि साजिश की बात अफवाह है, इसमें कोई दम नहीं। बैंगलोर ही नहीं कर्नाटक के किसी हिस्से से किसी तरह की हिंसा की कोई खबर नहीं है लेकिन फिर भी लोग जोखिम लेने को तैयार नहीं। बैंगलोर से इतनी बड़ी तादाद में उतर पूर्वी लोगों के पलायन को देखते हुए सरकार हरकत में आई।

बुधवार देर रात कर्नाटक के गृह मंत्री खुद रेलवे स्टेशन गए। गृह मंत्री ने घर लौटने वालों से बात की और उन्हें सुरक्षा देने का भरोसा दिया। मामले की नजाकत को भांपकर खुद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टर से बात की। सरकार और प्रशासन मुस्तैद है। कर्नाटक के डीजीपी ने बैंगलोर के पुलिस कमिश्नर के साथ इमरजेंसी मीटिंग की,

मीटिंग में हालात का जायजा लिया, मुख्यमंत्री भी आज एक उच्च स्तरीय बैठक करेंगे। इस बैठक में गृह मंत्री के अलावा राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भी रहेंगे।

फिलहाल सरकार के सामने पहली प्राथमिकता लोगों को सुरक्षा का भरोसा देना है। इसके बाद सरकार अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी। ऐसा करना बेहद जरूरी है। केंद्रीय गृह सचिव आर के सिंह ने कहा है कि बैंगलोर में सिर्फ अफवाह फैलाई जा रही है। गृह सचिव ने लोगों से अपील की है कि अफवाहों पर ध्यान दें।

केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे का कहना है कि उत्तर-पूर्व के छात्रों को बैंगलोर में कोई खतरा नहीं है। पीएम और खुद उन्होंने कर्नाटक के सीएम से बात की है। वहां के लोगों को भी जानकारी दी गई है कि इस तरह की कोई घटना नहीं है। भीड़ के लिए ज्यादा ट्रेनें लगाने को कहा है। आज सुबह दो और ट्रेनें लगाई गई हैं। अफवाहें फैलाने वालों के बारे में तुरंत सूचना देने के लिए कहा है।

गृह मंत्री ने टीवी चैनलों के माध्यम से कहा कि देश में शांति है और किसी तरह की अफवाहें न फैलाई जाए। उन्होंने कहा कि अफवाह फैलाने वाले से सख्ती से निबटा जाएगा। इस बीच एक नंबर जारी किया गया है जिसपर किसी भी चिंताजनक हालात में संपर्क किया जा सकता है। नंबर है 9480801020

दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

ताजा चुनाव अपडेट पाने के लिए IBNkhabar की मोबाइल एप डाउनलोड करें।

IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!

अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!

इसे न भूलें