आप यहाँ हैं » होम » सिटी खबरें

दिल्ली में बच्ची से फिर रेप, तोड़फोड़ और पत्थरबाजी फोटो

| Mar 01, 2013 at 04:58pm | Updated Mar 02, 2013 at 12:44am

नई दिल्ली। दिल्ली गैंगरेप कांड के बाद एक बार फिर राजधानी में दरिंदों ने दिल दहलाने वाली वारदात को अंजाम दिया है। दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके में सात साल की बच्ची के साथ रेप का मामला सामने आया है। इससे भी गंभीर आरोप ये है कि वारदात के बाद दिल्ली पुलिस केस दर्ज करनें में हीलाहवाली करती रही। पीड़ित के घरवालों के मुताबिक जब लोगों का गुस्सा सड़कों पर फूटा, तो पुलिस ने 24 घंटे बाद केस दर्ज किया। हालांकि पुलिस इन आरोपों को बेबुनियाद करार दे रही है।

सात साल की मासूम बच्ची के साथ बलात्कार के बाद गुस्साए लोगों ने मंगोलपुरी इलाके में एक के बाद एक कई सरकारी बसों में तोड़फोड़ की। जब पुलिसवाले लोगों को रोकने पहुंचे तो पत्थरबाजी करके उन्हें खदेड़ दिया गया। लोग इस बात से भी नाराज थे कि दिल्ली पुलिस ने बच्ची के साथ रेप का केस दर्ज करने में देरी लगा दी। दरअसल ये पूरा मामला शुरू हुआ गुरुवार दोपहर। पीड़ित के परिवार की मानें तो मंगोलपुर के नगर निगम के स्कूल में पढ़ने वाली बच्ची मिड डे मील लेने के लिए स्कूल गई थी। स्कूल से लौटने के बाद बच्ची बहुत डरी हुई थी और रो रही थी। घरवाले उसे तुरंत पास के डॉक्टर के पास ले गए। डॉक्टर ने आशंका जताई कि बच्ची के साथ रेप हुआ है। परिवार वालों का आरोप है कि वो इसके बाद पुलिस के पास पहुंचे, लेकिन केस नहीं दर्ज किया गया।

इस बीच बच्ची की तबीयत बिगड़ने पर उसे पास ही के संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां पीड़ित बच्ची का मेडिकल कराया गया जिसमें बलात्कार की पुष्टि हुई। घरवालों का आरोप है कि केस दर्ज करने में देरी करने के साथ ही पुलिस स्कूल से जुड़े लोगों को बचाने में लगी है। परिवार वालों का कहना है कि रेप के लिए स्कूल से जुड़े लोग ही जिम्मेदार हैं। वैसे पुलिस इस मामले में स्कूल के दो टीचरों और एक गार्ड से पूछताछ कर चुकी है। बच्ची को मिड डे मील देने वाले शख्स से भी पूछताछ हुई है।

देखें: बच्ची से रेप के बाद सड़क पर उतरे लोग, तोड़फोड़

लेकिन पूछताछ के इस दौर के बावजूद पुलिस को कोई खास जानकारी हासिल नहीं हुई है। सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने स्कूल के टीचर और गार्ड को बच्ची के सामने लाकर शिनाख्त की भी कोशिश की थी। लेकिन बच्ची इतनी घबराई हुई है कि वो किसी को पहचान नहीं पाई। पुलिस जांच के बीच जब धीरे-धीरे इलाके के लोगों को ये बात पता चली, तो उनकी नाराजगी बढ़ने लगी। पुलिस की लापरवाही और केस में किसी की गिरफ्तारी ना होने के चलते लोग और भड़क गए और सरकारी गाड़ियों पर गुस्सा उतारने लगे। बवाल बढ़ने के बाद मंगोलपुरी पुलिस को आसपास के कई थानों से सुरक्षाबल बुलाना पड़ा। लोग रेप के आरोपियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी आरोपियों को कड़ी सजा की मांग की है।

दिल्ली गैंगरेप के बाद सरकार और दिल्ली पुलिस ने बड़े-बड़े दावे किए थे कि राजधानी को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जाएगी। लेकिन मंगोलपुरी की ये तस्वीरें इन दावों की धज्जियां उड़ा रही हैं।

दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!

अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!

इसे न भूलें