आप यहाँ हैं » होम » लाइफस्टाइल

महाभारत की सच्चाई के प्रमाण

| Jun 30, 2008 at 12:42pm | Updated May 27, 2009 at 04:17pm

होशियारपुर। इस जगह पर और तमाम ऐसे प्रमाण खुदाई में मिले हैं जो पांच हजार साल पुराने महाभारत की सच्चाई बयान करते हैं।

पंजाब के होशियारपुर के इसी गांव में भीम का वो मंदिर भी है जिससे जुड़ी एक ही बहुत विचित्र कहानी। यहीं आसपास है वो किला जिसमें राजा जनमेजय रहा करता था। और जब इस किले की खुदाई हुई तो तमाम हड्डियां इसके अंदर से निकली।

इस जगह पर सर्प मेध यज्ञ हुआ था। इसलिए मान्यता है कि यहां सांप के जहर का कोई असर नहीं पड़ता। सैकड़ों किलोमीटर दूर से सर्प दंश के शिकार लोग यहां आते हैं और कहा ये जाता है कि यहां आते ही वो ठीक भी हो जाते हैं।

मालूम हो कि राजा परीक्षित अभिन्यु के बटे थे और राजा जनमेजय परीक्षित के बेटे थे। यहां पर सर्प मेध यज्ञ के बाद राजा जनमेजय संन्यासी बनकर जंगल में चले गए थे।

दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!

अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!

इसे न भूलें