आप यहाँ हैं » होम » देश

दिल्ली गैंगरेप: 5 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

| Jan 03, 2013 at 05:15pm | Updated Jan 03, 2013 at 09:31pm

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने चलती बस में गैंगरेप केस में आज पांच आरोपियों के गुनाहों की फेहरिस्त यानि चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर दी। छठा आरोपी खुद को नाबालिग बता रहा है इसलिए पुलिस उसकी उम्र का पता लगाने वाली रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। हालांकि, पुलिस का मानना है कि ये कथित नाबालिग ही पूरे हमले का सूत्रधार था।

राजधानी की सड़कों पर चलती बस में 6 लोगों ने एक मेडिकल छात्रा के साथ बड़ी बेरहमी और हैवानियत के साथ गैंगरेप किया, दुनियाभर की दवा और दुआ भी उसे नहीं बचा पाई। दिल्ली पुलिस ने गुरुवार शाम करीब 5 बजे लंबे इंतजार के बाद इस केस की चार्जशीट कोर्ट में दायर कर दी। ये चार्जशीट दिल्ली की साकेत कोर्ट में ड्यूटी मैजिस्ट्रेट के सामने दाखिल की गई।

पुलिस बेहद नाटकीय ढंग से कोर्ट में पेश हुई और चार्जशीट दाखिल कर दी। अमूमन मजिस्ट्रेट के सामने चार्जशीट फाइल की जाती है लेकिन पुलिस ने इस मामले में ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने दाखिल कर दी। सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने फिलहाल 33 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की है। हालांकि सबूतों और साइंटिफिक टेस्ट को मिलाकर पुलिस ने करीब 650 पन्नों की चार्जशीट तैयार की है। जिसे 5 जनवरी को इलेक्ट्रॉनिक चार्जशीट के रूप में कोर्ट में जमा कराया जाएगा। अदालत 5 जनवरी को ही चार्जशीट पर संज्ञान लेगी।

साकेत कोर्ट में ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने पेश की गई चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने छह में से पांच आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया है। दरअसल छठा आरोपी खुद को नाबालिग बता रहा है, लिहाजा उसके खिलाफ आरोप पत्र बाल अदालत में ही दाखिल हो सकता है। उसकी उम्र जानने के लिए पुलिस ने साइंटिफिक टेस्ट करवाया है जिसकी रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक पांचों आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट में 9 धाराएं लगाई गई हैं। इन धाराओं के मुताबिक ही पुलिस ने केस का मजमून तैयार किया है। इन धाराओं में हत्या, बलात्कार, अपहरण और डकैती के आरोप अहम हैं। सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट में खुद को नाबालिग बता रहे आरोपी को ही सबसे बड़ा विलेन बताया है। उसे ही पूरी वारदात का सूत्रधार कहा है। चार्जशीट में

पुलिस ने लिखा है कि सबसे दुर्दांत आरोपी वो है जो खुद को नाबालिग बता रहा है। गैंग रेप, हत्या की कोशिश, हत्या और डकैती की इस पूरी वारदात का सूत्रधार यही कथित नाबालिग है।

दिल्ली पुलिस इस कथित नाबालिग की उम्र का पता लगाने के लिए बोन ऑसिफिकेशन टेस्ट का इंतजार कर रही है। दरअसल ये हड्डियों का वो टेस्ट होता है जिससे किसी की उम्र की पहचान होती है। टेस्ट रिपोर्ट में अगर कथित नाबालिग को नाबालिग नहीं पाया जाता है तो उसके खिलाफ भी हत्या, बलात्कार और डकैती समेत तमाम धाराओं में मामला दर्ज होगा। अगर वो नाबालिग साबित होता है तो फिर उसके खिलाफ जुवेनाइल एक्ट के तहत कार्रवाई होगी।

हालांकि सूत्रों के मुताबिक पुलिस टेस्ट रिपोर्ट का इंतजार तो कर रही है, लेकिन वो उसे ज्यादा तरजीह नहीं दे रही। सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस इस नाबालिग के किए गए अपराध के बारे में कोर्ट को विस्तार से बताएगी और कोर्ट पर ही ये फैसला छोड़ देगी कि वो इस कथित नाबालिग के अपराध को देखकर उसके लिए क्या सजा मुकर्रर करता है।

आपको बता दें कि इस केस की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी। जहां 5 जनवरी से इस केस पर रोजाना सुनवाई होगी। वहीं इस बीच साकेत कोर्ट में वकीलों ने अभियुक्तों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरु कर दिया है। वकीलों ने अभियुक्तों का केस लड़ने से पहले ही मना कर दिया है।

दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!

अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!

Previous Comments

इसे न भूलें