आप यहाँ हैं » होम » सिटी खबरें

गैंगरेप मामले में बेकसूर को धर दबोचा, MMS लोगों में बंटा

| Sep 28, 2012 at 08:00pm | Updated Sep 28, 2012 at 08:38pm

जींद। हरियाणा में कांग्रेस की सरकार जिस तरह से राजकाज चला रही है, उसकी दुहाई कांग्रेस के दूसरे नेताओं से लेकर खुद पार्टी के महासचिव राहुल गांधी जब-तब देते रहते हैं। हफ्तेभर पहले जींद इलाके में एक महिला के साथ बंदूक के बल पर गैंगरेप हुआ। इस मामले के तूल पकड़ने के बाद पुलिस ने मामला तो दर्ज कर लिया, लेकिन अब पुलिस वाहवाही लूटने के लिए असली गुनहगार को न पकड़ बेकसूरों पर शिकंजा कस रही है।

दरअसल जींद के पिल्लूखेड़ा गैंगरेप मामले में पुलिस पर एक बेकसूर को गिरफ्तार करने का आरोप लगा है। पीड़ित की माने तो गुरुवार को पुलिस ने इस मामले में एक शख्स को गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद आरोपी को पहचान के लिए पीड़िता के सामने पेश किया गया। पीड़ित महिला की माने तो जिस शख्स को उसके सामने पेश किया गया उसे वो जानती तक नहीं। पीड़ित महिला के मुताबिक पुलिस असली गुनहगारों को बचाने की कोशिश कर रही है। पीड़ित महिला का दावा है कि गुरुवार को जिस शख्स को पकड़ा गया है उसका पूरे मामले से कोई लेना-देना नहीं है। आरोपी महिला जो कुछ कह रही है उससे तो यही लगता है कि आरोपियों के प्रभावशाली जाति के होने की वजह से पुलिस जांच और कार्रवाई में आनाकानी कर रही है।

वहीं दूसरी ओर पुलिस का दावा है कि मामले की गंभीरता को देखते हुए पीड़ित महिला को पूरी सुरक्षा दी गई है। पीड़ित महिला की सुरक्षा में 2 महिला कांस्टेबल और 1 पुलिसकर्मी को तैनात किया गया है। लेकिन पुलिस के सुरक्षा के तमाम दावों के बावजूद पीड़ित महिला को धमकाया जा रहा है। पीड़ित महिला को केस वापस लेने की धमकी दी जा रही है। ऐसा नहीं करने पर जान से मारने की धमकी दी जा रही है। पीड़ित महिला से समझौता करने को कहा जा रहा है। ऐसा करने पर परिवार आरोपी को खुद ही सजा देने का झांसा दे रहा है।

यही नहीं, हरियाणा पुलिस के कामकाज के तरीके पर इससे भी सवाल उठता है कि पुलिस ने आरोपियों के द्वारा बनाए गए MMS की बात की अनदेखी कर दी। पुलिस का दावा है कि उन्हें ऐसी शिकायत ही नहीं मिली है और जब शिकायत मिलेगी तो इस केस में एक और धारा और जोड़ दी जाएगी। पुलिस की इस सुस्ती से इतर आरोपियों के दुस्साहस की वजह से इलाके में गैंगरेप का MMS बंट चुका है।

दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!

अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!

इसे न भूलें