आप यहाँ हैं » होम » पॉलिटिक्स

राज ठाकरे ने रिटेल में एफडीआई का किया समर्थन

| Sep 18, 2012 at 05:49pm

मुंबई। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे ने रिटेल में एफडीआई का समर्थन किया है। जबकि डीजल के दाम बढ़ाने का विरोध किया है। राज ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत बंद का मनसे समर्थन करता है। इस फैसले में वो बंद के समर्थन में है।

साथ ही राज ठाकरे ने कहा कि भ्रष्टाचार पर भारत बंद होना चाहीए, लेकिन जिन लोगों ने करोड़ों के स्कैम किए हैं उनकी गिरफ्तारी भी होनी चाहिए। ठाकरे ने कहा कि स्कैम में देश का लाखों–करोड़ों लूटा जा रहा है। और बदले में महंगाई थोपी जा रही है।

एफडीआई के बारे में राज ठाकरे ने कहा कि इससे बेरोजगार, किसान और ग्राहकों को फायदा होगा। साथ ही उन्होंने चेतावनी भी जारी की कि एफडीआई के माध्यम से जो कंपनियां महाराष्ट्र में आएंगी। उन्हें मैं अभी से बता दे रहा हूं कि उसमें महाराष्ट्र के लोगों को रोजगार मिलने चाहिए। इस बात को मैं बार बार नहीं बताऊंगा।

उन्होंने डीजल के दाम बढ़ाने के मुद्दे पर कहा कि दाम बढ़ाना सरकार की मजबूरी है। देश को इसे भी देखना चाहिए। ऐसे में राज्यों को टैक्स कम करना चाहीए। केंद्र का समर्थन करते हुए राज ने कहा कि टैक्स कम करने के बावजूद अंतर्राष्ट्रीय मार्केट को देखते हुए सबसिडी के बाद केंद्र को काफी नुकसान हो रहा है। इस सब्सिडी पर पुनर्विचार होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि डीजल के दाम बढ़ाने के फैसले को मनसे का विरोध जरूर है,लेकिन एफडीआई पर मनसे सरकार के साथ है। उन्होंने कहा कि जो राज्य एफडीआई का विरोध कर रहे हैं उनके यहां के बेरोजगारों का बोझा महाराष्ट्र नहीं ढोएगा। एफडीआई से किसानों को फायदा होगा ये किसान नेताओं का कहना हैं।

राज ने कहा कि ऐसा कहा जा रहा है कि विदेशी कम्पनियां भारत में आकर लूटेंगी। उन्होंने कहा कि क्या भारतीय कंपनियां लूट नहीं रही हैं? उनको लगता है कि विवाद ये है कि भारतीय कंपनियां लूटे या फिर विदेशी कंपनियां लूटे, मसला ये है।

दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

ताजा चुनाव अपडेट पाने के लिए IBNkhabar की मोबाइल एप डाउनलोड करें।

IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!

अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!

इसे न भूलें