22 दिसम्बर 2014

न्यूजलैटर सब्सक्राइब करें

CLOSE

Sign Up


भुलाया नहीं जा सकता रोशन के गीतों को

Updated Nov 15, 2006 at 09:49 am IST |

 

वार्ता
प्रेम कुमार
15 नवंबर 2006

मुंबई। ‘रहे ना रहे हम महका करेंगे’, ‘जिंदगी भर नहीं भूलेगी वो बरसात की रात’ जैसे अपने मधुर संगीत से फिल्मी दुनिया को सजाने-संवारने वाले महान संगीतकार रोशनलाल नागरथ उर्फ रोशन के गीतों की रोशनी फिल्म जगत की सतरंगी दुनिया को हमेशा रोशन करती रहेगी।

14 जुलाई 1917 को पंजाब के गुंजरावाला शहर में एक ठेकेदार परिवार में जन्मे रोशन का रुझान बचपन से ही अपने पिता के पेशे की ओर न होकर संगीत की ओर था। वह उस्ताद मनहर बर्वे से संगीत की शिक्षा लिया करते थे। इसके बाद उन्होंने लखनऊ में पंडित रतनजानकर और मोरिस कॉलेज आफ म्यूजिक से संगीत की शिक्षा ली थी।

वर्ष 1940 में रोशन ने दिल्ली के आकाशवाणी में बतौर संगीतकार काम शुरु किया। वर्ष 1949 में फिल्मी संगीतकार बनने का सपना लेकर वह दिल्ली से मुंबई आ गए। लगभग एक वर्ष तक मायानगरी मुंबई मे संघर्ष करने के बाद उनकी मुलाकात जाने-माने निर्माता निर्देशक केदार शर्मा से हुई।

रोशन के संगीत के अंदाज से प्रभावित केदार शर्मा ने उन्हें अपनी फिल्म ‘नेकी और बदी’ मे बतौर संगीतकार काम करने का मौका दिया। अपनी इस पहली फिल्म के जरिए भले ही रोशन सफल नहीं हो पाए, लेकिन एक संगीतकार के रूप में उन्होंने अपने सिने करियर के सफर की शुरूआत अवश्य कर दी।

वर्ष 1950 में एक बार फिर से रोशन को केदार शर्मा की फिल्म ‘बावरे नैन’ में काम करने का मौका मिला। फिल्म ‘बावरे नैन’ में मुकेश के गाए गीत ‘तेरी दुनिया में दिल लगता नहीं’ की कामयाबी के बाद रोशन फिल्मी दुनिया में एक संगीतकार के तौर पर अपनी पहचान बनाने में सफल रहे।

लगभग दस वर्षों तक मायानगरी मुंबई में संघर्ष करने के बाद 1960 में प्रदर्शित फिल्म ‘बरसात की रात’ में रोशन के संगीत से सजे गीतों ने उन्हें शोहरत और कामयाबी की बुलंदियों पर पहुंचा दिया। इसके बाद उन्हें कई अच्छी फिल्में मिली जिनमें ‘ताजमहल’, ‘दिल ही तो है’ और ‘बहू बेगम’ जैसी फिल्में शामिल हैं।

रोशन के संगीत से सजे गीतों को सबसे ज्यादा मुकेश ने अपनी आवाज दी थी। दर्द भरे नगमों के बेताज बादशाह मुकेश की आवाज का जादू और रोशन के संगीत से गीत सज उठते थे । मुकेश की आवाज से रोशन ने अपने जिन गीतों को कर्णप्रिय बनाया उनमें ‘आवाज दो कहां हो’(मल्हार, 1951), ‘भूले से मोहब्बत कर बैठा’, ‘तुम अगर मुझको ना चाहो तो’ (दिल ही तो है, 1963), ‘बहारों ने मेरा चमन लूटकर’ (देवर, 1966), ‘ओहरे ताल मिले नदी के जल में’ (अनोखी रात,1968) जैसे न भूलने वाले नगमे शामिल हैं।

रोशन के सिने कैरियर में उनकी जोड़ी गीतकार साहिर लुधियानवी के साथ भी खूब जमी। इन दोनों की जोड़ी के गीत-संगीत ने श्रोताओं को भावविभोर कर दिया। इन गीतों मे ‘ना तो कारंवा की तलाश है’, ‘जिंदगीभर नहीं भूलेगी वो बरसात की रात’ (बरसात की रात, 1960), ‘लागा चुनरी में दाग’ (दिल हीं तो है, 1963), ‘जो बात तुममें है’, ‘जो वादा किया वो निभाना पड़ेगा’ (ताजमहल, 1963), ‘मन रे तू काहे न धीरे धीरे’, (चित्रलेखा, 1964), ‘दुनिया करे सवाल तो हम क्या जवाब दें’ (बहू बेगम) आदि चर्चित गीत शामिल हैं।

साहिर लुधियानवी के अलावा रोशन के पसंदीदा गीतकारो में आनंद बख्शी, इंदीवर, नीरज आदि प्रमुख रहे हैं, जबकि उनके गीतों को स्वर देने में मुकेश, तलत महमूद, लता मंगेशकर, मोहम्मद रफी और किशोर कुमार आदि गायक शामिल हैं। गीतकार आनंद बख्शी और इंदीवर के सिने करियर के शुरूआती सफर में रोशन के संगीत का अहम योगदान रहा है। आनंद बख्शी के लिए जहां रोशन ने ‘देवर’ फिल्म के लिए संगीत दिया, वहीं इंदीवर के लिए भी रोशन ने ‘मल्हार’ का बेमिसाल संगीत दिया था। रोशन के सिने करियर पर यदि नजर डालें, तो अभिनेता प्रदीप कुमार पर फिल्माए उनके रचित गीत काफी लोकप्रिय हुआ करते थे।

शास्त्रीय संगीत और लोक संगीत दोनों प्रकार की विधाओं से समान रूप से परिचित रोशन इन दोनों प्रकार के संगीत के मिश्रण से मधुर संगीत तैयार करते थे। रोशन ने बड़े ही सहज ढंग से शास्त्रीय संगीत की राग-रागिनी का फिल्मों में सुंदर इस्तेमाल किया।

रोशन को मिले सम्मानों की चर्चा की जाए तो उन्हें उनके संगीत के लिए वर्ष 1963 में प्रदर्शित फिल्म ‘ताजमहल’ के लिए सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का ‘फिल्म फेयर’ पुरस्कार दिया गया था। हिन्दी सिने जगत को अपने बेमिसाल संगीत से सराबोर करने वाले महान संगीतकार रोशन 16 नवंबर 1967 को सदा के लिए इस दुनिया को अलविदा कह गए।

 

यह खबर आपको कैसी लगी

10 में से 0 वोट मिले

पाठकों की राय | 15 Nov 2006


कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का इस्तेमाल न करें। अभद्र शब्दों का इस्तेमाल आपको इस साइट पर राय देने से प्रतिबंधित किए जाने का कारण बन सकता है। सभी टिप्पणियां समुचित जांच के बाद प्रकशित की जाएंगी।
नाम
शहर
इमेल

आज के वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Live TV  |  Stock Market India  |  IBNLive News  |  Cricket News  |  In.com  |  Latest Movie Songs  |  Latest Videos  |  Play Online Games  |  Rss Feed  |  हमारे बारे में  |  हमारा पता  |  हमें बताइए  |  विज्ञापन  |  अस्वीकरण  |  गोपनीयता  |  शर्तें  |  साइट जानकारी
© 2011, Web18 Software Services Ltd. All Rights Reserved.