आप यहाँ हैं » होम » पॉलिटिक्स

वाड्रा की जांच पर अड़ा विपक्ष, कांग्रेस का इंकार

| Oct 11, 2012 at 09:40pm | Updated Oct 11, 2012 at 11:36pm

नई दिल्ली। रॉबर्ट वाड्रा पर लगे आरोपों पर राजनीतिक उठापटक का दौर जारी है। अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया है कि गुड़गांव में डीएलएफ ने लैंडयूज बदलने की मंजूरी मिले बगैर, एक कंपनी से अस्पताल की जमीन खरीदने का करार कर लिया। उधर, विपक्ष भी वाड्रा और डीएलएफ को लेकर लग रहे आरोपों की जांच पर अड़ा

है। लेकिन कांग्रेस इस मांग को पूरी तरह खारिज कर रही है।

अरविंद केजरीवाल के मुताबिक गुड़गांव के सुखराली गांव के पास सरकार ने 1986 में जमीन अधिग्रहण किया था। लेकिन एक कंपनी की 30 एकड़ जमीन अधिग्रहण से इसलिए बाहर रखी गई थी कि वहां अस्पताल बनेगा। करीब बीस साल बाद ये जमीन व्यावसायिक उपयोग के लिए डीएलएफ ने खरीद ली। अरविंद का आरोप है कि बिना सरकार की मंजूरी के ऐसा नहीं किया जा सकता था। लेकिन डीएलएफ को सरकार पर इस कदर भरोसा था कि 21 फरवरी 2005 को उसने जमीन खरीदने के लिए सहमतिपत्र पर हस्ताक्षर किए और 31 मार्च 2005 को जमीन का लैंड यूज बदलने के लिए सरकार के पास आवेदन किया।

बहरहाल, डीएलएफ ने एक बार फिर अरविंद के सभी आरोपों को खारिज किया है। डीएलएफ के मुताबिक अरविंद केजरीवाल अपनी राजनीतिक महात्वाकांक्षा के तहत ऐसे आरोप लगा रहे हैं। उधर, कांग्रेस भी पूरी ताकत से वाड्रा का बचाव कर रही है। पार्टी जांच की मांग को बेमानी बताते हुए दावा कर रही है कि वाड्रा की कोई सरकारी या राजनीतिक हैसियत नहीं है। लेकिन बीजेपी ने सवाल उठाया है कि अगर वाड्रा की सिर्फ निजी हैसियत है तो तो उन्हें एसपीजी की सुविधा क्यों मिली है?

दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!

अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!

इसे न भूलें